बीते 3 वर्षों में 15 हज़ार करोड़ से अधिक की लागत से जनपद कानपुर नगर का हुआ जीर्णोद्धार
March 20, 2020 • Mr Arun Mishra

कानपुर नगर। नए भारत के नए उत्तर प्रदेश के दृष्टिगत 9 आकांक्षी जिलों में कानपुर स्मार्ट सिटी मिशन व अन्य योजनाओं से वित्त पोषित कार्यों का क्रियान्वयन सफलता पूर्ण किया गया। बीते 3 वर्षों में जनपद कानपुर नगर में बुनियादी ढाँचे के विकास समेत विकास कार्यों का क्रियान्वयन डेडलाइन तय करते हुए किया जा रहा है। बीते 3 वर्षों में 15 हज़ार करोड़ से अधिक की लागत से जनपद कानपुर नगर का विकास हुआ। योजनाओं के क्रियान्वयन व परियोजनाओं के व्यय का विभागवार ब्योरा प्रस्तुत किया गया है। विभागी कार्यों की समीक्षा से शासन ने आंकड़े जुटाए और उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री व जनपद के प्रभारी मंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने प्रेस वार्ता करते हुए प्रस्तुत किये।

अवस्थापना:

> रु 239.53 करोड़ से 196.83 किमी लम्बाई की 175 सड़कों का निर्माण।

> रु 7.34246 करोड़ से आवारा, तहसील, एयरपोर्ट टर्मिनल का कार्य किया गया।

> रु 9.20620 करोड़ वोट क्लब,श्रमायुक्त कार्यालय का जीर्णोद्धार सहित विभिन्न कार्य व कब्रिस्तान में चाहरदीवारी का निर्माण कार्य कराया गया।

> रु 5.46592 करोड़ से जीएसवीएम मेडिकल कालेज में 100 शैय्या के मैटरनिटी विंग सहित अन्य कार्य कराये गये।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य:

> आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत 1.18 लाख लाभार्थियो को गोल्डन कार्ड दिये गये तथा रु 21.8 करोड़ की सहायता धनराशि से 17261 मरीजों का उपचार कराया गया।

> गुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना के अन्तर्गत रु 36.39 लाख की सहायता धनराशि से 375 मरीजों को उपचारित किया गया।

> वेक्टरजनित रोगों के अन्तर्गत रु 36.91 लाख लोगों को दवा पिलाई गई। 

> मातृ वंदना योजना में 48592 लाभार्थियों को रु 18.29 करोड़ का भुगतान किया गया।

> हृदयरोग संस्थान में 56.3797 करोड़ से हृदय रोगियों को विभिन्न 17 सुविधायें उपलब्ध कराने में निर्माण व अन्य कार्य।

नगर निगम:

> 14वें वित्त आयोग के अन्तर्गत रु 205.5268 करोड़ की लागत से 287 कार्य पूर्ण।

> औद्योगिक क्षेत्रों में रु 12.4552 करोड़ से 29 सड़कों एवं नाले का निर्माण।

> नगर निगम निधि से रु 35.3946 करोड़ से कुल 1796 सड़क नाली के मरम्मत कार्य।

> अमृत योजना में रु 13.12 करोड़ की लागत से 06 परियोजनायें पार्क / ग्रीनस्पेस निर्माण।

> रु 393.19 करोड़ से कुल 10 पेयजल एवं सीवरेज परियोजनायें। 

> रु 7.2230 करोड़ की लागत से कान्हा गौशाला एंव एनीमलवर्थ कन्ट्रोल रोन्टर का निर्माण कार्य।

केडीए:

> प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) में रु 557.70 करोड़ लागत से 10032 भवनों का निर्माण।

> सिग्नेचर ग्रीन्स योजना के अन्तर्गत रु 550 करोड़ की लागत से 1212 भवनों का निर्माण।

> केडीए रेजीडेन्सी योजनान्तर्गत रु 55.93 करोड़ की लागत से 264 फ्लैट्स का निर्माण। 

> रतनपुर व शताब्दी नगर में रु 45.42 करोड़ की लागत से 12.50 एमएलडी क्षमता के 2 एसटीपी का निर्माण कार्य।

ऊर्जा विभाग:

> सौभाग्य योजना के अन्तर्गत 568 ग्रामों में रु 19.26 करोड़ के नए विद्युत कनेक्शन।

> किसानों के निजी नलकूपों के 6778 परिर्वतक प्रतिस्थापित।

> रु 3.73 करोड़ से 26663 संयोजनों से ग्रामों / मजरों का विद्युतीकरण व 20 हजार एलईडी वितरण। 

केस्को:

> उजाला योजना में 610255 एलईडी बल्वों का वितरण।

> सौभाग्य योजना में 3634 विद्युत कनेक्शन।

> नवीन 33/11 केवी के 10 उप केन्द्रों का निर्माण।

> 30 उपकेन्द्रों की शामता वृद्धि।

> 24 उपकेन्द्रों का उच्चीकरण।

> 60 कि०मी नवीन ओवर हेड लाइनों का निर्माण।

> 376 किमी नवीन एलटी0वी केबल लाइनों का निर्माण किया गया।

पशुपालन:

> 4 लाख 7 हजार पशुओं का खुरपका / मुँहपका टीकाकरण।

> 138977 पशुओं का नस्ल सुधार।

> गोकुल मिशन योजना के अन्तगत 3500 पशुओं का कृत्रिम गर्भाधान।

> रु 1.20 करोड़ से सरसौल में पशुसंरक्षण केन्द्र का निर्माण। 

> पतारा में रु 60 लाख से गौसंरक्षण केन्द्र का निर्माण।

शिक्षा विभाग:

> रु 1.716 करोड़ से फर्नीचर।

> रु 69.54 लाख से 114 बालक / बालिका शौचालय निर्माण।

> विद्यालयों में आन्तरिक वायरिंग कार्य रु 87.99 लाख।

> निःशुल्क पाठ्य पुस्तक, यूनीफार्म, स्वेटर, जूता मोजा का वितरण कार्य किया गया।

आपदा राहत:

> अपादा के दौरान 4165 व्यक्तियों को रु 3 करोड़ की राहत सामग्री का वितरण। 

कृषि विभाग:

> रु 207.08 करोड़ से 43,360 कृषकों का फसली ऋण माफ किया गया।

> प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में 2,26,415 कृषक लाभान्वित।

> रु 12.83 करोड़ की धनराशि से 42,786 पारदर्शी किसान सेवा योजना से लाभान्वित किया गया। 

> 33158 किसानों से 168473.72 मी टन गेहूँ की खरीद कर रु 293.57 करोड़ का भुगतान।

> 39251 किसानों से 295738.62 मी टन धान खरीद कर रु 509.16 करोड़ का भुगतान किया गया।

समाज कल्याण:

> मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में 1861 जोड़ों के विवाह में रु 825.65 करोड़ व्यय।

> वृद्धावस्था पेंशन में 82553 व्यक्तियों में रु 127.6694 करोड़ व्यय। 

> निराश्रित महिला पेंशन में 144152 लाभान्वित।

> दिव्यांगजन पेंशन में 26052 लोग लाभान्वित।

पंचायतीराज:

> कुल 1,71843 व्यक्तिगत शौचालयों का निर्माण।

> 14वें वित्त आयोग से रु 387.98 करोड़ लागत से ग्रामों में विकास कार्य।

प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री आवास योजना:

> प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) में 7983 आवास निर्मित तथा मुख्यमंत्री आवास योजना में 42 आवासों का निर्माण, डूडा द्वारा प्रधान मंत्री आवास योजना (शहरी) में 15643 आवासों का निर्माण किया गया।

खाद्य एवं रसद विभाग:

> अन्त्योदय एवं पात्र गृहस्थी योजना के अन्तर्गत 6,12,277 परिवारों को ई-पास मशीन के द्वारा खाद्यान्न वितरण। 

> उज्जवला योजना में 11,648 लोगों को निःशुल्क एलपीजी गैस कनेक्शन वितरित।

श्रम विभाग:

> प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन योजना के अंतर्गत 8280 लाभार्थियों का पंजीयन।

> राष्ट्रीय पेंशन ट्रेडर्स योजना के 66 लाभार्थियों का पंजीयन।

> मातृत्व हितलाभ योजना में 3174 लाभान्वित।

> शिशुहित लाभ योजना में 3431 लाभान्वित।

> मेधावी छात्र पुरस्कार योजना में 1596 लाभार्थियों को लाभान्वित किया गया।

कानपुर मेट्रो रेल परियोजना:

> आईआईटी से नौबस्ता तक 23.8 किमी एवं सीएसए से बर्रा-8 तक 8.6 किमी मेट्रो रेल लाइन लागत रु 11076.48 करोड़ से कार्य।

रोजगार:

> प्रत्येक वित्तीय वर्ष में 18 रोजगार मेलों का आयोजन कर 11,715 अभ्यर्थियों को रोजगार कॉउंसलिंग के अवसर दिये गये।

> सेवायोजन पोर्टल में 256 कम्पनियों / फर्मों का पंजीकरण किया गया।

उद्यान विभाग:

> एकीकृत बागवानी योजना में 218 लाभार्थियों को कुल रु 40.07 लाख अनुदान वितरण।

> प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में स्प्रिंकलर सिस्टम में 544 लाभार्थियों को कुल रु 2.0885 करोड़ अनुदान वितरित किया गया।

पर्यटन:

> विदेश दर्शन स्कीम में रु 6.5719 करोड़ से मोतीझील तुलसी उपवन में ध्वनि एवं प्रकाश कार्य।

> आनंदेश्वर मंदिर एंव परमट घाट सौन्दर्याकरण एवं अन्य कार्य।