लोक निर्माण अनुभाग-1 के 17 मार्गों व अनुभाग-14 के 2 मार्ग समेत 8 अद्द पुलिया के कार्यों हेतु धनराशि की गई अवमुक्त
July 9, 2020 • Mr Arun Mishra

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के निदेशों के क्रम में राज्य सड़क विकास निधि के अन्तर्गत विभिन्न जनपदों के 17 मार्गों के चालू कार्यों हेतु 27 करोड़ 49 लाख 40 हजार रुपए की अवशेष धनराशि उ प्र शासन द्वारा अवमुक्त की गयी है। इनमें जनपद प्रयागराज के 05 कार्य, जनपद प्रतापगढ़ के 05 कार्य, जनपद कौशाम्बी में 02 कार्य, जनपद वाराणसी में 01 कार्य एवं जनपद श्रावस्ती में 04 कार्य सम्मिलित हैं। इस सम्बन्ध में आवश्यक शासनादेश उ प्र शासन लोक निर्माण अनुभाग-1 द्वारा जारी किया जा चुका है। जनपद जालौन में बुन्देलखण्ड विकास निधि के अन्तर्गत इंगुई खुर्द से सला घाट सम्पर्क मार्ग के क्रियान्वयन हेतु 01 करोड़ 98 लाख 55 हजार रुपए की धनराशि का आवंटन किया गया है। इस परियोजना के क्रियान्वयन हेतु 04 करोड़ 96 लाख 39 हजार रुपए की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति शासन द्वारा दी गयी है। इस परियोजना की कुल लम्बाई 6.80 किमी है। इस सम्बन्ध में आवश्यक शासनादेश लोक निर्माण अनुभाग-14 द्वारा जारी किया जा चुका है। पूर्वांचल विकास निधि के अन्तर्गत जनपद अम्बेडकरनगर की पियारेपुर अहरिया चैराहे से मुर्गीपुर रहीम पट्टी तक सम्पर्क मार्ग का निर्माण कार्य एवं 5 अद्द पुलिया 900 एमएम ह्यूम पाईप सहित, 02 अद्द पुलिया 600 एमएम ह्यूम पाईप सहित, 01 अद्द पुलिया 350 एमएम ह्यूम पाईप सहित के क्रियान्वयन हेतु 92 लाख 62 हजार रुपए की धनराशि शासन द्वारा आवंटित की गयी है। इस परियोजना के क्रियान्वयन हेतु 2 करोड़ 98 लाख 87 हजार रुपए की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति शासन द्वारा दी गयी है। इस सम्बन्ध में आवश्यक शासनादेश लोक निर्माण अनुभाग-14 द्वारा जारी किया जा चुका है। जारी शासनादेशों में निर्देशित किया गया है कि समस्त कार्य निर्धारित व अनुमोदित मानकों एवं विशिष्टियों के अनुरूप सम्पादित कराए जाएं ताकि उच्च गुणवत्ता सुनिश्चित हो सके। आवंटित धनराशि का व्यय, वित्त विभाग द्वारा निर्गत आदेशों अथवा ज्ञापों में उल्लिखित शर्तों के अनुसार बजट मैनुअल एवं वित्तीय हस्तपुस्तिका के नियमों तथा नियमावली में किए गए प्राविधानों का अनुपालन करते हुए किया जाए। उप मुख्यमंत्री ने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वह आवंटित धनराशि के व्यय के बारें में जारी दिशा-निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित करें।