चेन्नई की पांचवीं हार, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने 37 रनों से हराया 
October 11, 2020 • Mr Arun Mishra

> चेन्नई ने दो विकेट पर 89 रन की सुखद स्थिति से 37 रन के अंतराल में छह विकेट गंवाए।

> विराट कोहली ने शिवम दुबे के साथ पांचवें विकेट के लिए 34 गेंदों पर 76 रन की साझेदारी की।

> बेंगलुरु ने आखिरी चार ओवरों में 66 रन जोड़े।

> बेंगलुरु ने इस मुकाबले के लिए क्रिस मोरिस और गुरकीरत सिंह मान को टीम में शामिल किया था।

> कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने टी- 20 करियर में 300 छक्के पूरे कर लिए।

विराट ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और कप्तानी पारी खेलते हुए 52 गेंदों पर नाबाद 90 रन में चार चौके और चार छक्के लगाए। विराट को मैन ऑफ द मैच घोषित किया गया।विराट को ड्रीम 11 गेम चेंजर ऑफ द मैच, अनअकैडेमी लेट्स क्रैक इट सिक्सेस अवार्ड और एलट्रोज सुपर स्ट्राइकर ऑफ द मैच अवार्ड भी मिला।

दुबई (वार्ता)। कप्तान विराट कोहली की नाबाद 90 रन की जबरदस्त पारी की मदद से रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु ने चेन्नई सुपर किंग्स को शनिवार को आईपीएल मुकाबले में 37 रन से हराकर छह मैचों में चौथी जीत दर्ज कर ली जबकि चेन्नई को सात मैचों में पांचवीं हार का सामना करना पड़ा। मैन ऑफ द मैच विराट की जबरदस्त पारी से बेंगलुरु ने चार विकेट पर 169 रन का लड़ने लायक स्कोर बनाया और लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई की टीम को आठ विकेट पर 132 रन पर थाम लिया। बेंगलुरु इस जीत के साथ चौथे स्थान पर पहुंच गयी है। चेन्नई ने दो विकेट पर 89 रन की सुखद स्थिति से 37 रन के अंतराल में छह विकेट गंवाए जो उसकी हार का सबसे बड़ा कारण रहा। वाशिंगटन सुंदर ने दो और क्रिस मौरिस ने तीन विकेट लेकर चेन्नई की कमर तोड़ दी। विराट ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और कप्तानी पारी खेलते हुए 52 गेंदों पर नाबाद 90 रन में चार चौके और चार छक्के लगाए। उन्होंने शिवम दुबे के साथ पांचवें विकेट के लिए 34 गेंदों पर 76 रन की अविजित साझेदारी की। शिवम ने 14 गेंदों पर नाबाद 22 रन में दो चौके और एक छक्का लगाया। बेंगलुरु ने आखिरी चार ओवरों में 66 रन जोड़े और टीम चुनौतीपूर्ण स्कोर तक पहुंच गयी। युवा ओपनर देवदत्त पडिकल ने 34 गेंदों पर 33 रन में दो चौके और एक छक्का लगाया। आरोन फिंच दो रन बनाकर आउट हुए जबकि एबी डिविलियर्स का खाता नहीं खुला। वाशिंगटन सुंदर ने 10 गेंदों में एक छक्के के सहारे 10 रन बनाये। बेंगलुरु के स्कोर में 12 अतिरिक्त रनों का भी योगदान रहा। चेन्नई की तरफ से शार्दुल ठाकुर ने 40 रन पर दो विकेट लिए जबकि दीपक चाहर को 10 रन पर एक विकेट और सैम करेन को 48 रन पर एक विकेट मिला। बेंगलुरु ने इस मुकाबले के लिए क्रिस मोरिस और गुरकीरत सिंह मान को टीम में शामिल किया था और मौरिस ने तीन विकेट लेकर अपने चयन को सार्थक साबित किया। लक्ष्य का पीछा करते हुए चेन्नई ने फाफ डू प्लेसिस को टीम के 19 के स्कोर पर गंवाया। डू प्लेसिस को वाशिंगटन सुंदर ने आउट किया। डू प्लेसिस आठ रन ही बना सके। शेन वाटसन 18 गेंदों में तीन चौकों की मदद से 14 रन बनाकर टीम के 25 के स्कोर पर आउट हुए। वाटसन को भी सुंदर ने ही आउट किया।
अंबाटी रायुडू और एन जगदीशन ने तीसरे विकेट के लिए 64 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी की लेकिन जगदीशन अपनी गलती से रन आउट हुए। वह जैसे टहलते हुए क्रीज में पहुंच रहे थे कि क्रिस मौरिस के सीधे थ्रो ने उन्हें रन आउट कर दिया। जगदीशन ने 28 गेंदों में चार चौकों मदद से 33 रन बनाये। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने आने के बाद छक्का मारा और टी- 20 में 300 छक्के पूरे कर लिए लेकिन लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल की ऑफ स्टंप से बाहर पड़ी गेंद पर लम्बा शॉट मारने की कोशिश में लांग ऑफ पर गुरकीरत सिंह को कैच दे बैठे। धोनी ने छह गेंदों में 10 रन बनाये। सैम करेन खाता खोले बिना क्रिस मौरिस की गेंद पर विकेट के पीछे लपके गए। अम्पायर ने पहले नॉट आउट दिया लेकिन विराट के डीआरएस लेने के बाद उन्हें फैसला बदलने के लिए मजबूर होना पड़ा। विकेट पर जम कर खेल रहे रायुडू क्रीज से हटकर गेंद को लेग साइड में मारने की कोशिश में बोल्ड हो गए। इसुरु उदाना ने रायुडू का महत्वपूर्ण विकेट लिया। रायुडू के आउट होते ही चेन्नई की आखिरी उम्मीद भी टूट गयी। रायुडू ने 40 गेंदों पर 44 रन में चार चौके लगाए। रायुडू का विकेट 113 के स्कोर पर गिरा। चेन्नई ने 24 रन के अंतराल में जगदीशन, धोनी, करेन और रायुडू के विकेट गंवा दिए और उसका स्कोर छह विकेट पर 113 रन हो गया। मौरिस ने फिर ड्वेन ब्रावो और रवींद्र जडेजा के विकेट भी लिए। चेन्नई की पारी 132 तक ही पहुंच सकी। ब्रावो और जडेजा ने सात-सात रन बनाये। मौरिस ने 19 रन पर तीन विकेट, सुंदर ने 16 रन पर दो विकेट, उदाना ने 30 रन पर एक विकेट और चहल ने 35 रन पर एक विकेट लिया।