दुनिया की सबसे बड़ी छात्र संचालित साइबर सुरक्षा प्रतियोगी कार्यक्रम (सीएसएडब्लू) आईआईटी में प्रारम्भ
November 7, 2019 • Mr Arun Mishra
कानपुर (का ० उ ० सम्पादन)। दुनिया की सबसे बड़ी छात्र साइबर सुरक्षा प्रतिस्पर्धात्मक सीएसएडब्लू  (साइबर सिक्योरिटी अवेयरनेस वर्ल्डवाइड) कार्यक्रम न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय और दुनिया भर के अन्य केंद्रों के सहयोग से बुधवार शाम 4 बजे से शुरू हुई। आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो अभय करंदीकर ने इस कार्यक्रम का उद्घाटन दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इसके पश्चात आईआईटी कानपुर और डेटा सुरक्षा परिषद (डीएससीआई ) तथा श्नाइडर इलेक्ट्रिक इंडिया और आईआईटी कानपुर के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुए। इस कार्यक्रम में श्री दिनेश ज्ञानचंदानी (वरिष्ठ साइबर सुरक्षा सलाहकार, एशिया पैसिफिक, श्नाइडर इलेक्ट्रिक) ने मुख्य व्याख्यान दिया तथा एनटीपीसी के महाप्रबंधक आर सारंगपाणी ने भी पावर सेक्टर में साइबर सुरक्षा के बारे में संबोधित किया। इसके बाद आमंत्रित प्रो विनोद गणपति (आईआईएससी बैंगलोर), प्रो सौराद्युति पॉल (आईआईटी भिलाई) और प्रो सोमित्रा सनाढ्य (आईआईटी रोपड़) ने आमंत्रित व्याख्यान दिए। आईआईटी खड़गपुर, आईआईटी गांधीनगर, आईआईटी मद्रास, आईआईटी धारवाड़, आईआईआईटी इलाहाबाद, कोचीन प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मध्य एप्लाइड अनुसंधान प्रतियोगिता का मुकाबला हुआ और इसी कड़ी में आज एंबेडेड सुरक्षा चैलेंज में प्रतिस्पर्धा होगी।  36 घंटे की हैकिंग प्रतियोगिता "कैप्चर द फ्लैग" आज सुबह से प्रारंभ होगी जो कि शुक्रवार दोपहर तक चलेगी। आईआईटी रुड़की, अमृता विश्वविद्यालय, बीआईटी मेसरा, आईआईआईटी इलाहाबाद, राजीव गांधी यूनिवर्सिटी ऑफ नॉलेज टेक्नोलॉजीज, गवर्नमेंट पीजी कॉलेज, हरियाणा, आईआईआईटी दिल्ली, आईआईटी इंदौर, गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय वर्ल्ड टाइटल एवं इंडियन टाप रैंकिंग के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगे। उद्योग से जुड़े हुए इंजीनियरों के लिए एक औद्योगिक सुरक्षा कार्यशाला भी आज दोपहर को आयोजित की जाएगी इसके अतिरिक्त इंण्डस्ट्रीयल हैकिंग कान्टेस्ट का आयोजन भी आज  दोपहर में होना प्रस्तावित है।
 
डेटा सिक्योरिटी कौंसिल  के विनायक गोडसे आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो अभय करंदीकर के साथ एमओयू एक्सचेंज करते हुए।
स्नाइडर इलेक्ट्रिक के एशिया पसिफ़िक सीनियर साइबर कंसलटेंट दिनेश ज्ञानचंदानी और आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो अभय करंदीकर एम ओ यू एक्सचेंज करते हुए।