जब भी बेटी जन्म ले उसका जन्मोत्सव अवश्य मनाया जाय
January 9, 2020 • Mr Arun Mishra

> प्रत्येक माह की 9 तारिख को बालिका जन्मोत्सव का आयोजन जनपद में प्रसव कराने वाले सभी सरकारी अस्पतालों / निजी अस्पतालों में किया जाएगा।

>  जनपद फर्रुखाबाद में धूमधाम से मनाया गया बेटी जन्मोत्सव।

फर्रुखाबाद (का ० उ ० सम्पादन)। बेटियों के प्रति सोच में परिवर्तन लाने के उद्देश्य से तथा एक नयी पहल के रूप में बेटी जन्मोत्सव का शुभारम्भ डॉ राम मनोहर लोहिया चिकित्सालय (महिला) आवास विकास में मुख्य अतिथि जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह एवं विशिष्ट अतिथि मुख्य विकास अधिकारी डॉ राजेंद्र पेंसिया, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ चंद्रशेखर, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ दलवीर, मुख्य चिकित्साधीक्षक (महिला) डॉ कैलाश दुलहानी एवं जिला प्रोबेशन अधिकारी भारत प्रासाद ने केक काटकर किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी द्वारा उपस्थित 10 बालिकाओं एवं उनके परिजनों को गर्म कपडे, मिठाई एवं बधाई सन्देश प्रदान कर उनका सम्मान बढ़ाया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह ने कहा कि हमें लड़कियों को बराबर का महत्त्व देना चाहिए। अधिकतर महिलाओं द्वारा ही लड़कों को अधिक महत्त्व दिया जाता है इसी कारण लिंग अनुपात में अंतर की समस्या आ रही है। जिलाधिकारी ने अपील करते हुए कहा कि बेटी का जन्म होने पर घरों में अब से जन्मोत्सव अवश्य मनाया जाए। मौके पर जिलाधिकारी ने डॉ राम मनोहर लोहिया अस्पताल में बीते बृहस्तीवार जन्मी तीन बेटियों के परिवार से जानकारी ली कि उन्हें प्रधानमन्त्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत 2 किश्तों से लाभान्वित किया गया की नहीं। उपस्थित लाभार्थियों द्वारा बताया गया कि अभी तक एक भी किश्त प्राप्त नहीं हुई।  इस पर जिलाधिकारी ने नाराज़गी व्यक्त की एवं तीनों गर्भवती महिलाओं को प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना से आच्छादित करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने उपस्थित सभी अभिभावकों से कहा कि बेटियों को बोझ न समझा जाय। भारत सरकार / प्रदेश सरकार द्वारा बेटियों के हित में विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं चलाई गई हैं। बेटियों के जन्मदिवस पर अभिभावकों को बधाई एवं शुभकामनायें दी।  मुख्य विकास अधिकार डॉ राजेंद्र पेंसिया ने कहा कि अधिकार देखा जाता है कि बेटियों के जन्मोत्सव कम मनाय जाते हैं इसलिए अब से सरकारी / निजी अस्पतालों में प्रत्येक माह की 9 तारिख को जन्मी बेटियों का धूमधाम से जन्मोत्सव मनाया जाएगा, ताकि लिंगानुपात / समाज कुरीतियों को दूर किया जा सके।  जब भी बेटी जन्म ले उसका जन्मोत्सव अवश्य मनाया जाय। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ चंद्रशेखर ने सभी के प्रति आभार व्यक्त किया। बेटी बचाओ - बेटी पढ़ाओ योजनान्तर्गत प्रत्येक माह की 9 तारिख को बालिका जन्मोत्सव का आयोजन जनपद में प्रसव कराने वाले सभी सरकारी अस्पतालों / निजी अस्पतालों में किया जाएगा, जिसमें उस दिन जन्म लेने वाली नवजात बालिकाएं तथा उस अवसर पर दिनांक 1 से 9  तक उपस्थित नवजात बालिकाओं का जन्म दिन मनाया जाएगा तथा अभिभावकों को जिलाधिकारी द्वारा रचित बधाई सन्देश (पत्र) भी दिया जाएगा। 

जिला प्रोबेशन अधिकारी भारत प्रसाद ने कहा कि बेटी बचाओ - बेटी पढ़ाओ योजनान्तर्गत जनपद में निशुल्क मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण पूर्व से ही दिया जा रहा है, बेटी चौक एवं बेटी पार्क का निर्माण शीघ्र प्रारम्भ किया जाएगा, गुड्डी - गुड्डा बोर्ड का वितरण किया जा चुका है। आगे भी बेटियों के लिए अन्य लाभकारी कार्य संपन्न कराये जाएंगे। कार्यक्रम का सफल संचालन बाल संरक्षण अधिकारी सचिन सिंह द्वारा किया गया तथा मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना की विस्तृत जानकारी सभी को प्रदान की गई। इस अवसर पर चिकित्सालय की समस्त महिला चिकित्सक, अधीक्षक राजकीय सम्प्रेक्षण गृह, महिला कल्याण अधिकारी आशा ज्योति केंद्र की महिला सुगमकर्ता, जिला समन्वयक आदि उपस्थित थे।