गांव, गरीब और देश को सशक्त करने के जिस मिशन को लेकर हम चले हैं, उसमें उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार का बड़ा योगदान है : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी
June 26, 2020 • Mr Arun Mishra
प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान ने आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार कार्यक्रम को प्रेरणा दी: नरेन्द्र मोदी
 
> मा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 'आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान' का शुभारंभ किया।
 
> गरीब कल्याण रोज़गार अभियान के तहत श्रमिकों को आय के साधन बढ़ाने के लिए गांवों में अनेक कार्य शुरू करवाए जा रहे हैं : पीएम
 
> गरीब कल्याण रोज़गार अभियान के तहत करीब 60 लाख को गांव के विकास से जुड़ी योजनाओं में तो करीब 40 लाख को छोटे उद्योगों यानि एमएसएमई में रोजगार दिया जा रहा है : पीएम
 
> गरीब कल्याण रोज़गार अभियान के तहत 15 हजार करोड़ रुपये के विशेष इंफ्रास्ट्रक्चर फंड से करीब 1 करोड़ और नए किसानों, पशुपालकों को डेयरी सेक्टर से जोड़ा जाएगा : पीएम
 
> आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत जब पूरे देश में ऐसे स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए उद्योगों के क्लस्टर बनाए जा रहे हैं, तब उत्तर प्रदेश को बहुत अधिक लाभ होगा : पीएम 
 
>> प्रधानमंत्री ने उत्तर प्रदेश सरकार की कार्य पद्यति की प्रशंसा की 
 
>> कोरोना के इतने बड़े संकट में यूपी ने जिस तरह कोरोना से मोर्चा लिया, जिस तरह स्थितियों को संभाला, वो अभूतपूर्व है, प्रशंसनीय है।
 
>> कोरोना में इंग्लैंड, फ्रांस, इटली और स्पेन जैसे देशों में मिलाकर 1.3 लाख लोगों की मृत्यु हुई जबकि उतनी ही जनसंख्या वाले उत्तर प्रदेश में 600 लोगों की जान गई।
 
>> योगी सरकार ने हालात की गंभीरता को समझकर युद्धस्तर पर काम किया। यदि अन्य सरकारें होतीं, तो अस्पतालों की संख्या का बहाना बनाकर, बिस्तरों की संख्या का बहाना बनाकर, इस चुनौती को टाल देती।
  
>> जिनके पास राशन कार्ड नहीं था, उनके लिए यूपी सरकार ने सरकारी राशन की दुकान के दरवाजे खोल दिए।
 
>> उत्तर प्रदेश की सवा तीन करोड़ गरीब महिलाओं के जनधन खाते में लगभग 5 हजार करोड़ रुपए भी सीधे ट्रांसफर किए गए।
  
>> उत्तर प्रदेश में हज़ारों उद्यमियों को मुद्रा योजना के तहत करीब 10 हजार करोड़ रुपये का ऋण आवंटित किया गया है।
 
>> उत्तर प्रदेश में बौद्ध सर्किट के लिहाज से अहम कुशीनगर एयरपोर्ट को इंटरनेशनल एयरपोर्ट घोषित किया गया।
 
>> उत्तर प्रदेश में इंसेफेलाइटिस की मृत्यु दर में उत्तर प्रदेश सरकार के प्रयासों से 90 प्रतिशत तक की कमी आई है।
 
सिर्फ 3 साल ..
सिर्फ 3 साल में यूपी में गरीबों के लिए 30 लाख से ज्यादा पक्के घर बनाए गए हैं।
सिर्फ 3 साल की मेहनत से यूपी ने खुद को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया है।
सिर्फ 3 साल में पारदर्शी तरीके से यूपी ने 3 लाख नौजवानों को सरकारी नौकरी दी है।
 
प्रधानमंत्री जी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का किया अभिवादन
कहा पिता जी की अंत्येष्टि में जाने के बजाए योगी जी कोरोना से लोगों की जिंदगी बचाने के लिए जुटे रहे। सवा करोड़ कामगारों की, कर्मचारियों की पहचान करना, 30 लाख से ज्यादा श्रमिकों के कौशल का, अनुभव का डेटा तैयार करना और उनके रोजगार की समुचित व्यवस्था करना, ये दिखाता है कि उत्तर प्रदेश सरकार की तैयारी कितनी सघन रही है, कितनी व्यापक रही है।
 
 
लखनऊ (भाजपा, उत्तर प्रदेश)। आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश और रोजगार कार्यक्रम के लिए शुक्रवार 26 जून, 2020 को आदरणीय प्रधानमंत्री का मार्गदर्शन उत्तर प्रदेश वासियों को प्राप्त हुआ। आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश और रोजगार कार्यक्रम का शुभारंभ करने के लिए मैं सबसे पहले आदरणीय प्रधानमंत्री जी का हृदय से स्वागत एवं अभिनंदन करता हूं। यह कहना था उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का। प्रधानमंत्री जी ने वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से 'आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार कार्यक्रम' का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कोरोना संकट के साथ ही आदरणीय प्रधानमंत्री जी ने 'जान भी और जहान भी' का मंत्र दिया और उसके बाद कामगारों व श्रमिकों के लिए योजनाओं को आगे बढ़ाने के लिए मार्गदर्शन दिया। इसके अंतर्गत 1 करोड़ 25 लाख से अधिक कामगारों और श्रमिकों को रोजगार, उद्योगों में समायोजन और स्वत: रोजगार के तहत कार्य दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस अवसर पर आदरणीय प्रधानमंत्री के कर कमलों से 4 लाख 3 हजार सूक्ष्‍म, लघु, मध्यम उद्यम से जुड़ी हुई यूनिटों को 10 हजार 600 करोड़ रुपए से अधिक का ऋण का वितरण भी ऑनलाइन यहां प्रारंभ हो रहा है। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने कहा कि हम सभी ने अपने व्यक्तिगत जीवन में अनेक उतार-चढ़ाव देखे हैं। हमारे सामाजिक जीवन में कई कठिनाइयां आती रहती हैं। लेकिन किसी ने ये नहीं सोचा था कि पूरी दुनिया पर एक साथ इतना बड़ा संकट आ जाएगा। ऐसा संकट, जिसमें लोग चाहकर भी दूसरों की मदद नहीं कर पाएं। हम सभी ने अपने जीवन में अनेक उतार चढ़ाव देखे हैं, हमारे सामाजिक जीवन में भी गांव, शहर में अलग-अलग तरह की कठिनाइयां आती ही रहती हैं। कल बिहार, उत्तर प्रदेश में आकाशीय बिजली गिरने से कई लोगों की जान चली गई। लेकिन ये किसी ने नहीं सोचा था कि पूरी दुनिया, मानवजाति पर एक साथ एक ही तरह का इतना बड़ा संकट आ जाएगा। एक ऐसा संकट जिसमें चाहकर भी लोग दूसरों की पूरी तरह से मदद नहीं कर पा रहे हैं।  प्रधानमंत्री जी ने कहा कि आगे भी किसी को नहीं पता कि इस बीमारी से कब मुक्ति मिलेगी। इसकी एक दवाई हमें पता है। ये दवाई है दो गज की दूरी। ये दवाई है- मुंह ढकना, फेसकवर या गमछे का इस्तेमाल करना। जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं बनती, हम इसी दवा से इसे रोक पाएंगे। भारत सरकार द्वारा शुरू किया गए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान ने आज आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार कार्यक्रम को प्रेरणा दी है। यानी केंद्र सरकार की योजना को योगी जी की सरकार ने गुणात्मक और संख्यात्मक दोनों ही तरीकों से विस्तार दे दिया है। प्रधानमंत्री जी ने कहा कि श्रम की ताकत हम सभी ने महसूस की है। श्रम की इसी ताकत का आधार बना, भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया गरीब कल्याण रोजगार अभियान। आज इसी शक्ति ने आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान को प्रेरणा दी। योगी सरकार ने न सिर्फ इसमें अनेक नई योजनाएं जोड़ी हैं, लाभार्थियों की संख्या बढ़ाई है बल्कि इसे आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य के साथ भी पूरी तरह से जोड़ दिया है। मुझे पूरा विश्वास है कि योगी जी के नेतृत्व में, जिस तरह आपदा को अवसर में बदला गया है, जिस तरह वो जी-जान से जुटे हैं, देश के अन्य राज्यों को भी इस योजना से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा, वो भी इससे प्रेरणा पाएंगे। आज जब दुनिया में कोरोना का इतना बड़ा संकट है, तब यूपी ने जो साहस दिखाया, जो सूझबूझ दिखाई, जो सफलता पाई, जिस तरह कोरोना से मोर्चा लिया, जिस तरह स्थितियों को संभाला, वो अभूतपूर्व है, प्रशंसनीय है। इसके लिए मैं यूपी के 24 करोड़ नागरिकों की सराहना करता हूं, नमन करता हूं। आपने जो किया है वो पूरी दुनिया के लिए मिसाल है। उत्तर प्रदेश के आंकड़ों ने दुनिया के बड़े-बड़े एक्सपर्ट को चकित कर दिया है। चाहे यूपी के डॉक्टर हों, पैरामेडिकल स्टाफ हो, सफाई कर्मचारी हों, पुलिसकर्मी हों, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हों, बैंक और पोस्ट ऑफिस के साथी हों, परिवहन विभाग के साथी हों, श्रमिक साथी हों, हर किसी ने पूरी निष्ठा के साथ अपना योगदान दिया है। आप सभी लोगों ने मिलकर यूपी को जिस तरह मुश्किल से संभाला है, आने वाले समय में राज्य का हर परिवार इसे याद रखेगा। उत्तर प्रदेश के प्रयास और उपलब्धियां इसलिए विराट हैं, क्योंकि ये सिर्फ एक राज्य भर नहीं है, बल्कि उत्तर प्रदेश दुनिया के कई देशों से बड़ा राज्य है। इस उपलब्धि को यूपी के लोग खुद महसूस कर रहे हैं, लेकिन आप अगर आंकड़े जानेंगे तो और भी हैरान हो जाएंगे। यूरोप के 4 बड़े देश इंग्लैंड, फ्रांस, इटली, स्पेन 200—250 साल तक दुनिया में सुपर पावर रहे। आज भी इन देशों का दबदबा है। इन चारों देशों की जनसंख्या करीब 24 करोड़ है। यूपी की जनसंख्या भी करीब इतनी ही है। लेकिन कोरोना में इन चारों देशों में मिलाकर 1.3 लाख लोगों की मृत्यु हुई। जबकि उतनी ही जनसंख्या वाले उत्तर प्रदेश में 600 लोगों की जान गई। प्रधानमंत्री जी ने कहा कि जो मेहनत यूपी की सरकार ने की है, हम कह सकते हैं कि एक प्रकार से अब तक कम से कम 85 हजार लोगों का जीवन बचाने में वो कामयाब हुई है। आज अगर हम अपने नागरिकों का जीवन बचा पा रहे हैं, तो ये भी बहुत संतोष की बात है। एक वो भी दिन था जब प्रयागराज के सांसद देश के प्रधानमंत्री थे, और कुंभ के मेले में भगदड़ मची थी, सैकड़ों-हजारों लोग मारे गए थे। तब उस समय जो लोग सरकार में थे, उन्होंने सारा जोर मरने वालों की संख्या छिपाने में ही लगा दिया था। आज उत्तर प्रदेश के लोगों का जीवन बच रहा है, सुरक्षित हो रहा है। ये सब उस स्थिति में हुआ जब देशभर से करीब 30 लाख से अधिक श्रमिक साथी, कामगार साथी, यूपी में पिछले कुछ हफ्तों में अपने गांव लौटे थे। यूपी में 2017 से पहले जिस तरह का शासन चल रहा था, जिस तरह की सरकारें चला करती थीं, उस हालात में, हम इन नतीजों की कल्पना भी नहीं कर सकते। पहले वाली सरकारें होतीं, तो अस्पतालों की संख्या का बहाना बनाकर, बिस्तरों की संख्या का बहाना बनाकर, इस चुनौती को टाल देती। योगी जी ने पहले की सरकारों की तरह काम नहीं किया। उनकी सरकार ने हालात की गंभीरता को समझा। ये देखते हुए उन्होंने और उनकी सरकार ने युद्धस्तर पर काम किया। क्वारंटीन सेंटर हों, आइसोलेशन की सुविधा हो, इसके निर्माण के लिए पूरी ताकत झोंक दी गई। बीते दिनों योगी जी के पिता जी का स्वर्गवास हुआ था। पिता जी की अंत्येष्टि में जाने के बजाए वो कोरोना से लोगों की जिंदगी बचाने के लिए जुटे रहे। उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए इतनी संवेदनशीलता उनमें है। प्रधानमंत्री जी कहा कि जिनके पास राशन कार्ड नहीं था, उनके लिए भी यूपी सरकार ने सरकारी राशन की दुकान के दरवाजे खोल दिए। इतना ही नहीं, उत्तर प्रदेश की सवा तीन करोड़ गरीब महिलाओं के जनधन खाते में लगभग 5 हजार करोड़ रुपए भी सीधे ट्रांसफर किए गए। भारत को आत्मनिर्भरता के रास्ते पर तेज़ गति से ले जाने का अभियान हो या फिर गरीब कल्याण रोज़गार अभियान हो, उत्तर प्रदेश यहां भी बहुत आगे चल रहा है। गरीब कल्याण रोज़गार अभियान के तहत श्रमिकों को आय के साधन बढ़ाने के लिए गांवों में अनेक कार्य शुरू करवाए जा रहे हैं। इसमें से करीब 60 लाख को गांव के विकास से जुड़ी योजनाओं में तो करीब 40 लाख को छोटे उद्योगों यानि एमएसएमई में रोजगार दिया जा रहा है। इसके अलावा स्वरोजगार के लिए हज़ारों उद्यमियों को मुद्रा योजना के तहत करीब 10 हजार करोड़ रुपये का ऋण आवंटित किया गया है। सवा करोड़ कामगारों की, कर्मचारियों की पहचान करना, 30 लाख से ज्यादा श्रमिकों के कौशल का, अनुभव का डेटा तैयार करना और उनके रोजगार की समुचित व्यवस्था करना, ये दिखाता है कि उत्तर प्रदेश सरकार की तैयारी कितनी सघन रही है, कितनी व्यापक रही है। अब आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत जब पूरे देश में ऐसे स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए उद्योगों के क्लस्टर बनाए जा रहे हैं, तब उत्तर प्रदेश को बहुत अधिक लाभ होगा। प्रधानमंत्री जी ने कहा कि जो 3 कानून केंद्र सरकार लाई है, पहला, किसानों को मंडी से बाहर भी अपनी उपज बेचने का अधिकार मिल गया है। यानि जहां बेहतर दाम मिलेंगे, वहां किसान अपना सामान बेचेगा। दूसरा, अब किसान अगर चाहे तो बुआई के समय ही अपनी फसल का दाम तय कर सकता है। इसके अलावा हमारे पशुपालकों के लिए अनेक नए कदम उठाए जा रहे हैं। दो दिन पहले ही पशुपालकों और डेयरी सेक्टर के लिए 15 हजार करोड़ रुपये का एक विशेष इंफ्रास्ट्रक्चर फंड बनाया गया है। इससे करीब 1 करोड़ और नए किसानों, पशुपालकों को डेयरी सेक्टर से जोड़ा जाएगा। केंद्र सरकार ने यूपी में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए एक और अहम फैसला लिया है। बौद्ध सर्किट के लिहाज से अहम कुशीनगर एयरपोर्ट को इंटरनेशनल एयरपोर्ट घोषित किया गया है। इससे पूर्वांचल में हवाई कनेक्टिविटी और सशक्त होगी और देश-विदेश में महात्मा बुद्ध पर आस्था रखने वाले करोड़ों श्रद्धालु अब आसानी से उत्तर प्रदेश आ सकेंगे। गांव, गरीब और देश को सशक्त करने के जिस मिशन को लेकर हम चले हैं, उसमें उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार का बड़ा योगदान है। सिर्फ 3 साल में यूपी में गरीबों के लिए 30 लाख से ज्यादा पक्के घर बनाए गए हैं। सिर्फ 3 साल की मेहनत से यूपी ने खुद को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया है। सिर्फ 3 साल में पारदर्शी तरीके से यूपी ने 3 लाख नौजवानों को सरकारी नौकरी दी है। बरसों से पूर्वांचल में इंसेफेलाइटिस महामारी की तरह कहर बरपाती थी। अनेक नवजात शिशुओं की दुखद मृत्यु इस बीमारी से हो जाती थी। अब यूपी सरकार के प्रयासों से, इस बीमारी के मरीजों की संख्या तो कम हुई ही है, मृत्यु दर में भी 90 प्रतिशत तक की कमी आई है। प्रधानमंत्री जी अंत में कहा कि आज जब अन्य राज्य कोरोना से लड़ाई में जूझ रहे हैं, यूपी ने अपने विकास के लिए इतनी बड़ी योजना शुरू कर दी है। एक प्रकार से आपदा से बने हर अवसर को यूपी साकार कर रहा है। एक बार फिर आप सभी को, रोज़गार के इन तमाम अवसरों के लिए बहुत-बहुत बधाई।