आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने आईआईटी कानपुर और नोका रोबोटिक्स के साथ टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट पार्टनर के रूप में हाथ मिलाया
April 28, 2020 • Mr Arun Mishra
> बहुत जल्दी ही जीवन रक्षक स्वदेशी, पोर्टेबल, सस्ती और आक्रामक वेंटिलेटर को बाजार में लाने का अनुमान।
> आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज में, स्वास्थ्य सेवा एक महत्वपूर्ण क्षेत्र: सीईओ, आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज
> सस्ती और पूरी तरह कार्यात्मक वेंटिलेटर डिजाइन करने हेतु दिन रात काम कर रही है टीम : निदेशक, आईआईटी कानपुर
 
 
कानपुर (का उ सम्पादन)। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, भारत का अग्रणी निवेश बैंक और ऑनलाइन इक्विटी और अन्य निवेश उत्पादों के प्रमुख, आईसीआईसीआई डायरेक्ट जोकि आईसीआईसीआई समूह का एक हिस्सा है ने कोविड 19 के गंभीर रोगियों की देखभाल के लिए आक्रामक, सस्ती और स्वदेशी वेंटिलेटर के विकास के लिए आईआईटी कानपुर और नोका रोबोटिक्स के साथ टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट पार्टनर के रूप में हाथ मिलाया है। रिपोर्टों के अनुसार, 6 में से 1 कोविड 19 रोगियों में सांस लेने में कठिनाई होती है। ऐसे मामलों में, गंभीर रूप से बीमार रोगियों के इलाज के लिए वेंटिलेटर की उपलब्धता महत्वपूर्ण है। वेंटिलेटर्स की इस बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि हमारे देश के नवप्रवर्तक और विशेषज्ञ किफायती और सरल समाधान खोजने के लिए मिलकर काम करें। नोका रोबोटिक्स (स्टार्ट-अप इन्क्यूबेशन एंड इनोवेशन सेंटर, आईआईटी कानपुर) के साथ आईआईटी कानपुर ने जैव-चिकित्सा इंजीनियरों, डॉक्टरों, आर एंड डी विशेषज्ञों, आपूर्ति श्रृंखला, मेडटेक बिजनेस प्रमुखों, आदि के साथ एक संघ बनाया है। वे एक पूरी तरह से पोर्टेबल और सस्ती मैकेनिकल वेंटिलेटर विकसित करने पर काम कर रहे हैं। विजय चंडोक, एमडी और सीईओ, आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने कहा कि कोविड - 19 ने एक महामारी का रूप ले लिया है जिसने पूरे पारिस्थितिकी तंत्र को प्रभावित किया है। जबकि निदान और इलाज पर शोध कार्य किया जा रहा है फिर भी तत्काल आवश्यकता सस्ती और कम लागत वाले जीवन रक्षक उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित करना बहुत ही जरुरी है। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज में, स्वास्थ्य सेवा एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है जिसे हम सीएसआर पर केंद्रित करते हैं। हम कल एक सुरक्षित और उज्जवल भविष्य सुनिश्चित करने में विश्वास करते हैं। आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज हमारे सीएसआर पहल के हिस्से के रूप में प्रतिष्ठित संस्थान, आईआईटी कानपुर में से एक के साथ मिलकर खुश है, इस संयुक्त प्रयास से बहुत जल्दी ही जीवन रक्षक स्वदेशी, पोर्टेबल सस्ती और आक्रामक वेंटिलेटर को बाजार में लाने का अनुमान है जो सीधे 0.2% जीवन को प्रभावित करेगा। परियोजना टीम में कुछ प्रतिभाशाली तकनीकी दिमाग हैं और उन्होंने अपने लिए एक बहुत ही कठिन समय सीमा तय की है ताकि बड़े पैमाने पर राष्ट्र लाभान्वित हो। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि अंतिम उत्पाद लागत और कार्यक्षमता पर अपेक्षाओं को पार कर जाएगा l आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो अभय करंदीकर ने कहा कि आईआईटी कानपुर में, हम कोविड - 19 महामारी से लड़ने के वैश्विक प्रयासों की दिशा में अपना काम कर रहे हैं। हमारी टीम दिन-रात काम कर रही है ताकि एक सस्ती और पूरी तरह कार्यात्मक वेंटिलेटर डिजाइन किया जा सके। हम इस परियोजना को प्रकाश में लाने के लिए प्रौद्योगिकी विकास भागीदार के रूप में आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के साथ साझेदारी करके खुश हैं और हमें उम्मीद है कि महामारी के खिलाफ इस लड़ाई में हमारे साथ काम करने के लिए और कंपनियां आगे आएंगी। इस फास्ट-ट्रैक प्रोजेक्ट के तहत, कई केंद्रों पर प्रोटोटाइप के डिजाइन, विकास और परीक्षण के बाद उत्पाद जल्द ही बाजार के लिए तैयार हो जाएगा।