माइक्रोबायोलॉजिस्ट की सेवाएं लेकर टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाया जाए: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
April 5, 2020 • Mr Arun Mishra

> मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस कोविड-19 के सम्बन्ध में गठित समितियों के अध्यक्षों के साथ समीक्षा की।

> कन्ट्रोल रूम 24 घण्टे अपनी प्रभावी सेवाएं सुनिश्चित करे : मुख्यमंत्री

> मण्डलों में एल-3 लेवल के अस्पताल स्थापित किए जाएं : मुख्यमंत्री

> राज्य सरकार द्वारा उ0प्र0 कोविड केयर फण्ड बनाया गया : मुख्यमंत्री

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना को रोकने में सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष महत्व है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार कोरोना वायरस पर प्रभावी नियंत्रण स्थापित करने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री शनिवार को यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक बैठक में कोरोना वायरस कोविड-19 के सम्बन्ध में गठित समितियों के अध्यक्षों के साथ समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी जनपदों के जिलाधिकारी जिले में नोडल अधिकारी नियुक्त कर यह सुनिश्चित करें कि उनके जनपद में कोई भूखा न रहे। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि कन्ट्रोल रूम 24 घण्टे अपनी प्रभावी सेवाएं सुनिश्चित करे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी मण्डलों में एल-3 लेवल के अस्पताल स्थापित किए जाएं। माइक्रोबायोलॉजिस्ट की सेवाएं लेकर टेस्टिंग क्षमता को बढ़ाया जाए। राज्य में वेंटिलेटर निर्माण प्रक्रिया को तेज किया जाए। सभी जनपदों में आइसोलेटेड वॉर्ड्स की संख्या में वृद्धि की जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा एडवाइजरी के क्रम में कृषि यंत्रों तथा उर्वरक आदि की दुकाने खोली जाएँ। उन्होंने कहा कि कृषक अपने खेतों में आवश्यक दूरी बनाते हुए मुंह पर गमछा लगाकर कार्य सम्पादित करें। इसके लिए उन्हें जागरूक किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा के कारण बन्द हुए निजी विद्यालयों व चिकित्सालयों में किसी का वेतन न रोका जाए। सभी जनपदों के बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी यह सुनिश्चित कराएंगे। उन्होंने अधिकारियों को सभी जनपदों में सैनीटाइजेशन की व्यवस्था सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश कोविड केयर फण्ड बनाया गया है। मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश के सभी विधानसभा सदस्यों तथा विधान परिषद सदस्यों से अपील की है कि वे अपनी विधायक निधि से 01 करोड़ रुपए तथा एक माह का वेतन इस फण्ड के लिए दें। उन्होंने कहा कि इस फण्ड के माध्यम से टेस्टिंग लैब्स, पीपीई किट, वेंटिलेटर, आइसोलेशन वॉर्ड, मास्क तथा टेलीमेडिसिन सुविधा के साथ-साथ एल-1, एल-2 तथा एल-3 स्तर के अस्पतालों से प्रदेश के सभी जनपदों को संतृप्त किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सभी आवश्यक वस्तुओं की निर्बाध आपूर्ति बनी रहे इसके लिए आवश्यक है कि सप्लाई चेन में किसी प्रकार की रुकावट न आए। किराना आदि की दुकानों में जरूरी वस्तुओं की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए, जिससे आमजन को किसी भी परेशानी का सामना न करना पड़े। इस अवसर पर मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी, कृषि उत्पादन आयुक्त आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव वित्त संजीव कुमार मित्तल, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक हितेश सी अवस्थी, अपर मुख्य सचिव राजस्व श्रीमती रेणुका कुमार, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एस पी गोयल एवं संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, सूचना निदेशक शिशिर सहित वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।