जल-शक्ति अभियान तेजी से जनभागीदारी की मदद से सफल हो रहा है: पीएम
January 27, 2020 • Mr Arun Mishra

> पीएम ने कुछ सफल और अभिनव जल संरक्षण प्रयासों को साझा किया।

नई दिल्ली (का ० उ ० सम्पादन)। गणतंत्र दिवस पर मन की बात में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि जल शक्ति अभियान तेजी से जनभागीदारी की मदद से सफल हो रहा है। उन्होंने देश के हर कोने में कुछ व्यापक और अभिनव जल संरक्षण प्रयासों को साझा किया। राजस्थान के जालोर जिले के बारे में उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा, वहाँ दो ऐतिहासिक स्टेप कुएँ कचरे और गंदे पानी के भंडार में बदल गए थे। लेकिन एक दिन, जल शक्ति अभियान के तहत, भद्रायुं और थानावला पंचायतों के सैकड़ों लोगों ने उनका कायाकल्प करने का संकल्प लिया। बारिश से बहुत पहले, लोगों ने संचित गंदे पानी, कचरा और मोरस को साफ करने के काम में डूब गए। इस अभियान के लिए, कुछ ने धन दान किया; दूसरों को उनके श्रम और पसीना। परिणामस्वरूप, ये कदम कुएँ अब उनकी जीवन रेखा में बदल गए हैं। इसी प्रकार उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में साराही झील को ग्रामीणों के सामूहिक प्रयासों से जीवन में लाया गया था। जनभागीदारी का एक और उदाहरण उत्तराखंड में अल्मोड़ा-हल्द्वानी राजमार्ग के किनारे ग्राम सुनियाकोट है। यहां ग्रामीणों ने यह सुनिश्चित करने के लिए खुद को लिया कि पानी उनके गांव तक पहुंचे। लोगों ने धन जुटाया, श्रम दान किया। गाँव तक एक पाइप बिछाया गया और एक पम्पिंग स्टेशन स्थापित किया गया। इस प्रकार जल संकट की दशक पुरानी समस्या हल हो गई। प्रधानमंत्री ने सभी से आग्रह किया कि वे #Jalshakti4India  का उपयोग करके जल संरक्षण और जल संचयन के ऐसे प्रयासों की अपनी कहानियों को साझा करें। जल शक्ति अभियान - जल संरक्षण और जल सुरक्षा के लिए एक अभियान जुलाई, 2019 में अंतिम मानसून शुरू हुआ। इस अभियान ने जल बल वाले जिलों और ब्लॉकों पर ध्यान केंद्रित किया।