हर घर नल योजना हेतु उच्च गुणवत्ता वाली एजेन्सियों के जरिये निर्माण कार्यों को कराया जाएगा
July 9, 2020 • Mr Arun Mishra

> जल जीवन मिशन के सम्बन्ध में मुख्यमंत्री की केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग।

> जल जीवन मिशन के अन्तर्गत हर घर नल योजना वर्ष 2022 तक पूरी की जाएगी।

> हर घर नल योजना के लिए धनराशि की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी : गजेन्द्र सिंह शेखावत

लखनऊ में वीडयो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी व केंद्रीय जलशक्ति मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत के साथ उत्तर प्रदेश में जल जीवन मिशन योजना क्रियान्वयन के सम्बंध में बैठक करते हुए। (फोटो : ट्विटर)

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि जल जीवन मिशन के अन्तर्गत हर घर नल योजना वर्ष 2022 तक 04 चरणों के तहत पूरी की जाएगी। उन्होंने कहा कि इन 04 चरणों में बुन्देलखण्ड, विन्ध्य क्षेत्र, आर्सेनिक अथवा फ्लोराइड तथा जेई/एईएस से प्रभावित क्षेत्र शामिल हैं। इन सभी चरणों के तहत जल जीवन मिशन के कार्यक्रम एक साथ सम्पादित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के कुशल मार्गदर्शन में संचालित हर घर नल योजना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। शुद्ध पेयजल की उपलब्धता विकास और समृद्धि के लिए आवश्यक है। मुख्यमंत्री योगी बुधवार 8 जुलाई को अपने सरकारी आवास पर जल जीवन मिशन के सम्बन्ध में केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री  गजेन्द्र सिंह शेखावत के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि 30 जून, 2020 को बुन्देलखण्ड क्षेत्र के झांसी, ललितपुर तथा महोबा जनपदों की 12 ग्रामीण पाइप पेयजल परियोजनाओं के निर्माण कार्यों का शुभारम्भ किया जा चुका है। शेष 04 जनपदों के निर्माण कार्य भी शीघ्र प्रारम्भ हो जाएंगे। इसके साथ ही, विन्ध्य क्षेत्र के मिर्जापुर व सोनभद्र जनपदों में निर्माण कार्यों का शीघ्र शुभारम्भ किए जाने की कार्यवाही हो रही है। आर्सेनिक अथवा फ्लोराइड तथा जेई/ एईएस प्रभावित क्षेत्रों में डीपीआर की कार्यवाही की जा रही है। खुली निविदा के माध्यम से उच्च गुणवत्ता वाली एजेन्सियों के चयन के जरिये निर्माण कार्यों को कराया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत सरकार में जल शक्ति मंत्रालय का गठन किए जाने के अनुरूप ही प्रदेश में भी जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन की तर्ज पर ही जल जीवन मिशन के कार्यक्रमों और योजनाओं को मिशन मोड में संचालित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन की योजनाओं के लक्ष्यों को समयबद्ध ढंग से पूर्ण किए जाने के सम्बन्ध में प्रत्येक माह उनके स्तर से भी समीक्षा की जाएगी। केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने वर्ष 2024 तक हर घर नल योजना से पेयजल पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया था, जिसे वर्ष 2022 तक पूर्ण किए जाने का प्रयास किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में इसकी सफलता के लिए समयबद्ध ढंग से कार्य किया जाना आवश्यक है, जिसके लिए धनराशि की कोई कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने आशा व्यक्त की कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के कुशल नेतृत्व में उत्तर प्रदेश हर घर नल योजना के लक्ष्यों को हासिल करने में सफल होगा। इस अवसर पर प्रदेश के जल शक्ति मंत्री डॉ महेन्द्र सिंह, केन्द्रीय सचिव जल शक्ति मंत्रालय परमेश्वरन अय्यर, केन्द्रीय अपर सचिव जल शक्ति भरत लाल, प्रमुख सचिव नमामि गंगे एवं ग्रामीण जल संसाधन अनुराग श्रीवास्तव, अपर मुख्य सचिव सिंचाई टी वेंकटेश, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस पी गोयल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री संजय प्रसाद सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।