आधुनिक सुविधाओं से लैस ये नई इमारतें चार केन्द्रीय विद्यालयों में शिक्षण प्रक्रिया को और मजबूत करेंगी
October 9, 2020 • Mr Arun Mishra

> सभी अनुमोदित केन्द्रीय विद्यालयों के लिए भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया को तेज करें राज्य सरकारें : डॉ रमेश पोखरियाल

> केन्द्रीय विद्यालयों के सभी चार नए भवनों का निर्माण ‘ग्रीन बिल्डिंग’ मानदंडों के अनुसार किया गया है और अधिकतम जल संरक्षण सुनिश्चित करने के लिए वर्षा जल संचयन प्रणाली के साथ सुविधा प्रदान की गई है।

8 अक्टूबर 2020 को नयागढ़, राईरंगपुर (ओडिशा), हनुमानगढ़ (राजस्थान) एवं फरीदाबाद (हरियाणा) में नवनिर्मित केंद्रीय विद्यालय भवनों का वर्चुअल लोकार्पण करते केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल 'निशंक'।

नई दिल्ली (पी आई बी)। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से गुरुवार 8 अक्टूबर को चार केन्द्रीय विद्यालयों के नव-निर्मित भवनों का उद्घाटन किया। तीन राज्यों में उद्घाटन किए गए चार केन्द्रीय विद्यालयों के भवनों में केन्द्रीय विद्यालय नयागढ़ (ओडिशा), केन्द्रीय विद्यालय महुलडीहा, रायरंगपुर (ओडिशा), केन्द्रीय विद्यालय हनुमानगढ़ (राजस्थान) और केन्द्रीय विद्यालय नंबर 3 फरीदाबाद (हरियाणा) शामिल हैं। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समारोह को संबोधित करते हुए रमेश पोखरियाल ‘निशंक ने कहा कि लगभग 70 करोड़ रुपये की कुल लागत पर ये चार केन्द्रीय विद्यालयों का निर्माण किया गया है, जो अब तक अस्थायी भवनों में चल रहे थे। उन्होंने कहा कि ओडिशा, राजस्थान और हरियाणा राज्यों में इन नए विकसित परिसरों से लगभग 4000 छात्र लाभान्वित होंगे। श्री ‘निशंक’ ने छात्रों, अभिभावकों, शिक्षकों, प्रधानाचार्यों और विद्यालय प्रबंधन समिति के सदस्यों को अपनी हार्दिक शुभकामनाएं दीं। उन्होंने कहा कि आधुनिक सुविधाओं से लैस ये नई इमारतें चार केन्द्रीय विद्यालयों में शिक्षण प्रक्रिया को और मजबूत करेंगी और हमारे छात्रों के लिए नई संभावनाएं खोलेंगी। श्री पोखरियाल ने राज्य सरकारों से अनुरोध किया कि वे ऐसे सभी अनुमोदित केन्द्रीय विद्यालयों के लिए भूमि हस्तांतरण की प्रक्रिया को तेज करें, जो अस्थायी भवनों में चल रहे हैं। श्री पोखरियाल ने बताया कि केन्द्रीय विद्यालयों के सभी चार नए भवनों का निर्माण ‘ग्रीन बिल्डिंग मानदंडों के अनुसार किया गया है और अधिकतम जल संरक्षण सुनिश्चित करने के लिए वर्षा जल संचयन प्रणाली के साथ सुविधा प्रदान की गई है। दिव्यांगजनों की सुविधा के लिए इमारतों को बाधा-मुक्त बनाया गया है। फिटनेस के प्रति छात्रों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से खेल और शारीरिक गतिविधियों के लिए पर्याप्त स्थान दिया गया है।

68.9 करोड़ रुपये की लागत से केन्द्रीय विद्यालय संगठन ने नवनिर्मित केवी भवन का निर्माण कराया:

1. केन्द्रीय विद्यालय नयागढ़ (ओडिशा) - यह विद्यालय वर्ष 2010-11 में स्थापित किया गया था। यह कक्षा 1 से 12 तक एक अस्थायी इमारत में चल रहा है। केन्द्रीय विद्यालय संगठन ने 16.39 करोड़ रुपये की लागत से एक शानदार इमारत का निर्माण किया है। इसमें सभी आधुनिक सुविधाएं हैं। वर्तमान में ओडिशा राज्य में 62 केन्द्रीय विद्यालय हैं।

2. केन्द्रीय विद्यालय महुलडीहा, रायरंगपुर (ओडिशा) - यह विद्यालय वर्ष 2016-17 में स्थापित किया गया था। यह कक्षा 1 से 11 तक एक अस्थायी इमारत में चल रहा है। केन्द्रीय विद्यालय संगठन ने 16.06 करोड़ रुपये की लागत से सभी आधुनिक सुविधाओं से युक्त भवन का निर्माण किया है।

3. केन्द्रीय विद्यालय हनुमानगढ़ (राजस्थान) - यह विद्यालय वर्ष 2014-15 में स्थापित किया गया था। यह कक्षा 1 से 10 तक एक अस्थायी भवन में चल रहा है। केन्द्रीय विद्यालय संगठन ने सभी आधुनिक सुविधाओं से युक्त एक शानदार भवन का निर्माण किया है, जिसकी लागत 16.06 करोड़ रुपये है। वर्तमान में राजस्थान राज्य में 77 केन्द्रीय विद्यालय हैं।

4. केन्द्रीय विद्यालय नंबर 3 फरीदाबाद (हरियाणा) - यह विद्यालय वर्ष 2003-04 में स्थापित किया गया था। यह कक्षा 1 से 11 तक एक अस्थायी भवन में चल रहा है। केन्द्रीय विद्यालय संगठन ने 20.19 करोड़ रुपये की लागत से सभी आधुनिक सुविधाओं से युक्त भवन का निर्माण किया है। वर्तमान में हरियाणा राज्य में 34 केन्द्रीय विद्यालय हैं।