आरोग्य सेतु अलर्ट जनरेट होने पर 2098 लोगों को कन्ट्रोल रूम से कॉल किया गया जिसमें से 09 लोग पॉजीटिव पाये गये : प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, उ प्र
May 12, 2020 • Mr Arun Mishra

देश में सबसे अधिक प्रवासी कामगार उत्तर प्रदेश में आये : एसीएस गृह एवं सूचना

गोरखपुर में 28 ट्रेन के माध्यम से 27,334 श्रमिक लाये गये, जो एक जिले के लिए देश में रिकार्ड है

> प्रदेश में अब तक 184 ट्रेन के माध्यम से लगभग 2.25 लाख प्रवासी कामगार, श्रमिक आए : एसीएस गृह एवं सूचना

> अर्न्तजनपदीय व्यवस्था के तहत बसों के माध्यम से भी कामगारों, श्रमिकों को उनके घर पहुंचाया जायेगा : एसीएस गृह एवं सूचना

> अब तक धारा 188 के तहत 42,031 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई : एसीएस गृह एवं सूचना

> 1 मई को कुल 16 मामले, जिनमें ट्विटर के 11, फेसबुक के 05 मामले को संज्ञान में लिया गया : एसीएस गृह एवं सूचना

> प्रदेश के 475 हॉटस्पॉट क्षेत्र के 311 थानान्तर्गत 8,92,016 मकान चिन्हित किये गये इनमें कोरोना पॉजिटिव पाये गये लोगों की संख्या 2086 है : एसीएस गृह एवं सूचना

> प्रदेश में स्थापित क्रय केन्द्रों के माध्यम से लगभग 164.87 लाख कुन्तल गेहूँ की खरीद की जा चुकी है : एसीएस गृह एवं सूचना

> डोर स्टेप डिलीवरी व्यवस्था के अन्तर्गत 50,442 डिलीवरी मैन आवश्यक सामग्री निरंतर पहुंचा रहे हैं : एसीएस गृह एवं सूचना

> श्रमिक भरण - पोषण योजना के तहत निर्माण कार्यों से जुड़े, नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र के लगभग 31.47 लाख श्रमिकों एवं निराश्रित व्यक्तियों को 1 - 1 हजार रूपए की धनराशि का भुगतान किया जा चुका है : एसीएस गृह एवं सूचना

> पीडब्ल्यूडी की परियोजनाओं पर लगभग 11 हजार से अधिक श्रमिक तथा यूपीडा की परियोजनाओं पर लगभग 10 हजार से अधिक श्रमिक कार्य कर रहे हैं : एसीएस गृह एवं सूचना

> प्रदेश के 64 जनपदों में 1786 मामले एक्टिव : अमित मोहन प्रसाद

> रविवार को 316 पूल टेस्ट के माध्यम से 1580 सैम्पल टेस्ट किये गये जिसमें से 33 पूल पॉजीटिव पाये गये : प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने सोमवार 11 मई को यहां लोक भवन मीडिया सेल में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिये हैं कि कोविड-19 के संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण के लिए विशेष सजगता और सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। उन्होंने एल-1, एल-2 तथा एल-3 कोविड अस्पतालों में 52 हजार बेड की व्यवस्था तथा 20 मई, 2020 तक 25,000 अतिरिक्त बेड की व्यवस्था करने के निर्देश देते हुए कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि माह के अन्त तक कोविड अस्पतालों में 01 लाख बेड उपलब्ध हो जाएं। उन्होंने कहा कि मेडिकल इंफेक्शन पर प्रभावी नियंत्रण के साथ-साथ यह भी सनिश्चित कराना आवश्यक है कि मण्डियों के माध्यम से संक्रमण का प्रसार किसी भी दशा में न होने पाए। आगामी 10 दिनों में बाहर से प्रदेश में बड़ी संख्या में प्रवासी कामगार, श्रमिक भी आएंगे। इसलिए हर स्तर पर विशेष सावधानी और सतर्कता बरतते हुए पूरी जवाबदेही के साथ कार्य किया जाए। श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रदेश में रहने वाले प्रवासी श्रमिकों को उनकी सहमति से उनके गृह प्रदेश भेजा जा रहा है। उन्होंने प्रदेश से भेजे जाने वाले ऐसे प्रवासी श्रमिकों की जनपदवार सूची तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश से नेपाल राष्ट्र के 2000 लोग वापस जाना चाहते हैं, उनकी वापसी की व्यवस्था की जाए, तथा जो लोग यहां रुकना चाहते हैं, उनके लिए आवश्यक प्रबन्ध सुनिश्चित किए जाएं। श्री अवस्थी ने बताया कि देश में सबसे अधिक प्रवासी कामगार उत्तर प्रदेश में आये हैं। प्रदेश में अब तक 184 ट्रेन के माध्यम से लगभग 2.25 लाख प्रवासी कामगार, श्रमिक तथा अन्य साधनों से लगभग 01 लाख प्रवासी श्रमिक, कामगार आये हैं। इस प्रकार प्रदेश में पिछले 04 दिनों में लगभग 3.25 लाख कामगार, श्रमिक ट्रेन एवं अन्य साधनों से लाये जा चुके हैं जिन्हें खाद्यान्न देकर घर भेजा जा रहा है। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में आज 16 ट्रेन आ चुकी हैं जबकि कुल 55 ट्रेन शाम तक आएंगी। इस प्रकार सोमवार को कुल 55 ट्रेन के माध्यम से लगभग 70 हजार प्रवासी श्रमिक, कामगार आज और वापस आए। उन्होंने बताया कि अर्न्तजनपदीय व्यवस्था के तहत बसों के माध्यम से भी कामगारों, श्रमिकों को उनके घर पहुंचाया जायेगा। श्री अवस्थी ने बताया कि, गोरखपुर में 28 ट्रेन के माध्यम से 27,334 श्रमिक लाये गये हैं जो एक जिले के लिए देश में रिकार्ड है। लखनऊ में 22 ट्रेन, प्रयागराज में 11 ट्रेन सहित प्रदेश के 42 स्टेशनों पर विभिन्न प्रदेशों से ट्रेन लायी जा रही हैइसी प्रकार बाराबंकी, आजमगढ़, आगरा, कानपुर, जौनपुर, बरेली, बलिया, वाराणसी, गाजीपुर, प्रतापगढ़, रायबरेली, अमेठी, मऊ, कन्नौज, बांदा, हरदोई, अयोध्या, सोनभद्र, गोण्डा, सीतापुर, उन्नाव, बस्ती, कासगंज, मानिकपुर (चित्रकूट), सुल्तानपुर, लखीमपुर खीरी, बहराइच, अम्बेडकरनगर, फतेहपुर, फर्रुखाबाद, चन्दौली, हमीरपुर, कुशीनगर, एटा, जालौन (उरई), इटावा, रामपुर, शाहजहांपुर तथा अलीगढ़ आदि जनपदों में भी प्रवासी कामगारों को लेकर ट्रेन पहुंच चुकी है या पहुंच रही हैं। श्री अवस्थी ने बताया कि कोरोना वायरस के दृष्टिगत प्रदेश में लॉकडाउन अवधि में पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में अब तक धारा 188 के तहत 42,031 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई। प्रदेश में अब तक 35,74,475 वाहनों की सघन चेकिंग में 38,392 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 17.04,64,902 रुपए का शमन शुल्क वसल किया गया। आवश्यक सेवाओं हेतु कुल 2,23,332 वाहनों के परमिट जारी किये गये हैं। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 772 लोगों के खिलाफ 606 एफआईआर दर्ज करते हुए 279 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। फेक न्यूज पर कड़ाई से नजर रख रही है। फेक न्यूज के तहत अब तक 871 मामलों को संज्ञान में लेते हुए कार्यवाही की गई है। 11 मई को कुल 16 मामले, जिनमें ट्विटर के 11, फेसबुक के 05 मामले को संज्ञान में लिया गया हैं तथा साइबर सेल को आवश्यक कार्यवाही हेतु प्रेषित कर दी गई है। अभी तक कुल 31 एफआईआर पंजीकृत कराई गई है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 475 हॉटस्पॉट क्षेत्र के 311 थानान्तर्गत 8,92,016 मकान चिन्हित किये गये। इनमें 49,92,793 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन हॉटस्पॉट क्षेत्रों में कोरोना पॉजिटिव पाये गये लोगों की संख्या 2086 है। श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में स्थापित 5784 क्रय केन्द्रों के माध्यम से लगभग 164.87 लाख कुन्तल गेहूँ की खरीद की जा चुकी है। प्रदेश में निःशुल्क खाद्यान्न वितरण के द्वितीय चरण में प्रचलित कुल 3,53,19,530 राशन कार्डो के सापेक्ष मई माह में लगभग 3,23,56,751 कार्डो पर 7,45,228.125 मी टन खाद्यान्न का निःशुल्क वितरण किया गया है। प्रदेश में 981 सरकारी तथा 1097 स्वैच्छिक कम्यूनिटी किचन के माध्यम से 10,19,351 लोगों को फूड पैकेटस वितरित किये गये हैं। डोर स्टेप डिलीवरी व्यवस्था के अन्तर्गत 22534 किराना स्टोर क्रियाशील हैं, जिनके माध्यम से 50,442 डिलीवरी मैन आवश्यक सामग्री निरंतर पहुंचा रहे हैं। फल एवं सब्जी वितरण व्यवस्था के अन्तर्गत कुल 43,520 वाहनों की व्यवस्था की गयी है। इसी क्रम में कुल 53.92 लाख लीटर दूध उपार्जन के सापेक्ष 34.84 लाख लीटर दूध का वितरण 21,539 डिलीवरी वैन के माध्यम से किया गया है। श्री अवस्थी ने बताया कि उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की श्रमिक भरण-पोषण योजना के तहत निर्माण कार्यों से जुड़े, नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र के लगभग 31.47 लाख श्रमिकों एवं निराश्रित व्यक्तियों को भी एक-एक हजार रूपए की धनराशि का भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि प्रदेश की 66,043 औद्योगिक इकाइयों से संपर्क किया गया, जिनमें से 61,990 इकाइयों द्वारा अपने कार्मिकों को रु 645.91 करोड़ के वेतन का वितरण किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि पीडब्ल्यूडी की 19252 करोड़ रुपए  की लागत से संचालित 554 परियोजनाओं पर लगभग 11 हजार से अधिक श्रमिक कार्य कर रहे हैं। यूपीडा की परियोजनाओं पर लगभग 10 हजार से अधिक श्रमिक कार्य कर रहे हैं। 44,242 ग्राम पंचायतों में लगभग 22.27 लाख अकुशल श्रमिकों के साथ कार्य कराये जा रहे हैं तथा अन्य प्रदेशों से वापस लौटे 25 हजार प्रवासी श्रमिकों के नये जॉब कार्ड बना दिये गये हैं। इसके साथ ही ईंट-भट्ठों का कार्य भी यथावत चल रहा है। प्रदेश की 121 चीनी मिलों में से 61 चीनी मिलों ने पेराई का कार्य पूरा कर लिया है तथा चालू वित्तीय वर्ष में 17837 करोड़ रु के गन्ना मूल्य का भुगतान किया जा चुका है। प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 64 जनपदों में 1786 मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 1655 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। अब तक प्रदेश के 72 जिलों से 3520 कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि रविवार को 316 पूल टेस्ट के माध्यम से 1580 सैम्पल टेस्ट किये गये जिसमें से 33 पूल पॉजीटिव पाये गये। 1830 लोगों को आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है तथा 8952 लोगों को फैसिलिटी क्वारेंटाइन में रखा गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कोरोना टेस्टिंग लैब की संख्या बढ़कर 26 हो गयी है। उन्होंने बताया कि कोरोना टेस्टिंग हेतु अब तक 1,30,893 लोगों के सैम्पल टेस्ट किये गये जिसमें से 1,27,373 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। उन्होंने बताया कि आरोग्य सेतु अलर्ट जनरेट होने पर 2098 लोगों को कन्ट्रोल रूम से कॉल किया गया जिसमें से 09 लोग पॉजीटिव पाये गये।