भूखंडों की घरौनी का वितरण, सर्वे हुए गांवो के 16 ग्रामीणों को दिया गया स्वामित्व कार्ड
October 12, 2020 • Mr Arun Mishra

> 1400 से अधिक अविवादित भूखंडों की घरौनी राजस्व कर्मियों के द्वारा तैयार की गयी।

प्रयागराज। ग्रामीण आबादी स्वामित्व योजना के पायलट प्रोजेक्ट के अंतर्गत जनपद प्रयागराज की तहसील बारा के 10 चिन्हित गांवों (कपारी, चुंदवा, अभयपुर, लकहर, लोहगरा, बराडीह, बकुलिहा, जोरवट, देवरा और नीबी ) का ड्रोन सर्वे दिनांक 23 जुलाई 2020 से 25 जुलाई 2020 के दौरान भारतीय सर्वेक्षण मंत्रालय के सहयोग से किया गया था। ग्राम सभा के सहयोग से ड्रोन सर्वे के द्वारा तैयार किए गए चिन्हित आबादी गाटों पर बने मकानों के मानचित्र व चौहद्दी तैयार कर सहमति के आधार पर 1400 से अधिक अविवादित भूखंडों की घरौनी (ग्रामीण आवासीय अभिलेख ) राजस्व कर्मियों के द्वारा तैयार की गयी जिसके वितरण का शुभारंभ रविवार 11 अक्टूबर को जनपद प्रयागराज के मुख्य राजस्व अधिकारी भानु प्रताप यादव, विधायक बारा डॉ अजय कुमार, सांसद प्रयागराज के प्रतिनिधि संत प्रसाद पाण्डेय तथा उप जीलाधिकारी गौरव रंजन श्रीवास्तव की उपस्थिति में तहसील बारा प्रयागराज के सभागार में सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हए किया गया। सांकेतिक रूप से मौके पर उपस्थित सर्वे हुए गांवो के 16 ग्रामीणों को स्वामित्व कार्ड दिया गया। इस अवसर पर मुख्य राजस्व अधिकारी द्वारा बताया गया कि स्वामित्व योजना ग्रामीण भारत के लिए अत्यंत लाभकारी है, जिससे ग्रामीण परिवारों को आबादी में संपत्ति का अधिकार मिलेगा तथा आबादी के विवादों में कमी आएगी। उप जिलाधिकारी बारा के द्वारा कहा गया कि स्वामित्व योजना से ग्रामीण क्षेत्र के विकास कार्यों को गति प्राप्त होगी स्थानीय विधायक ने केंद्र एवं राज्य सरकार कि प्रशंसा करते हुए कहा कि स्वामित्व योजना से गांवों मे शांति एवं खुशहाली आएगी सांसद प्रतिनिधि ने तहसील बारा के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों की निर्धारित समय में  घरौनी तैयार करने के लिए सराहना करते हुए कहा कि स्वामित्व योजना से गाँव में रह रहे लोगों को शहरों की तरह बैंक एवं अन्य वित्तीय संस्थानों से गाँव मे बने उनके घरों पर ऋण इत्यादि मिलने में सहायता मिलेगी। इस अवसर पर तहसीलदार डॉ विशाल शर्मा तथा नायब तहसीलदार रविकान्त द्विवेदी तहसील के अन्य कर्मचारियों के साथ उपस्थित रह आयोजन का संयोजन किया।