जनपद में संचालित अमान्य स्कूलों पर की जाए प्रभावी कार्यवाही: जिलाधिकारी
March 13, 2020 • Mr Arun Mishra

फर्रुखाबाद (सुचना कार्यालय)। जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में स्कूली बच्चों के चिन्हीकरण, पंजीकरण आदि हेतु शारदा के सम्बन्ध में कार्यशाला कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई। जिलाधिकारी ने जनपद में आउट ऑफ़ स्कूल बच्चों का अच्छा डोर टू डोर सर्वे कर नामांकन की संख्या बढ़ाने के निर्देश प्रधानाध्यापकों को दिए।  बैठक में जिलाधिकारी ने कार्यशाला में कहा कि शिक्षा प्राप्त ककरना प्रत्येक बच्चे का अधिकार है, यदि कोई बच्चा शिक्षा से वंचित रहा तो उसके जिम्मेदार स्वयं प्रधानाध्यापक होंगे।  सर्वे अच्छे ढंग से कराना सुनिश्चित करें अन्यथा की दशा में सम्बंधित प्रधानाध्यापकों पर गंभीर कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। सर्वे के दौरान यदि कोई बच्चा भट्टे य बिल्डिंग निर्माण कार्य आदि में कार्य करता मिले तो उसकी सूचना तत्काल उपलब्ध कराए जाए, ताकि कार्यवाही तुरंत की जा सके। जनपद में संचालित अमान्य स्कूलों पर की जाए प्रभावी कार्यवाही। समस्त खंड शिक्षा अधिकारीयों से मांगी जाएँ अमान्य स्कूलों की वास्तविक रिपोर्ट। मुस्लिम स्कूलों में आउट ऑफ़ स्कूल बच्चों की बेहतर सर्वे कर नामांकन कराने का प्रयास किया जाए। मुख्य विकास अधिकारी को विद्यालयों का औचक निरीक्षण कराकर एसएमसी बैठकों का जायज़ा लेने के निर्देश दिए। माह के प्रथम बुधवार को होनी चाहिए विद्यालयों में एसएमसी बैठक। जिलाधिकारी ने बैठक में समस्त प्रधानाध्यापकों को निर्देशित करते हुए कहा कि सर्वे पूर्ण हो जाने के पश्चात ग्राम निरीक्षण कर आउट ऑफ़ स्कूल बच्चों का सत्यापन कर लिया जाएगा सर्वे का जायज़ा। यदि निरीक्षण के दौरान सर्वे में अनियमितता मिलने पर कड़ी कार्यवाही अमल लाई जायेगी। सरकार की प्राथमिकता है बेसिक शिक्षा। बेसिक शिक्षा के कार्यों में कमी पाए जाने पर सम्बंधित प्रधानाध्यापकों पर होगी बड़ी कार्यवाही। उन्होंने कहा कि शासन के निर्देशानुसार सभी विद्यालयों में एसएमसी द्वारा खरीदी जाए गुणवत्ता पूर्ण सामग्री। सामग्री खरीद में गड़बड़ी पाई गई तो प्रभावी कार्यवाही की जायेगी। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, समस्त खंड विकास अधिकारी एवं सम्बंधित अधिकारी, कर्मचारी  प्रधानाध्यापक उपस्थित रहे।