कानपुर की कोविड-19 स्थिति की गहनता से मॉनिटरिंग करें मुख्य सचिव : मुख्यमंत्री
October 7, 2020 • Mr Arun Mishra

> कोरोना से बचाव के लिए जागरुकता कार्यक्रम पूरी गति से संचालित किया जाए : मुख्यमंत्री

> जीएसटी के अन्तर्गत ज्यादा से ज्यादा रजिस्ट्रेशन कराया जाए : मुख्यमंत्री

> मुख्यमंत्री ने पराली न जलाने के सम्बन्ध में जागरुक करने के निर्देश दिए।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी 6 अक्टूबर 2020 को अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा करते हुए। (फोटो : मुख्यमंत्री सूचना परिसर)

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि जिन जनपदों में कोविड-19 के 50 से 100 मामले प्रतिदिन मिल रहे हैं, ऐसे जनपदों पर विशेष ध्यान दिया जाए। उन्होंने कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए बचाव एवं उपचार कार्य पूरी सक्रियता से जारी रखने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री योगी मंगलवार 6 अक्टूबर को अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्च स्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने जनपद लखनऊ और कानपुर नगर पर विशेष ध्यान देते हुए रिकवरी दर को बेहतर किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव द्वारा जनपद लखनऊ व कानपुर नगर की स्थिति की गहनता से मॉनिटरिंग की जाए तथा इसकी रिपोर्ट मुख्यमंत्री कार्यालय को उपलब्ध कराई जाए। मुख्यमंत्री ने इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर को सुदृढ़ बनाए रखने के निर्देश देते हुए इसका संचालन पूरी सक्रियता से करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोरोना से बचाव के लिए जागरुकता कार्यक्रम पूरी गति से संचालित किया जाए। उन्होंने स्वच्छता व सेनिटाइजेशन का कार्य सतत जारी रखने के निर्देश देते हुए कहा कि एन्टी लार्वा रसायनों का नियमित छिड़काव भी किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जीरो बजट खेती, जिसे अब भारतीय प्राकृतिक खेती कहते हैं, को बढ़ावा दिया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि धान क्रय केन्द्रों पर किसानों को कोई असुविधा न हो तथा किसानों की उपज का भुगतान 72 घण्टे में उनके बैंक खाते में अन्तरित कर दिया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों को पराली न जलाने के सम्बन्ध में जागरुक करते हुए बताया जाए कि पराली जलाने से प्रदूषण फैलता है। उन्होंने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत तेजी से कार्य किए जाने के निर्देश दिए। राजस्व वृद्धि के लिए पूरी सक्रियता से प्रयास किए जाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि जीएसटी के अन्तर्गत ज्यादा से ज्यादा रजिस्ट्रेशन कराया जाए। इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना, स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, स्वास्थ्य राज्य मंत्री अतुल गर्ग, मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन, कृषि उत्पादन आयुक्त आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक हितेश  अवस्थी, अपर मुख्य सचिव एमएसएमई एवं सूचना नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डॉ रजनीश दुबे, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस पी गोयल, अपर मुख्य सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज मनोज कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव पशुपालन भुवनेश कुमार, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार, राहत आयुक्त संजय गोयल, सूचना निदेशक शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।