जनपद कानपुर नगर के लिए प्रस्तावित व्यय 732 करोड़ रुपए का किया गया अनुमोदन
March 5, 2020 • Mr Arun Mishra
卐 जिला योजना 2020 - 2021 की जिला योजना समिति बैठक संपन्न।
卐 केंद्र व प्रदेश सरकार की योजना से जनपद में नए विकास कार्यों के प्रस्ताव बनाए जाएं: उप मुख्यमंत्री, उ प्र 
卐 गौवंश को किसानों को पशुपालन कर दुग्ध उत्पादन हेतु समन्वय समिति बनाए जाने के निर्देश।
卐 उप मुख्यमंत्री ने स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत किए गए कार्यों की समीक्षा की।
 जिन विद्यालयों में बाउंड्री वाॅल नहीं हैं उनको कायाकल्प योजना में सम्मिलित कराए जाने के निर्देश।
लखनऊ। उप मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश / प्रभारी मंत्री कानपुर नगर केशव प्रसाद मौर्य की अध्यक्षता में जिला योजना समिति की वर्ष 2020-21 की बैठक विकास भवन के सभागार में संपन्न हुई। बैठक में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने वर्ष 2020-21 हेतु जिला योजना के अंतर्गत जनपद कानपुर नगर के लिए प्रस्तावित व्यय रुपए 732 करोड़ 32 लाख का अनुमोदन किया तथा गत जिला योजना वर्ष 2019-20 के अंतर्गत जनपद हेतु रुपए 660 करोड़ के स्वीकृत परिव्यय के सापेक्ष रुपए 166 करोड़ 48 लाख की अवमुक्त धनराशि के सापेक्ष हुए व्यय रु 152 करोड़ 92 लाख की धनराशि से किये गए कर्यों की जानकारी लेते हुए निर्देशित किया कि जिन विभागों के पिछले 3 वर्ष की जिला योजना में प्रस्तावित धनराशि के सापेक्ष बजट प्राप्त करने हेतु प्रयास नहीं किया है उनकी सूची प्रस्तुत करें तथा इस वर्ष अधिकारी  शासन से बजट प्राप्त करने हेतु विशेष रूप से प्रयास कर अपने विभागों हेतु धनराशि अवमुक्त कराएं। उन्होंने बताया कि जिला योजना वर्ष 2020-21 में शासन की प्राथमिकता के अनुसार स्वास्थ्य विभाग हेतु रु 23.18  करोड़, शिक्षा हेतु रु 81.34 करोड़, पेयजल हेतु रु 35.29 करोड़, सड़क निर्माण हेतु रु 143.85 करोड़, स्वच्छता हेतु रुपए 131.38 करोड़, आवास निर्माण हेतु रु 72.00 करोड़, रोजगार हेतु रुपए 41 करोड़, लाभार्थीपरक योजनाओं हेतु रुपए 109.30 करोड़ एवं अन्य विभागीय योजनाओं हेतु परिव्यय प्रस्तावित किया गया है। उन्होंने निर्देशित किया कि इस वर्ष की जिला योजना में विभागों द्वारा प्रस्तावित बजट को शासन स्तर से स्वीकृत कराए जाने हेतु जिले का एक नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाए तथा जिला योजना समिति का एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर जिला समिति के सदस्यों एवं जनप्रतिनिधियों को किए जाने वाली विकास कार्यों की समय-समय पर जानकारी एवं सुझाव भी आमंत्रित किए जाएं। श्री मौर्य ने कहा कि वित्तीय वर्ष 2019-20 समाप्ति की ओर है इसलिए गत वर्ष जिला योजना से प्राप्त अवशेष धनराशि से तेजी के साथ 31 मार्च तक विकास कार्यों को समय से पूर्ण कराए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्देशित किया कि गरीब एवं जनकल्याणकारी योजनाओं में बिचौलियों की कोई भूमिका नहीं होनी चाहिए। भ्रष्टाचार मुक्त विकास कार्य कराए जाएं तथा अंतिम व्यक्ति तक जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ जनता तक पहुँचे। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि जिला योजना समिति में जिन जनप्रतिनिधियों ने जो समस्याएं उठाई हैं उनका 15 दिनों के अंदर निस्तारण करना सुनिश्चित करें। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि केंद्र व प्रदेश सरकार की योजना से जनपद में नए बड़े विकास कार्यों के प्रस्ताव बनाए जाएं। उन्होंने कृषि, उद्यान व वन विभाग द्वारा संचालित जिला योजना की योजनाओं एवं अन्य सम्पूर्ण योजनाओं के द्वारा किसानों एवं लाभार्थियों को जो लाभ प्रदान किए जा रहे हैं, उनकी जानकारी जनप्रतिनिधियों को अवश्य उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने निर्देशित किया कि गौ आश्रय स्थल में रखे गए कोई भी गोवंश भूख, बीमारी व अन्य किसी कारण से मरने नहीं पाए उसकी तत्काल चारा, चिकित्सा आदि की समुचित व्यवस्था रखी जाए। उन्होंने पकड़े गए गौवंश को किसानों को पशुपालन कर दुग्ध उत्पादन हेतु एक समन्वय समिति बनाये जाने के निर्देश दिये। उप मुख्यमंत्री ने पाइप पेयजल योजनाओं के अंतर्गत  बनाई गई टंकियों को ठीक कराए जाने तथा पाइप पेयजल के द्वारा जलापूर्ति हेतु छूटे हुए पाइपलाइन के कार्यों को तत्काल ठीक कराने के निर्देश दिए। उन्होंने ग्राम निधि के अंतर्गत ग्राम पंचायतों में उपलब्ध धनराशि  को तत्काल ग्राम विकास कार्यों में उपयोग कराए जाने के  निर्देश दिए। उन्होंने तालाबों की भूमि पर अतिक्रमण को खाली कराए जाने तथा अवशेष बचे तालाबों की पैमाइश कराकर अतिक्रमण मुक्त रखे जाने के संबंध में निर्देशित किया। उन्होंने राजकीय नलकूपों की नियमित चेकिंग किए जाने तथा स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत पंचायत भवनों के निर्माण व अन्य किये गए कार्यों की समीक्षा की। बेसिक शिक्षा के कार्यों की समीक्षा करते हुए ककवन जूनियर हाई स्कूल सहित अन्य जिन विद्यालयों में बाउंड्री वाॅल नहीं हैं उनको कायाकल्प योजना में सम्मिलित कराए जाने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी डॉ ब्रह्मदेव राम तिवारी ने जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देशित किया कि ग्राम पंचायतों के कार्यों को तेजी से पूर्ण कराएं। उन्होंने प्रभारी मंत्री को आश्वस्त किया कि उनके द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार जनपद में तीव्र गति से विकास कार्यों को समय एवं गुणवत्तापूर्ण कराया जाएगा। बैठक में उच्च शिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती नीलिमा कटियार, जिला पंचायत अध्यक्ष, एमएलसी अरुण पाठक, विधायक महेश त्रिवेदी, भगवती प्रसाद सागर, अभिजीत सिंह सांगा, जिला योजना समिति के सदस्य गण एवं सांसद के प्रतिनिधिगण, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अनंत देव तिवारी, नगर आयुक्त अक्षय त्रिपाठी, मुख्य विकास अधिकारी सुनील सिंह सहित अधिकारीगण उपस्थित रहे।