कार्य स्थल पर कोविड-19 से बचाव के दिशा-निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाए : डॉ महेन्द्र सिंह
April 30, 2020 • Mr Arun Mishra

> जलशक्ति मंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग कर सिंचाई विभाग की महत्वपूर्ण परियोजनाओं को पूरा करने हेतु फील्ड अधिकारियों को दिए निर्देश।

> प्रत्येक कार्यस्थल पर एक नोडल अधिकारी नामित करते हुए श्रमिकों को कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक प्रबन्ध किए जाने के निर्देश।

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डॉ महेन्द्र सिंह ने कोविड-19 के चलते प्रदेश में लॉकडाउन की स्थिति में सिंचाई विभाग की महत्वपूर्ण परियोजनाओं पर कार्य शुरू करने एवं तेजी से पूरा करने हेतु विचार-विमर्श किया। उन्होंने प्रत्येक कार्यस्थल पर एक नोडल अधिकारी नामित करते हुए श्रमिकों को कोरोना से बचाव के लिए सेनेटाइजर, मास्क, हाथ धोने का साबुन तथा सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए भोजन आदि का प्रबन्ध किए जाने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्यों को अधिकतम गति देते हुए गुणवत्ता के साथ पूरा कराया जाये। डॉ महेन्द्र सिंह बुधवार 29 अप्रैल को अपने सरकारी आवास–5ए, मॉल एवेन्यू से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से फील्ड अधिकारियों से कार्य प्रारम्भ किए जाने की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि फील्ड अधिकारियों की व्यावहारिक समस्याओं को दूर कराया जायेगा। इसके साथ ही 10 दिन के बाद पुनः वीडियो कांफ्रेंसिंग करके कार्यों का स्थलीय अनुश्रवण किया जाएगा। जलशक्ति मंत्री ने सिंचाई विभाग की महत्वपूर्ण परियोजनाएं जैसे पूर्वी उत्तर प्रदेश की सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना, बुन्देलखण्ड क्षेत्र की अर्जुन सहायक परियोजना, स्प्रिंक्लर सिंचाई परियोजना, विश्व बैंक पोषित समानान्तर निचली गंगा नहर पर लाइनिंग, इटावा, फतेहपुर, कानपुर एवं पश्चिमी इलाहाबाद शाखा के कार्यों में गति लाने के निर्देश दिए। समीक्षा के दौरान मंत्री जी को अवगत कराया गया कि सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना की विभिन्न नहरों एवं शाखाओं पर ड्रेनेज क्रासिंग का कार्य, अर्जुन सहायक परियोजना के विभिन्न फीडर पर वीआरबी का निर्माण, कुल पहाड़ स्प्रिंक्लर परियोजना पर पाइप बिछाने व मिट्टी का कार्य शहजाद बांध, स्प्रिंक्लर सिंचाई परियोजना के अन्तर्गत पाइप बिछाने का कार्य तथा कनहर सिंचाई परियोजना बांध के स्पिलवे के निर्माण का कार्य पर 26 अप्रैल, 2020 से शुरू करा दिया गया है। इस वीडियो कांफ्रेंसिंग में जलशक्ति राज्यमंत्री बलदेव सिंह औलख भी सम्मिलित हुए। उन्होंने कोविड-19 को देखते हुए कार्यस्थल पर समस्त सावधानियां तथा बचाव के उपाय अपनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि निर्माण कार्यों में समयबद्धता जरूरी है। इसलिए फील्ड स्तर के अधिकारी हर सम्भव प्रयास करते हुए निर्माण कार्यों को समय से पूरा करायें। वीडियो कांफ्रेंसिंग में सचिव सिंचाई एवं जल संसाधन अपर्णा यू, विभागाध्यक्ष एवं प्रमुख अभियन्ता अनूप कुमार श्रीवास्तव तथा प्रमुख अभियन्ता परियोजना वी के निरंजन समेत विभिन्न सिंचाई संगठनों के अन्य अधिकारी मौजूद थे।