भोला, सोमनाथ, बाबू सिंह बने रोल माडल, तम्बाकू छोड़ने पर किया गया सम्मानित
February 15, 2020 • Mr Arun Mishra
प्रयागराज। आधारशिला वृद्ध आश्रम नैनी में आयोजित सम्मान समारोह कार्यक्रम में जिला तम्बाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ की टीम के नोडल डॉ वी के मिश्रा ने तम्बाकू छोड़ने वाले लोगों को शाॅल एवं माला पहनाकर सम्मानित किया जिसमें भोला, सोमनाथ, बाबू सिंह ने तम्बाकू एवं बीड़ी के सेवन को संकल्प लेकर छोड़ दिया है। राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत जिला तम्बाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ के प्रयास से प्रभावित होकर वृद्ध आश्रम में जीवन बिताने वाले भोला, सोमनाथ, बाबू सिंह ने तम्बाकू का सेवन बंद कर दिया और दूसरो को भी इससे होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में बताते हैं। नोडल अधिकारी अपर मुख्य चिकित्साधिकारी ने कार्यक्रम को शुरू करते हुए कहा कि समाज में बड़े गर्व की बात है कि इस आयु में भी इन तीन लोगों ने संकल्प लेकर तम्बाकू को छोड़ा है। युवाओं के लिए ये एक मिसाल है। यदि इन्सान खुद से चाह ले तो कुछ भी कर सकता है। आधारशिला वृद्ध आश्रम नैनी के अध्यक्ष सुशील श्रीवास्तव ने बताया कि हम लोग बहुत खुश हैं कि हमारे यहाँ रह रहे इन लोगों ने तम्बाकू के सेवन को छोड़ दिया है। इस आश्रम में रहने वाले सभी वृद्ध की पूरी देखभाल होती है तथा उनकी सुविधा का पूरा ध्यान संस्था रखती है। स्वास्थ्य की सही जानकारी के लिए विभाग से संपर्क में भी रहते हैं। इसी क्रम में तम्बाकू प्रकोष्ठ की टीम नियमित रूप से यहाँ आकर यहाँ पर रहने वालों को तम्बाकू के दुष्प्रभावों के बारे में बताया जिससे प्रभावित होकर इस लोगों ने तम्बाकू छोड़ने का संकल्प लिया। भोला, सोमनाथ, बाबू सिंह—जिनकी उम्र 65 से 70 वर्ष के बीच है ने बताया उनके परिवार में उनकी देखभाल के लिए कोई नहीं हैं और वह यहाँ अपनी उम्र के लोगों के साथ खुश रहते हैं। उन्होंने बताया टीम ने लगातार यहाँ आकर शिविर लगाया तथा तम्बाकू और बीड़ी से होने वाले घातक रोग कैंसर के बारे में जानकारी दी जिसके बाद हमने निश्चय किया की हम तम्बाकू का सेवन बंद कर देंगे तथा दूसरो को भी समझायेंगे की वो लोग भी तम्बाकू छोड़ दे ताकि बाकि की ज़िन्दगी स्वास्थ्य तरीके से बिता सके। डॉ शैलेश मौर्या जिला सलाहकार तम्बाकू प्रकोष्ठ एवं सोशल वर्कर सुमनलता ने बताया जिला तम्बाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ की ओर से समय समय पर आश्रम में शिविर का आयोजन किया जाता है जिसमे तम्बाकू से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में बताया जाता था जिससे प्रभावित होकर और अन्य 11 लोगों ने तम्बाकू छोड़ने का निश्चय किया है जिन्हें आगे कार्यक्रम के दौरान सम्मानित किया जायेगा।