खुद साइकिल चलाएं और दूसरों को भी साइकिल चलाने के लिए प्रेरित करें: सीजीएम, गेल इंडिया लिमिटेड
January 19, 2020 • Mr Arun Mishra

> ऊर्जा एवं उल्लास के साथ सक्षम 2020 को पर्व की तरह मनाएं।

> स्वच्छ एवं स्वस्थ्य भविष्य का निर्माण करें।

कानपुर (का ० उ ० सम्पादन)। सक्षम फिट इंडिया साइकिल डे 19 जनवरी विगत 3 वर्षों की भाँती इस वर्ष भी पीसीआरए, भारत सरकार एवं तेल, गैस कंपनियों के सहयोग से सक्षम अर्थात संरक्षण क्षमता महोत्सव 2020 का आयोजन देश के विभिन्न भागों में 16 जनवरी से 15 फरवरी तक कर रही है। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य लोगों को स्वास्थ्य एवं पर्यावरण के प्रति जागरूकता पैदा करना तथा साथ ही साथ देश के तेल आयात की निर्भरता को कम करना है। इस वर्ष सक्षम 2020 की टैग लाइन है - ईंधन अधिक न खपाएं, आओ पर्यावरण बचाएं। सक्षम 2020 के अंतर्गत 19 जनवरी को देश के करीब 200 शहरों में एक साथ ' सक्षम फिट इंडिया साइकिल डे के रूप में आयोजित किया जा रहा है। इस बार इसमें फिट इंडिया मुहीम जोड़ी गई है, क्युकी फिट इंडिया ही सक्षम इंडिआ बन सकता है। इसका मतलब यह हुआ कि पर्यावरण संरक्षण, ऊर्जा संरक्षण के साथ - साथ स्वास्थ्य संरक्षण भी अति आवश्यक है। हम सब जानते हैं कि भारत 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था की ओर तेजी से अग्रसर हो रहा है जिसके साथ ईंधन एवं ऊर्जा की जरूरतें भी बढ़ जाएंगी। आज के इस दौर में प्राकृतिक संसाधनों का संकरक्शन उतना ही आवश्यक है जितना देश का सम्पूर्ण विकास। हमें इन दोनों के बीच ज़रूरी संतुलन बनाकर चलना पड़ेगा।  इस दृष्टिकोण से हम भविष्य में ऊर्जा बचा सकेंगे एवं वांछित विकास लक्ष्य भी प्राप्त कर सकते हैं। अतः हमें अपना संभव योगदान देना चाहिए। आज भारत दुनिया का तीसरा सर्वाधिक ऊर्जा खपत करने वाला देश है। प्रारंभिक ऊर्जा की जरूरतों में विश्व में भारत का हिस्सा 2040 में करीब 11 % तक पहुँच जाएगा जो आज के परिपेक्ष्य से दोगुना है। वर्ष 2018 - 2019 में भारत की तेल पर आयात निर्भरता 84 प्रतिशत तथा प्राकृतिक गैस पर 47 प्रतिशत रही है। हम सबको मिलकर ईंधन संरक्षण क ओर काम करना होगा। तेल एवं गैस संरक्षण में न्यूनतम उपयोग से हम अत्याधिक रूप से आयात व्यय को काम कर सकते हैं तथा हम देश निर्माण में इस व्यय को लगवा सकते हैं। हम सार्वजनिक परिवहन का प्रयोग कर सकते हैं, कार्यालय आने - जाने के लिए कारपूल कर सकते हैं, डोरी काम हो तोह कुचले का प्रयोग कर सकते हैं, गाडी चलाते समय विभिन्न दिशा - निर्देशों का पालन करते हुए तेल बचा सकते हैं। इस अवसर पर साइकिल चालकों को सम्बोधित करते हुए गेल इंडिया लिमिटेड के मुख्य महानिदेशक के प्रेम कुमार ने कहा कि सक्षम फिट इंडिया कानपुर में पिछले 3 वर्षों से साइकिल रैली का आयोजन ईंधन संरक्षण के लिए कर रहा है। ये आयोजन गेल पाता रिफाइनरी दिबियापुर के द्वारा मुख्य रूप से पीसीआरए के साथ मिल कर किया गया है। उन्होंने बताया कि गेल इंडिया ने देशभर में हवा बदलो मुहीम चलाई, साथ ही ऊर्जा गंगा मुहीम जगदीशपुर से प्रारम्भ होकर देश के 5 राज्यों से होती हुई ओडिशा में समाप्त हुई। उन्होंने ईंधन संरक्षण करने को सभी का आह्वाहन किया।

कानपुर के प्रसिद्द न्यूरोसर्जन डॉ विकास शुक्ला ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा चलाया गया फिट इंडिया प्रोग्राम एक नेक प्रोग्राम है। उन्होंने बताया कि यदि किसी को 100 वर्ष जीना है तोह यह जीवनकाल स्वच्छ वातावरण से ही संभव हो सकता है। डॉ शुक्ला ने कहा कि स्पाइन और जॉइंट्स की परेशानी से निजात साइकिलिंग से मिल सकता है। उन्होंने सुझाव दिया कि वृद्ध लोग अपने घरों में स्टैटिक साइकिल रखें। कानपुर लोकसभा के सांसद सत्यदेव पचौरी ने इस अवसर पर सम्बोधित किया।  उन्होंने कहा कि लोगों को फिट रखने के लिए पर्यावरण बचाएं और तेल की भी बचत करें। जिससे हम कह सकेंगे की आम के आम घुटलियों के दाम, क्योंकि तेल भी बचेगा और पर्यावरण भी स्वच्छ रहेगा। सांसद महोदय ने कहा कि पूरे देश में एक साथ ये साइकिल रालय आयोजित होकर एक भव्य मुहीम आगे बढे ऐसा प्रयास किया जाय। सड़कों की परेशानी पर सांसद पचौरी ने कहा कि अगले वर्ष जब यह साइकिल रैली आयोजित होगी तोह चमचमाती हुई सड़कें मिलेंगी। उन्होंने साथ ही बताया कि कानपुर कन्वेंशन सेण्टर का कार्य चल रहह है जिससे यहां के व्यापार को बढ़ावा मिलेगा। कानपुर का युवा दृढ संकल्पित युवा है। उन्होंने कहा कि खुद साइकिल चलाए और दूसरों को भी साइकिल चलाने के लिए प्रेरित करें।

मुख्य मंच से सम्बोधन के बाद सांसद सत्यदेव पचौरी ने चीफ जी एम गेल क प्रेम कुमार व् अन्य गणमान्यों के साथ साइकिल रालय को हरीझंडी दिखाकर ग्रीन पार्क से रवाना किया जो कि रेव 3  तक जाकर 5 किलोमीटर की दूरी तय कर वापस ग्रीनपार्क आयी। जहां लकी ड्रा से 4 पुरुषों और 4 महिलाओं को गेल इंडिया की तरफ से साइकिल भेंट की गई। इस अवसर पर डीजीएम एचआर गेल इंडिया लिमिटेड एस के कटिहार, जीएम एचआर पी एन राव, सीयूजीएल के एमडी रंजन द्विवेदी, डीजीएम सवनीत मंडल, डीजीएम दीप चंद्र गुप्ता, डॉ विकास शुक्ला, समेत अन्य गणमान्य उपस्थित थे।