आईआईटी कानपुर रिसर्च टीम ने प्रो जावेद मलिक के नेतृत्व में वन ऑफ़ इट्स काइंड पायनियर रिसर्च की
March 20, 2020 • Mr Arun Mishra
> मेगा एंड लार्ज अर्थक्वेक के रेकरेन्स इंटरवल इनसाइट रिपोर्ट ने सुनामी पर शोध के नए रास्ते खोल दिए हैं।
प्रो जावेद मालिक, डिपार्टमेंट ऑफ़ अर्थ साइंसेज, आईआईटी कानपुर।
 
कानपुर (का ० उ ० सम्पादन)। अंडमान द्वीप भारत में पिछले 8000 वर्षों के सुनामी रिकॉर्ड, मेगा और बड़े भूकंपों के पुनरावृत्ति अंतराल पर इनसाइट है शोध का नाम। यह शोध 2019 में नेचर: साइंटिफिक रिपोर्ट में प्रकाशित हुआ था। आईआईटी कानपुर की रिसर्च टीम ने पृथ्वी विज्ञान विभाग के प्रो जावेद एन मलिक के नेतृत्व में वन ऑफ़ इट्स काइंड पायनियर रिसर्च की है। 26 दिसंबर 2004 को, सुमात्रा-अंडमान क्षेत्र में 9.3 की तीव्रता वाला एक मेगा-भूकंप आया, जिसके परिणामस्वरूप एक बड़ा भूकंप और एक विशाल सूनामी आई, जिसने 250,000 से अधिक लोगों की जान ले ली। 
इस तरह की प्राकृतिक तबाही ने पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय (मिनिस्ट्री ऑफ़ एअर्थ साइंसेज) और भारतीय राष्ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र (आईएनसीओआईएस) को इस तरह की विशाल सूनामी के पुनरावृत्ति पैटर्न और भारतीय समुद्र तट के साथ उनके प्रभावों को समझने के महत्व को समझा। उन्होंने महसूस किया कि इन पैटर्नों का ज्ञान हमें अंडमान और निकोबार तट और साथ ही भारतीय पूर्वी तटों के लिए  विभिन्न भूकंपों (यानी, मेगा और बड़े भूकंपों और संबंधित सुनामी) और उनके प्रभावों पर विचार करते हुए शहरी मानचित्रण के साथ शहरी योजना में बेहतर शमन योजना की दिशा में हमारी रणनीति बनाने में मदद कर सकता है। आईआईटी कानपुर के प्रो जावेद मलिक को कोस्टल सेडीमेंट्स में संरक्षित प्राचीन सूनामी के सिग्नेचर्स की पहचान करने का अनुभव था। प्रारंभिक रिसर्च के दौरान पब्लिश्ड ऐतिहासिक घटनाओं (1679, 1762, 1881 और 1941 में 1679 का उल्लेख करते हुए) उन्होंने ऐतिहासिक अवधि के दौरान अंडमान क्षेत्र में और आसपास के कुछ इलाकों में भूकंप और सुनामी पाए। प्रो जावेद ने यह काम सूनामी का विस्तृत अध्ययन करने के लिए किया। प्रो जावेद और उनकी टीम ने 2005 से अंडमान द्वीप समूह में प्राचीन सुनामी के सिग्नेचर्स के लिए खोज करना शुरू किया। उन्होंने अपनी टीम के साथ इस तरह जानकारी का प्रदर्शन करते हुए कुछ शोध पत्र प्रकाशित किए। जिसमें अंडमान द्वीप के दक्षिण-पूर्वी तट पर स्थित बडबालु समुद्र तट से उनके हालिया शोध निष्कर्षों ने पिछले 8000 वर्षों में कम से कम सात सुनामी के सबूतों का पता लगाया, जिन्होंने हिंद महासागर से सटे समुद्र तटों को प्रभावित किया है। शोधकर्ताओं को इस तरह के सबूत मिले जिनसे कि पता चलता है कि इन सूनामी को सुमात्रा-अंडमान क्षेत्र में होने वाले बड़े भूकंपों द्वारा ट्रिगर किया गया था। डेपोसिशनल स्ट्रक्चर्स के आधार पर, ग्रेन साइज़, विभिन्न सेडीमेंटल यूनिट्स के बीच संपर्क, सेडिएमंट्स कोर और शैलो पिट्स में देखे गए माइक्रो फॉसिल कंटेंट्स, 19 सेडीमेंट्स यूनिट्स की पहचान की गई थी। माइक्रो फॉसिल्स और जियोकेमिकल्स एनालिसिस से पता चला कि इसके समान लक्षण, अन्य ग्लोबल सुनामी डिपॉजिट्स में एक जैसे थे l इन यूनिट्स के ऑप्टिकल और कार्बन एजेस (22 वर्ष) बडबालु से और ट्रेंचेस (पिट्स) और कोर (जियोस्लाइसेस) से प्राप्त किए गए थे। सेडीमेंट कोर, माइक्रो फॉसिल्स और जियोकेमिकल स्टडीज में सुनामी की घटनाओं के संकेतों के आधार पर (प्रो पॉल की देखरेख में किए गए) और पिछले 8000 वर्षों से सात सुनामी की पहचान की गई है। ये सुनामी 1881, 1762, और 1679 सीई में हुई ऐतिहासिक सुनामी के अनुरूप हैं, और 1300-1400 सीई, 2000-3000 बीसीई और 3020-1780 बीसीई में और 5600- 5300 बीसीई पूर्व से पहले के प्रागैतिहासिक सुनामी के लिए सबूत प्रदान करते हैं। शोधकर्ताओं ने दो य तीन सहस्राब्दी के एक अस्पष्टीकृत अंतराल को 1400 सीई के आसपास समाप्त पाया, जिसे सापेक्ष सागर-स्तर (रिलेटिव सी लेवल - आरएसएल) के कारण एक्सेलरेटेड इरोज़न के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है ~ 3500 बीपी। 660-880 सीई, और 1300-1400 सीई की सुनामी 2004 में मेगा भूकंपों के कारण आने वाली विशालकाय सुनामी की तुलना में विशाल थी। इसके विपरीत 1679, 1762 और 1881 (बड़े भूकंपों से जुड़े) की सुनामी लगभग पूर्वोत्तर हिंद महासागर तक ही सीमित थी। तीनों प्रारंभिक सुनामी के लिए स्रोत निर्धारित नहीं किए गए हैं। उन्होंने मेगा-भूकंपों के लिए 420-750 साल की पुनरावृत्ति का जिसके अलग-अलग स्रोत थे और लार्ज मैग्नीट्यूड अर्थक्वेक के लिए 80–120 साल के छोटे अंतराल का सुझाव दिया। सुगम ऐतिहासिक डेटा का अभाव अंडमान निकोबार द्वीप समूह के साथ-साथ मुख्य भूमि भारत के पूर्वी तट के लिए एक प्रॉपर सूनामी हज़ार्ड इवैल्यूएशन के लिए एक बड़ी चुनौती है। इस तरह की भयावह घटनाओं की खराब समझ का तात्पर्य भारत के घनी आबादी वाले तटीय क्षेत्रों के पास मौजूदा और आगामी न्यूक्लियर पावर प्लांट्स की विफलता और लाइफलाइन इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ा एक बड़ा जोखिम है। आईआईटी कानपुर के इस शोध में, सुनामी में डेटा एकत्र करने से भारत को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी और भविष्य की सूनामी के प्रभाव के लिए भारत के सुरक्षा उपायों और सबक में मदद मिलेगी। इस रिसर्च ने सुनामी पर शोध के नए रास्ते खोल दिए हैं। यदि आप इस संबंध में अधिक योगदान देना चाहते हैं, तो कृपया प्रो जावेद मलिक से ईमेल आईडी javed@iitk.ac.in पर संपर्क करें।