दिव्यांगजन व वृद्धजनों को वितरित किए जाएंगे 55600 उपकरण
February 21, 2020 • Mr Arun Mishra
卐 मा मंत्री ने मा प्रधानमंत्री के प्रस्तावित कार्यक्रम के दृष्टिगत आयोजन स्थल का निरीक्षण किया।
卐 कार्यक्रम स्थल पर लाभार्थिंयों को किसी प्रकार की कोई असुविधा न हो, इसका रखें विशेष ध्यान - मा मंत्री, दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग
卐 दिव्यांगजनों के रजिस्ट्रेशन के लिए 22 फरवरी को विशेष कैम्प का आयोजन किया जायेगा।
प्रयागराज (काo उo सम्पादन)। मंत्री, पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग, उ प्र अनिल राजभर एवं अपर मुख्य सचिव महेश गुप्ता ने सर्किट हाउस प्रयागराज में मा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दिनांक 29 फरवरी, 2020 को दिव्यांगजनों को उपकरण वितरित किये जाने की तैयारियों के सम्बंध में समीक्षा बैठक व परेड ग्राउंड स्थित कार्यक्रम स्थल का भौतिक निरीक्षण किया। बैठक में मण्डलायुक्त प्रयागराज मण्डल डाॅ आशीष कुमार गोयल, जिलाधिकारी प्रयागराज भानुचंद्र गोस्वामी एवं भारत सरकार द्वारा आये अधिकारियों में संयुक्त सचिव सुरेन्द्र सिंह, श्रीमती वीना चक्रवर्ती के साथ सम्बन्धित अधिकारीगण मौजूद रहे। समीक्षा बैठक में अब तक कुल चिन्हित किये 26526 लाभार्थियों को उपकरण वितरण कराये जाने हैं, जिसमें 10070 उपकरण दिव्यांगजनों को व 16456 उपकरण वयोवृद्धजनों को वितरित किए जाएंगे। कार्यक्रम में कुल 55600 उपकरण दिव्यांगजन व वृद्धजनों को वितरित किए जाएंगे। लाभार्थिंयों को कार्यक्रम स्थल तक लाने व छोड़ने के लिए लगभग 1500 बसों की व्यवस्था की जाएगी। लाभार्थियों की सुविधा की दृष्टि से नजदीक स्थानों पर उतारकर उनके कैम्प तक ले जाने के लिए अधिकारियों की नियुक्ति की जायेगी। लाभार्थियों के वाहनों में पेयजल एव नाश्ता आदि की व्यवस्था भी की जायेगी। अभी तक जिन दिव्यांगों का रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाया है उनके लिए 22 फरवरी को मेरी लूकस काॅलेज में विशेष कैम्प का आयोजन किया जाएगा। छूटे हुए लाभार्थी उक्त तिथि पर आकर अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। समीक्षा बैठक के बाद दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग मंत्री ने कार्यक्रम स्थल परेड ग्राउंड का स्थलीय निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान अपर मुख्य सचिव महेश गुप्ता, जिलाधिकारी प्रयागराज भानुचंद्र गोस्वामी मौजूद रहे। उन्होंने पार्किंग स्थल तथा कार्यक्रम स्थल का भी निरीक्षण किया तथा लाभार्थिंयों की सुविधा की दृष्टि से कहाँ पर उनको उतारा जायेगा तथा कहां से उन्हें ले जाया जायेगा की जानकारी सम्बन्धित अधिकारियों से ली। उन्होंने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि लाभार्थियों को किसी प्रकार की कोई असुविधा का सामना न करना पड़े। उनके आने-जाने की व्यवस्था के साथ ही उनके खान-पान की बेहतर व्यवस्था की जाए।