आने वाले त्योहारों के अवसरों पर ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता : अमित मोहन प्रसाद
October 13, 2020 • Mr Arun Mishra

प्रदेश में रिकवरी का प्रतिशत अब बढ़कर 89.7 प्रतिशत

> कोरोना संक्रमण की संख्या में गिरावट आ रही है लेकिन महामारी समाप्त नहीं हुई है : ए सी एस हेल्थ

> कोविड-19 संक्रमण के केसों में 24 दिनों से लगातार कमी आ रही है : ए सी एस हेल्थ

उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद 12 अक्टूबर 2020 को लोक भवन मीडिया सेण्टर में प्रेस वार्ता करते हुए।

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि काफी समय से बाद कोरोना के एक्टिव केसों की संख्या 40 हजार के नीचे आई है। पिछले 02 अगस्त के बाद आज 12 अक्टूबर को 40 हजार के नीचे एक्टिव केस दर्ज किये गये हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में प्रतिदिन जितने रोगी चिकित्सालयों में आ रहे हैं उससे ज्यादा ठीक होकर डिस्चार्ज हो रहे हैं। साथ ही मृत्यु दर में भी लगातार कमी आ रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण की संख्या में गिरावट आ रही है लेकिन महामारी समाप्त नहीं हुई है। श्री प्रसाद सोमवार 12 अक्टूबर को लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि कोविड-19 संक्रमण के केसों में 24 दिनों से लगातार कमी आ रही है। प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,42,244 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 1,20,41,107 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 2,234 नये मामले आये हैं। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 3,342 व्यक्ति उपचारित होकर डिस्चार्ज किये गये हैं। अब तक कुल 3,93,908 लोग पूर्णतया उपचारित होकर डिस्चार्ज किये गये। प्रदेश में रिकवरी का प्रतिशत अब बढ़कर 89.7 प्रतिशत है। प्रदेश में 38,815 कोरोना के एक्टिव मामले हैं। होम आइसोलेशन में 17,741 लोग, निजी चिकित्सालय में 3,247 लोग हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 1,37,803 क्षेत्रों में 4,14,263 टीम दिवस के माध्यम से 2,68,35,025 घरों के 13,25,24,422 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि कल 05 - 05 के 3352 पूल लगाये गये जिनमें 360 में पॉजीटिविटी पायी गयी, जबकि 10 - 10 के 491 पूल लगाये गये जिनमें 23 में पॉजीटिविटी पायी गयी। उन्होंने बताया कि आने वाले पर्वों / त्योहारों पर कोविड प्रोटोकॉल का पूर्णतया पालन अवश्य करें। उन्होंने कहा कि संक्रमण से स्वयं बचें तथा दूसरों को बचाने का प्रयत्न करें। संक्रमण से बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों का विशेष ध्यान रखें। श्री प्रसाद ने बताया कि जब तक कोविड-19 की निश्चित दवा या वैक्सीन नहीं आती तब तक संक्रमण से बचाव ही सबसे अच्छा उपचार है। उन्होंने कहा कि सावधानी बरत कर हम खुद बच सकते हैं और दूसरों को इस संक्रमण से बचा भी सकते हैं। उन्होंने सलाह दी कि कोरोना महामारी से बचने और शरीर को स्वस्थ रखने के लिए नियमित रूप से योग तथा प्राणायाम करना चाहिए तथा श्वश्नतंत्र को ठीक रखने के लिए दिन में कम से कम स्टीम (भाप) लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि आने वाले त्योहारों के अवसरों पर ज्यादा सतर्क रहने की आवश्यकता है। जब तक आवश्यक न हो तब तक घर से बाहर न निकलें। चिकित्सकीय उपचार के लिए ई-संजीवनी पोर्टल शुरू किया गया है। ई-संजीवनी के माध्यम से चिकित्सकों से वीडियो कॉलिंग से सलाह ली जा सकती है। उन्होंने कहा कि बदलते मौसम में श्वास सम्बंधी समस्याएं ज्यादा होती हैं इसलिए सावधानी बरतने की सबसे ज्यादा आवश्यकता है।