किसानों को मिले पर्याप्त, निर्बाध बिजली : ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा
April 24, 2020 • Mr Arun Mishra

> ऊर्जा मंत्री ने सहारनपुर व मुरादाबाद के जनप्रतिनिधियों एवं विभागीय अधिकारियों के साथ की वीडियो कांफ्रेंसिंग।

> अधिकारियों को फीडबैक के आधार पर काम करने के निर्देश बेहतर आपूर्ति व्यवस्था बनाये रखने पर की प्रशंसा।

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। मा मुख्यमंत्री के निर्देश पर ऊर्जा एवं अतिरिक्त ऊर्जा स्रोत मंत्री श्रीकांत शर्मा ने निर्देश दिया कि इस समय गेहूं की कटाई व गन्ने की बुआई का सीजन चल रहा है। ऐसे में कृषि फीडर पर सुबह 7 से शाम 5 बजे तक 10 घंटे निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित की जाए। किसानों को कोई समस्या न हो सरकार इसके लिए प्रतिबद्ध है। ऐसे क्षेत्र जहां स्वतंत्र कृषि फीडरों का निर्माण अभी पूरा नहीं हो पाया है वहां भी अधिकारी किसानों की सुविधा के अनुसार रोस्टर तय करें। उन्होंने बिजली की निर्बाध आपूर्ति के लिए यूपीपीसीएल अध्यक्ष अरविंद कुमार को विशेष तौर पर निगरानी करने व जरूरी निर्देश जारी करने को कहा है। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा गुरूवार 23 अप्रैल को शक्तिभवन में सहारनपुर व मुरादाबाद मंडल के जनप्रतिनिधियों तथा विभागीय अधिकारियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग कर लॉकडाउन के दौरान विद्युत आपूर्ति की समीक्षा कर रहे थे। वीडियो कांफ्रेंसिंग में सहारनपुर, शामली, मुजफ्फरनगर, मुरादाबाद, रामपुर, संभल, अमरोहा और बिजनौर के सांसद, मंत्री व विधायकों के साथ अवर अभियंता स्तर तक के सभी अधिकारी उपस्थित थे। ऊर्जा मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जनपदों के स्टोर में तार और पोल की उपलब्धता सुनिश्चित कर लेंगर्मियां बढ़ रही हैं ऐसे में सभी वर्कशॉप की अलग से समीक्षा कर ली जाए, जिससे कहीं कोई तकनीकी दिक्कत आये तो उसे समय से ठीक किया जा सके और लोगों को समस्या का सामना न करना पड़े। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से शिकायतों को गंभीरता से सुने व किसी प्रकार की आपूर्ति संबंधी समस्या होने पर उसे शीघ्र निस्तारित करें। साथ ही 1912 की शिकायतों पर भी त्वरित गति से निस्तारण किया जाना सुनिश्चित किया जाये। श्री शर्मा ने सभी उपकेंद्रों पर सुरक्षा संबंधी प्रोटोकॉल व एहतियात बरतने के निर्देशों का कड़ाई से पालन करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों की सुरक्षा से किसी भी प्रकार का समझौता नहीं होना चाहिए। विभागीय अधिकारियों ने जिस तरह लॉकडाउन-1 में काम के मानक बनाये थे उसी प्रकार लॉकडाउन-2 में भी अपनी प्रतिबद्धता पर खरा उतरने की कोशिश करें। वीडियो कांफ्रेंसिंग में शामिल सभी जनप्रतिनिधियों ने भी ऊर्जा विभाग के कोरोना वारियर्स के कार्यों व उनकी प्रतिबद्धता की प्रशंसा की। सभी ने एक स्वर में कहा कि जिस प्रकार विद्युत विभाग के कार्मिक महामारी के दौर में अपनी प्रतिबद्धता दिखा रहे हैं वह अनुकरणीय है। ऊर्जा मंत्री ने कर्मिकों की प्रशंसा कर उनका हौसला बढ़ाया। उन्होंने खासतौर पर निर्देश दिया कि इस दौरान संविदाकर्मी का वेतन समय से मिले। इस मामले में कहीं कोई लापरवाही न हो।