अप्रैल 2020 तक आईआईटी कानपुर में स्थापित होगा 6 पीएफ की सुपरकंप्यूटिंग सुविधा वाला सुपर कंप्यूटर
March 24, 2020 • Mr Arun Mishra

राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन: सुपरकंप्यूटिंग में सुधार का दृष्टिकोण

नई दिल्ली (पीआईबी)। भारत के राष्ट्रीय सुपरकंप्यूटिंग मिशन (एनएसएम) के लिए 2020-21 एक महत्वपूर्ण वर्ष है। इस मिशन की स्थापना देश को सुपरकंप्यूटिंग बुनियादी ढांचा प्रदान करने के लिए की गई थी ताकि भारत में सुपरकंप्यूटरों के डिजाइन तैयार करने और स्वदेश में उनका निर्माण करने की क्षमता उत्पन्न करके शैक्षणिक समुदाय, अनुसंधानकर्ताओं, एमएसएमई, और स्टार्टअप्स की बढ़ती अभिकलनात्मंक मांगों को पूरा किया जा सके। देश की कंप्यूटिंग शक्ति को बढ़ावा देने के लिए अपनी तरह का पहला प्रयास, राष्ट्रीय सुपर कंप्यूटिंग मिशन को इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) और विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) द्वारा संयुक्त रूप से संचालित किया गया है और केन्द्र द्वारा उन्नत कंप्यूटिंग (सी-डैक), पुणे और भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी), बेंगलुरु के विकास के लिए लागू किया गया है। मिशन का लक्ष्य 2022 तक देश के राष्ट्रीय महत्व के शैक्षणिक और अनुसंधान संस्थानों में कुछ टेरा फ्लॉप्स 2 (टीएफ) से लेकर टेरा फ्लॉप्स (टीएफ) के सैकड़ों और 3 पेटा फ्लॉप्स (पीएफ) के बराबर य उससे अधिक की तीन प्रणालियों के साथ सुपर कंप्यूटरों का एक नेटवर्क स्थापित करना था। कुल 15-20 पीएफ की परिकल्पना वाले सुपरकंप्यूटरों के इस नेटवर्क को 2015 में मंजूरी दी गई थी और बाद में इसमें संशोधन करके इसे कुल 45 पीएफ (45000 टीएफ) का कर दिया गया, जो उसी लागत के भीतर 6 गुना अधिक गणना शक्ति वाला और बड़ी और जटिल कम्प्यूटेशनल समस्याओं को हल करने में सक्षम था। जगह-जगह संशोधित योजना के साथ, पहले सुपरकंप्यूटर को स्वदेशी रूप से इकट्ठा किया गया था, जिसे परम शिवाय कहा जाता था, आईआईटी (बीएचयू) में स्थापित किया गया था और प्रधानमंत्री द्वारा उद्घाटन किया गया था। इसी तरह के सिस्टम परम शक्ति और परम ब्रह्म आईआईटी खड़गपुर और आईआईएसईआर, पुणे में स्थापित किए गए थे। वे वेदर एंड क्लाइमेट, कम्प्यूटेशनल फ्लूड डायनामिक्स, बायोइनफॉरमैटिक्स और मैटेरियल साइंस जैसे डोमेन  एप्लिकेशन से लैस हैं। संशोधित योजना के साथ, पहले सुपरकंप्यूटर के पुर्जे स्वदेश में जोड़े गए थे, जिसे परम शिवाय कहा जाता था, इसे आईआईटी (बीएचयू) में स्थापित किया गया था और प्रधानमंत्री ने इसका उद्घाटन किया गया था। इसी तरह के सिस्टम परम शक्ति और परम ब्रह्म को आईआईटी खड़गपुर और आईआईएसईआर, पुणे में स्थापित किया गया। इसमें मौसम और जलवायु, कम्प्यूटेशनल फ्लूइड डायनामिक्स, जैव सूचना विज्ञान और मैटिरियल साइंस जैसे डोमेन हैं। अप्रैल 2020 तक तीन और सुपर कंप्यूटर स्थापित करने की योजना बनाई जा रही है, आईआईटी कानपुर, जेएन सेंटर फॉर एडवांस साइंटिफिक रिसर्च, बेंगलुरु और आईआईटी हैदराबाद में एक-एक सुपर कम्यूटर लगाया जाएगा। इनमें 6 पीएफ की सुपरकंप्यूटिंग सुविधा प्रदान की जाएगी। देश भर में विभिन्न आईआईटी, एनआईटी, राष्ट्रीय प्रयोगशालाओं और आईआईएसईआर में इस वर्ष दिसंबर तक 11 नई प्रणालियां स्थापित किए जाने की संभावना है, जिसमें भारत में डिजाइन की गई अनेक उप-प्रणालियां और माइक्रोप्रोसेसर्स होंगे, जिन्हें 10.4 पेटाफ्लॉप्स की संचयी क्षमता में लाया जाएगा। देश के पूर्वोत्तर क्षेत्र तक पहुंचाने के लिए, 16 पीएफ की कुल कम्प्यूट पावर वाली 8 प्रणालियों को चालू किया जा रहा है। तीन 3 पीएफ कंप्यूटिंग शक्ति वाली स्वदेश में डिज़ाइन की गई 5 प्रणालियों को आईआईटी मुम्बूई, आईआईटी चेन्नइई और दिल्ली में अंतर विश्वविद्यालय त्वरित केन्द्र (आईयूएसी) में स्थापित किया जाएगा जिसकी रीढ़ एनकेएन होगा। इसमें सी-डैक, पुणे में एक स्वदेशी रूप से निर्मित 20 पीएफ प्रणाली और 100 पीएफ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सुपरकंप्यूटिंग सिस्टम भी शामिल है। स्टार्ट-अप, एसएसआई और एमएसएमई को परामर्श प्रदान करने के लिए सी-डैक बेंगलुरु में एक मिडलवेल 650 टीएफएस प्रणाली भी स्थापित की जानी है। लगभग 60-70 संस्थानों को सुपरकंप्यूटिंग सुविधा प्रदान करने और हजारों से अधिक सक्रिय शोधकर्ताओं, शिक्षाविदों, और इसी तरह अन्य के लिए तैयार, एनएसएम ने गति पकड़ ली है और वह न केवल देश के लिए एक कंप्यूटर अवसंरचना बनाने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है बल्कि देश के लिए क्षमता निर्माण भी कर रहा है ताकि सुपरकंप्यूटर विशेषज्ञों की अगली पीढ़ी तैयार हो सके।