गुणवत्ता से बिना समझौता किए, निर्माण कार्यों पर रखें पैनी नजर: उप मुख्यमंत्री
March 18, 2020 • Mr Arun Mishra
卐 उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने सभी मण्डलों के मुख्य अभियन्ताओं के साथ की वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग।
लखनऊ (सूचना एवं जनसंपर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने लोक निर्माण विभाग / सेतु निगम / राजकीय निर्माण निगम के सभी अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि वह आवंटित बजट का शत-प्रतिशत उपयोग करते हुए गुणवत्ता के साथ निर्धारित समयसीमा के अन्दर सभी कार्य पूरे करायें। श्री मौर्य मंगलवार को लो नि वि मुख्यालय में प्रदेश के समस्त मण्डलों के मुख्य अभियंताओं व अन्य अभियन्ताओं के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिए कि बिना किसी अनियमितता के और बिना किसी दबाव के सभी कार्य पूरे कराएं तथा किसी भी मद का बजट सरेण्डर न होने पाए, इसके लिए जिम्मेदारी फिक्स की जाएगी। गलत तरीके से पैसा सरेण्डर किया गया तो सम्बंधित के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने कहा कि जहाँ कहीं बजट सरेण्डर करना अनिवार्य हो तो उसके स्पष्ट कारण का उल्लेख करते हुए 20 मार्च तक बजट प्रत्येक दशा में सरेण्डर करें। उन्होंने कहा कि बचत की धनराशि का जहाँ से मार्च में बजट सरेण्डर हो रहा है, उनकी सूची उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने कहा कि गत वर्षों में बजट का भरपूर उपयोग किया गया। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि इन्टरस्टेट बार्डर एरिया के मण्डलों / जिलों के अधिकारी अन्य राज्यों से जोड़ने वाले मार्गों के लिए स्थानीय जन प्रतिनिधियों से वार्ता करते हुए तत्काल प्रस्ताव भेजना सुनिश्चित करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि इन्टरस्टेट कनेक्टिविटी में ग्रामीण मार्गों के भी प्रस्ताव लिए जाएं और स्थान कम होने पर 05 मीटर चौड़ी सड़क तक के प्रस्ताव दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि कार्यों की गुणवत्ता सर्वोच्च प्राथमिकता है। अधिकारी पूरी टीम भावना के साथ काम करें और कार्यों की क्रास चेकिंग / निरीक्षण भी लगातार करते रहें। उन्होंने कहा कि जिलों में भुगतान की प्रक्रिया भी ठीक ढंग से की जाए। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि यूपी बोर्ड के अलावा आईसीएसई, सीबीएसई बोर्ड के टाॅप-20 छात्रों के घरों / स्कूलों तक भी सड़कें बनवाई जाएंगी। इन सड़कों का नाम ‘‘डाॅ एपीजे अब्दुल कलाम गौरव पथ’’ रखा गया है। उन्होंने कहा कि इन सड़कों पर लगाए जाने वाले बोर्ड पर बच्चों के नाम व फोटो व अन्य विवरण भी अंकित कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। श्री मौर्य ने निर्देश देते हुए कहा कि बलिदानी सैनिकों के गांव तक सड़कें व द्वार बनाए जाएं। यही नहीं प्रतिभाशाली खिलाड़ियों के गांवों तक भी सड़क बनायी जाएंगी और इन सड़कों का नाम ‘‘मेजर ध्यानचन्द्र विजय पथ’’ रखा जायेगा। श्री मौर्य ने लो नि वि में विभिन्न मदों में आवंटित बजट व व्यय के बारे में योजनावार जानकारी हासिल की। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी कार्यों की बिन्दुवार अच्छी से अच्छी एक बुकलेट तैयार करायी जाए। वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग के दौरान प्रमुख सचिव लो नि वि नितिन रमेश गोकर्ण, सचिव लो नि वि रंजन कुमार व समीर वर्मा, विभागाध्यक्ष राजीव रतन सिंह, प्रमुख अभियंता राजपाल सिंह व प्रमुख अभियन्ता एस के श्रीवास्तव, उ प्र सेतु निगम के प्रबंध निदेशक पी के कटियार, उ प्र राजकीय निर्माण निगम के प्रबंध निदेशक यू के गहलौत, मुख्य अभियंता संजय गोयल सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।