कमल रानी वरुण, चेतन चौहान और विधान सभा सदस्यों के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए विधान सभा में श्रद्धांजलि अर्पित की गई 
August 21, 2020 • Mr Arun Mishra

> अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री ने सदन के पूर्व सदस्य तथा बिहार व मध्य प्रदेश के राज्यपाल रहे लालजी टण्डन को श्रद्धांजलि दी।

> अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री ने गलवान घाटी में भारतीय सेना के शहीद वीर जवानों तथा दिवंगत कोरोना वॉरियर्स को श्रद्धांजलि दी।

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश विधान सभा के अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित जी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने गुरुवार 20 अगस्त 2020 को विधान सभा में सदन की सदस्य व प्राविधिक शिक्षा मंत्री कमल रानी वरुण, सदन के सदस्य व सैनिक कल्याण, होमगार्ड्स, प्रांतीय रक्षक दल, नागरिक सुरक्षा मंत्री चेतन चौहान, वर्तमान विधान सभा के सदस्य पारसनाथ यादव, वीरेन्द्र सिंह सिरोही के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। अध्यक्ष जी एवं मुख्यमंत्री जी ने सदन के पूर्व सदस्य तथा बिहार व मध्य प्रदेश के राज्यपाल रहे लालजी टण्डन के निधन पर भी गहरा शोक व्यक्त करते हुए अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने गलवान घाटी में शहीद भारतीय सेना के वीर जवानों तथा वैश्विक महामारी कोविड-19 के दिवंगत कोरोना वॉरियर्स को भी श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने विधान सभा के दिवंगत पूर्व सदस्यों कृष्ण वीर सिंह, रिछपाल सिंह बंसल, नरेन्द्र सिंह सिसोदिया, सुनीता चौहान, बेनी प्रसाद वर्मा, पं0 राम कृष्ण द्विवेदी, विश्राम दास, रमेश करन, बाबूलाल, यदुनाथ सिंह, जय नारायण शर्मा, ओम प्रकाश दिवाकर, शमीमुल हक, सुरेन्द्र शुक्ल, घूरा राम, डॉ अरविन्द कुमार जैन, भाई लाल कोल, जीराज सिंह मौर्य और सुरेन्द्र प्रकाश गोयल के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना भी व्यक्त की। मुख्यमंत्री एवं नेता सदन योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि श्रीमती कमल रानी वरुण घाटमपुर विधान सभा क्षेत्र, कानपुर से विधान सभा के लिए पहली बार निर्वाचित हुई थीं। एक मंत्री के रूप में उन्होंने विभागीय दायित्वों का कुशलतापूर्वक निर्वहन किया। एक जनप्रतिनिधि के रूप में उन्होंने हमेशा जन आकांक्षाओं का सम्मान किया और उसे पूरा करने का प्रयास भी किया। श्री चेतन चौहान प्रदेश की मंत्रिपरिषद के वरिष्ठ सदस्य थे। वह एक कर्मठ, समर्पित, लोकप्रिय जनप्रतिनिधि के साथ-साथ लोकप्रिय क्रिकेट खिलाड़ी भी थे। उनके निधन से समाज, सरकार और खेल जगत को अपूरणीय क्षति हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान विधान सभा के सदस्य वीरेन्द्र सिंह सिरोही इस सदन के वरिष्ठ सदस्य थे। वर्ष 1997 से 2002 तक प्रदेश सरकार के मंत्री के रूप में भी उन्होंने अपना योगदान दिया। उन्होंने कहा कि वर्तमान विधान सभा के सदस्य पारसनाथ यादव 12वीं व 14वीं लोक सभा के सदस्य भी रहेसरल स्वभाव एवं सहज उपलब्धता के कारण अपने क्षेत्र में उनकी पहचान लोकप्रिय जन नेता की थी। उन्होंने कहा कि दिवंगत लालजी टण्डन का उत्तर प्रदेश की राजनीति में दीर्घ अनुभव रहा। वह एक लोकप्रिय जन नेता, योग्य प्रशासक व कुशल मंत्री थे। वर्ष 2009 में लखनऊ संसदीय क्षेत्र से वह लोक सभा के सदस्य भी रहे। श्री टण्डन के निधन से प्रदेश की राजनीति को अपूरणीय क्षति हुई है। गलवान घाटी में शहीद हुए भारतीय सेना के वीर जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। उनके बलिदान और शौर्य को प्रदेश हमेशा याद रखेगा। कोविड-19 से लोगों की जान बचाते हुए अपनी जान की आहुति देने वाले सभी चिकित्सा कर्मियों, स्वास्थ्य कर्मियों, स्वच्छता कर्मियों, पुलिस कर्मियों और विभिन्न सेवाओं से जुड़े कोरोना वॉरियर्स को श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि देश को सुरक्षित रखने और कठिन परिस्थितियों में संभालने के लिए उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। उनकी निःस्वार्थ सेवा और भावना को प्रत्येक नागरिक नमन करता है। इस अवसर पर समाजवादी पार्टी के शैलेन्द्र यादव 'ललई', बहुजन समाज पार्टी के लालजी वर्मा, काँग्रेस की आराधना मिश्रा 'मोना', अपना दल के नीलरतन सिंह पटेल 'नीलू', सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के नेता ओम प्रकाश राजभर ने भी सभी दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए विधानसभा अध्यक्ष से अपने-अपने दलों की भावनाओं से सभी दिवंगतों के परिजनों को अवगत कराने का अनुरोध किया।