कोविड केयर फण्ड के माध्यम से प्रदेश के सभी जनपदों में कोविड अस्पतालों की स्थापना की गई है : योगी आदित्यनाथ
August 8, 2020 • Mr Arun Mishra

> मुख्यमंत्री ने नोएडा कोविड चिकित्सालय का शुभारम्भ किया।

> मुख्यमंत्री ने सेक्टर 59, नोएडा में जिला प्रशासन के द्वारा कोविड-19 को लेकर बनाए गए इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया।

> मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से आगे भी इसी प्रकार के प्रयास जारी रखने की बात कही।

कोरोना से नागरिकों को सुरक्षित करने के उद्देश्य से आगे भी सर्विलांस का कार्य सघनता के साथ संचालित किया जाए : मुख्यमंत्री

 

मुख्यमंत्री ने मेरठ मंडल के सभी जनपदों के नोडल अधिकारियों एवं अन्य अधिकारियों के साथ की समीक्षा बैठक ...

बैठक में मुख्यमंत्री ने जनपद बुलंदशहर एवं बागपत में एल-3 अस्पताल की स्थापना सुनिश्चित करने के उद्देश्य से आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए तथा आगामी 15 दिनों के भीतर पूरे प्रदेश में कोरोना मृत्यु दर को 1 प्रतिशत से कम पर लाने का लक्ष्य रखा गया।

 

गौतमबुद्धनगर में पुलिस कमिश्नरी सिस्टम लागू होने के उपरांत जनपद में अपराधों पर अंकुश लगाने में विशेष सफलता मिली .....

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अपराधियों एवं माफियाओं के विरुद्ध सख्ती के साथ प्रभावी कार्रवाई सुनिश्चित की जाए और कोई भी अपराधी जेल से बाहर न रहने पाए।

 

नव निर्मित कोविड अस्पताल की सुविधाएं :

- 250 बेड

- 10 वेंटिलेटर

- 2 मोबाइल वेंटिलेटर

- मोबाइल डाइलिसिस मशीन

- सुसज्जित लैब तैयार

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी शनिवार 8 अगस्त 2020 को नोएडा में टाटा ट्रस्ट्स एवं बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन के सहयोग से सेक्टर 39, नोएडा में स्थापित आधुनिक कोविड अस्पताल का उद्घाटन करते हुए। (फोटो : मुख्यमंत्री सूचना परिसर)

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत सभी प्रदेश वासियों को संक्रमण से सुरक्षित करने तथा कोरोना पॉजिटिव मरीजों का यथा समय इलाज संभव कराने के उद्देश्य से सरकार द्वारा लगातार प्रयास सुनिश्चित किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी शनिवार 8 अगस्त 2020 को सेक्टर 39, नोएडा, जनपद गौतमबुद्ध नगर में नवनिर्मित नोएडा कोविड चिकित्सालय के शुभारम्भ अवसर पर कोविड-19 महामारी, विकास कार्यक्रमों एवं कानून व्यवस्था के संबंध में आहूत एक बैठक में उद्गार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा कि महामारी की इस घड़ी में बिल एवं मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन तथा टाटा ट्रस्ट के सहयोग से आज इस आधुनिक कोविड अस्पताल का 250 बेड से शुभारंभ किया गया है। इसमें 3 आईसीयू वॉर्ड बनाए गए हैं, जिनमें 28 बेड की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। अस्पताल में 10 वेंटिलेटर की व्यवस्था है तथा दो मोबाइल वेंटिलेटर उपलब्ध हैं। मोबाइल डाइलिसिस मशीन की व्यवस्था भी इस अत्याधुनिक अस्पताल में की गई है। अस्पताल के अंतर्गत अन्य आधुनिक मशीनों की स्थापना सुनिश्चित करते हुए सुसज्जित लैब तैयार की गई है। इस कार्य के लिए मुख्यमंत्री जी ने दोनों संस्थाओं के प्रतिनिधियों के सहयोग की सराहना की। मुख्यमंत्री ने अपने भ्रमण के दौरान सर्वप्रथम नोएडा कोविड चिकित्सालय का शुभारम्भ किया। उन्होंने अस्पताल के आईसीयू वॉर्ड, इमरजेंसी वॉर्ड, सामान्य वॉर्ड तथा अन्य व्यवस्थाओं का निरीक्षण भी किया। इसके उपरान्त अस्पताल के सभागार में मुख्यमंत्री द्वारा मेरठ मंडल के सभी जनपदों के नोडल अधिकारियों एवं अन्य अधिकारियों के साथ कोविड-19 महामारी, कानून व्यवस्था तथा विकास के संबंध में बैठक करते हुए अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए गए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के दृष्टिगत सभी प्रदेशवासियों को इस महामारी से सुरक्षित रखने तथा कोरोना संक्रमित व्यक्तियों का यथा समय इलाज संभव कराने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार द्वारा 450 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई। इसके तहत कोविड केयर फण्ड के माध्यम से प्रदेश के सभी जनपदों में कोविड अस्पतालों की स्थापना की गई है। वर्तमान में 1,51,000 बेड्स उपलब्ध हैं, ताकि संक्रमित व्यक्तियों का कोविड-19 प्रोटोकॉल के अनुरूप इलाज कराते हुए उन्हें स्वस्थ बनाया जा सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोरोना को लेकर पूर्व में एक लैब स्थापित थी। वर्तमान में 32 कोरोना टेस्टिंग लैब की स्थापना सुनिश्चित की गई है। उन्होंने कहा कि जनपद गौतमबुद्धनगर एवं गाजियाबाद कोरोना को लेकर अत्यंत संवेदनशील जनपद रहे हैं। यहां पर प्रशासन, पुलिस एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा जन सामान्य को संक्रमण से सुरक्षित करने के लिए जो प्रयास किए गए हैं, वह सराहनीय हैं। उन्होंने अधिकारियों से आगे भी इसी प्रकार के प्रयास जारी रखने की बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के संक्रमण को समाप्त करने तथा कोरोना से नागरिकों को सुरक्षित करने के उद्देश्य से आगे भी सर्विलांस का कार्य सघनता के साथ संचालित किया जाए। उन्होंने कहा कि एनसीआर के जनपदों में कोरोना से होने वाली मृत्यु की दर में कमी आयी है, आगे भी इसी प्रकार से प्रयास जारी रखे जाएं। उन्होंने जनपद बुलंदशहर एवं बागपत में एल-3 अस्पताल की स्थापना सुनिश्चित करने के उद्देश्य से अपर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य को आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए। उन्होंने कहा कि आगामी 15 दिनों के भीतर पूरे प्रदेश में कोरोना मृत्यु दर को 1 प्रतिशत से कम पर लाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए सभी अधिकारियों को और अधिक दृढ़ता के साथ प्रयास करने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून व्यवस्था और बेहतर करने के उद्देश्य से जनपद गौतमबुद्धनगर में पुलिस कमिश्नरी सिस्टम लागू होने के उपरांत जनपद में अपराधों पर अंकुश लगाने में विशेष सफलता मिली है। उन्होंने कहा कि अपराधियों एवं माफियाओं के विरुद्ध सख्ती के साथ प्रभावी कार्रवाई सुनिश्चित की जाए और कोई भी अपराधी जेल से बाहर न रहने पाए।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी शनिवार 8 अगस्त 2020 को नोएडा में स्थापित आधुनिक कोविड अस्पताल के सभागार में कोविड-19 के संबंध में बैठक करते हुए।  (फोटो : मुख्यमंत्री सूचना परिसर)

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जरूरतमन्दों को खाद्यान्न की व्यवस्था निरंतर सुनिश्चित की जाए। यदि कोई पात्र लाभार्थी राशन कार्ड बनवाने से वंचित है, तो उसका राशन कार्ड बनवा कर खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाए, ताकि इस योजना का लाभ उसे प्राप्त हो सके। उन्होंने निर्देश दिए कि वर्तमान समय में प्रत्येक शनिवार एवं रविवार को विशेष स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन अभियान प्रभावी ढंग से संचालित किया जाए, ताकि कोविड-19 एवं संचारी रोगों पर अंकुश लगाया जा सके। इसके लिए उन्होंने जन सामान्य में भी जागरुकता कार्यक्रम संचालित करने पर बल दिया। इस अवसर पर मंडलायुक्त श्रीमती अनीता सी मेश्राम ने मुख्यमंत्री जी को कोविड-19 के सम्बन्ध में मंडल के सभी जनपदों में की जा रही कार्यवाही से अवगत कराया। जिलाधिकारी सुहास एल वाई ने बैठक समापन के अवसर पर सभी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए मुख्यमंत्री जी को आश्वस्त किया कि उनके द्वारा जो निर्देश दिए गए हैं उनका अनुपालन किया जाएगा। बैठक के बाद मुख्यमंत्री जी ने सेक्टर 59, नोएडा में जिला प्रशासन के द्वारा कोविड-19 को लेकर बनाए गए इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया। बैठक के दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ महेश शर्मा, स्वास्थ्य राज्यमंत्री अतुल गर्ग एवं अन्य जनप्रतिनिधिगण सहित अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, अध्यक्ष नोएडा विकास प्राधिकरण आलोक टंडन, मुख्य कार्यपालक अधिकारी नरेंद्र भूषण तथा सभी जनपदों के कोविड-19 के नोडल अधिकारीगण एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।