21वीं सदी का भारत, नफरत की राजनीति से नहीं, विकास की राष्ट्रनीति से चलेगा: नरेन्द्र मोदी
February 4, 2020 • Mr Arun Mishra

> पीएम  मोदी ने शाहदरा विधान सभा से भाजपा प्रत्याशी संजय गोयल के पक्ष में विशाल जनसभा को सम्बोधित किया।

> जब स्वार्थ नीति ही राजनीति का आधार हो, तो फैसले टलते भी हैं और अटकते भी हैं : पीएम

> दिल्ली बीजेपी ने संकल्प लिया है कि अनाधिकृत कॉलोनियों के तेज विकास के लिए कॉलोनीज़ डेवलपमेंट बोर्ड बनाया जाएगा।

> केंद्र सरकार की भर्तियों के लिए नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी का गठन किया जा रहा है।

> टैक्स एडमिनिस्ट्रेटर्स का दायित्व सुनिश्चित करने के लिए, टैक्स पेयर्स चार्टर बनाने जा रही है केन्द्र सरकार।

नई दिल्ली (का ० उ ० सम्पादन) दिल्ली में आगामी विधानसभा चुनावों से पहले, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को शाहदरा में एक चुनावी रैली को संबोधित किया। केंद्र शासित प्रदेश के लोगों को बधाई देते हुए, पीएम मोदी ने कहा, हर एक दिल्लीवासी के पसीने ने शहर को उस जगह तक पहुंचने में मदद की है जहां वह है। हम यहां आपके लिए जीवन को आसान बनाने के लिए हैं; दिल्ली एक शहर नहीं है, यह भारत की सांस्कृतिक विरासत है। दिल्ली ने प्रत्येक भारतीय को आश्रय दिया है। पीएम मोदी ने अनधिकृत कॉलोनियों के निवासियों द्वारा सामना की गई अनिश्चितता के अंत के वर्षों के बारे में बात की। दिल्ली के लिए, अनधिकृत कालोनियां दशकों से एक बड़ी समस्या थीं। हर राजनीतिक दल ने वोट के लिए इसका इस्तेमाल किया लेकिन किसी ने भी समस्या को हल करने की कोशिश नहीं की। यह हमारी सरकार है जिसने इस समस्या को हल किया है। हमने अवैध कॉलोनियों को नियमित करने के लिए कानून बनाया, जिससे दिल्ली के लोगों को अपने घरों को खोने का डर था, पीएम ने कहा। लोगों ने कभी नहीं सोचा था कि वे कभी भी अपने घर की रजिस्ट्री अपने जीवन में करवा पाएंगे, अब अपने सपनों को साकार होते देख रहे हैं, उन्होंने आगे कहा। प्रधानमंत्री आवास योजना को ठप करने के लिए दिल्ली सरकार पर हमला करते हुए, पीएम मोदी ने टिप्पणी की, "देश में बहुत सारे काम हो रहे हैं, लेकिन दिल्ली में यहाँ की सरकार गरीबों को घर नहीं देना चाहती। जब मैं देखता हूं पीएम -आवास योजना सिर्फ दिल्ली सरकार की वजह से दिल्ली में लागू नहीं की गई है तो मुझे दुख होता है। इसके अलावा, प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय राजधानी में चुनावी रैली में धारा 370, कार्तारपुर गलियारे के निर्माण, राष्ट्रीय युद्ध और पुलिस स्मारक और हाल ही में संशोधित नागरिकता कानून के निर्माण के मुद्दों को उठाया। प्रधानमंत्री ने आम आदमी पार्टी सरकार पर आरोप लगाया कि उसने इस मुद्दे पर इतना बड़ा आंदोलन शुरू करने के बावजूद लोकपाल को खत्म कर दिया। उन्होंने कहा, पहली बार, 10 करोड़ लोगों ने अपने घरों में शौचालय बनवाए; पहली बार 8 करोड़ बहनों को उनके घरों में गैस चूल्हा मिला; पहली बार इस देश के लोगों को लोकपाल मिला, लेकिन दिल्ली अभी भी इससे वंचित है। यह कहते हुए कि केंद्रीय बजट नए रोजगार के अवसर पैदा करने में मदद करेगा, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, बजट न केवल इस वर्ष के लिए बल्कि इस पूरे दशक के लिए दिशा देने वाला है। इस बजट का लाभ दिल्ली के युवाओं, दिल्ली के व्यापारियों, मध्यम वर्ग, गरीब और महिलाओं को मिलेगा।

दिल्ली सहित देश के व्यापारियों की शिकायत थी कि उन्हें कर अधिकारियों के दबाव का सामना करना पड़ता है। इसलिए, हमने पिछले साल अप्रत्यक्ष कर निपटान योजना शुरू की। इसके बाद, मांग की गई कि प्रत्यक्ष करों के लिए ऐसी योजना शुरू की जाए। इस बजट में, हमने इसे पूरा किया। इस बजट में, यह भी ध्यान रखा गया है कि मध्यम वर्ग के करदाताओं के पास बचाने के लिए अधिक पैसा हो। सरकार ने अब टैक्स के नए स्लैब का विकल्प दिया है। यह स्लैब भी सरल है और केवल टैक्स बचाने के लिए कुछ योजनाओं में निवेश करने का दबाव नहीं है। विपक्ष की राष्ट्र विरोधी गतिविधियों पर निशाना साधते हुए, पीएम मोदी ने कहा, ये लोग सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान हमारी सेना की क्षमता पर शक कर रहे थे। क्या दिल्ली के नागरिक सत्ता में ऐसे लोगों को चाहते हैं? ये लोग उन लोगों को बचा रहे हैं जो भारत को टुकड़ों में तोड़ना चाहते हैं। जामिया और शाहीन बाग सहित इन सभी विरोधों के पीछे एक राजनीतिक डिजाइन है। आर्टिकल 370 से मुक्ति कितने साल बाद मिली?--70 साल बाद। रामजन्मभूमि पर फैसला स्वतंत्रता के कितने साल बाद आया?--70 साल बाद। करतारपुर साहब कॉरिडोर कितने साल बाद बना?--70 साल बाद। भारत बांग्लादेश सीमा विवाद कितने साल बाद हल हुआ?--70 साल बाद। CAA से हिंदुओं-सिखों-इसाइयों को नागरिकता का अधिकार कितने साल बाद मिला?--70 साल बाद। शहीद जवानों के लिए देश में नेशनल वॉर मेमोरियल कितने साल बाद बना?—50-60 साल बाद। शहीद पुलिसकर्मियों के लिए नेशनल पुलिस मेमोरियल कितने साल बाद बना?- 50-60 साल बाद। शत्रु संपत्ति कानून कितने साल बाद लागू हुआ?--50 साल बाद। बोडो आंदोलन का समाधान करने वाला समझौता कितने साल बाद हुआ?--50 साल बाद। पूर्व सैनिकों को वन रैंक वन पेंशन का लाभ कितने साल बाद मिला?--40 साल बाद। 4 के सिख नरसंहार में दोषियों को सज़ा कितने साल बाद मिली?--34 साल बाद। वायुसेना को नेक्स्ट जनरेशन लड़ाकू विमान कितने साल बाद मिला?--35 साल बाद। बेनामी संपत्ति कानून कितने साल बाद लागू हुआ?--28 साल बाद। त्रिपुरा में ब्रू शरणार्थियों के समझौता कितने साल बाद हुआ?--23 साल बाद। चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का गठन कितने साल बाद हुआ?--20 साल बाद। देश में GST कितने साल बाद लागू हुआ?--17 साल बाद।

मोदी ने कहा कि आज देश में अटके और लटके विवादों और विषयों का समाधान तो हो ही रहा है, कई ऐसे फैसले भी लिए गए, जो पहली बार हुए हैं। पहली बार, लाल बत्ती के रौब से भारतीयों को मुक्ति मिली। पहली बार, सामान्य वर्ग के गरीबों को आरक्षण का अधिकार मिला। पहली बार, 5 लाख रुपए तक की आय पर इनकम टैक्स ज़ीरो हुआ। पहली बार, काले धन की हेरा-फेरी करने वाली साढ़े 3 लाख संदिग्ध कंपनियों को ताला लगा। पहली बार, उद्यमियों को बिजनेस से सम्मानजनक एग्जिट का मार्ग देने वाला आईबीसी कानून बना। पहली बार, देश के हर किसान परिवार के बैंक खाते में सीधी मदद मिली। पहली बार, किसानों, मज़दूरों, छोटे व्यापारियों को पेंशन की सुविधा मिली। पहली बार, 50 करोड़ गरीबों को 5 लाख रुपए तक के मुफ्त इलाज की सुविधा मिली। पहली बार, 10 करोड़ गरीब परिवारों तक टॉयलेट की सुविधा पहुंची। पहली बार, 8 करोड़ गरीब बहनों की रसोई में गैस का मुफ्त कनेक्शन पहुंचा। पहली बार ढाई करोड़ से ज्यादा लोगों के घर में बिजली कनेक्शन पहुंचा। पहली बार, नाबालिगों से रेप के केस में फांसी की सज़ा का प्रावधान हुआ। पहली बार, मुस्लिम बेटियों-बहनों को तीन तलाक से, जुल्म और ज्यादती से मुक्ति मिली। पहली बार, देश को लोकपाल भी मिला। वैसे देश के लोगों को तो लोकपाल मिल गया लेकिन दिल्ली के लोग आज भी इंतजार कर रहे हैं। इतना बड़ा आंदोलन, इतनी बड़ी-बड़ी बातें, उन सबका क्या हुआ। पीएम बोले केंद्र सरकार की भर्तियों में इंटरव्यू खत्म करने से करप्शन पर चोट हुई, अब इस नए कदम से युवाओं की बहुत बड़ी टेंशन समाप्त होगी। अब एक ही कॉमन ऑनलाइन एग्ज़ाम से एक ही परीक्षा ली जाएगी और उसके आधार पर ही, अलग-अलग सेवाओं में जाने का रास्ता खुलेगा। इस व्यवस्था की देखरेख के लिए नेशनल रिक्रूटमेंट एजेंसी का गठन किया जा रहा है। अभी तक एक करोड़ रुपए तक के टर्नओवर वाले लघु उद्योगों को, व्यापारियों को ऑडिट कराना पड़ता था। अब इस सीमा को 5 करोड़ रुपए तक बढ़ा दिया गया है। ये सरकार का देश के उद्यमियों पर, दिल्ली के लाखों व्यापारियों-कारोबारियों पर विश्वास का ही उदाहरण है। पीएम ने कहा हमारी सरकार टैक्स एडमिनिस्ट्रेटर्स का दायित्व सुनिश्चित करने के लिए, एक कानून बनाने जा रही है, टैक्स पेयर्स चार्टर बनाने जा रही है। इस चार्टर के माध्यम से ईमानदार करदाताओं के हितों की रक्षा की जाएगी। पीएम बोले एक समय था जब दिल्ली में आए दिन आतंकी हमलों की वजह से, बम धमाकों में निर्दोष लोग मारे जाते थे। देश के सुरक्षाबलों और दिल्ली के लोगों की सतर्कता से अब ये हमले होने रुक गए हैं। लेकिन याद करिए, जब इन्हीं हमलों के गुनहगारों को दिल्ली पुलिस ने बाटला हाउस में मार गिराया, तो उसे फर्जी एनकाउंटर कहा गया। यही वो लोग हैं जिन्होंने बाटला हाउस में आतंकियों को मारने पर दिल्ली पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। पीएम मोदी ने दिल्ली के लोगों से अपील की कि वे एक मजबूत सरकार के लिए बड़ी संख्या में मतदान करें जो भ्रष्टाचार मुक्त है और नागरिकों से भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार का चुनाव करने का आग्रह किया है।