मण्डलायुक्त त्वरित निर्णय लेकर मण्डल की तस्वीर बदल सकता है: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
January 4, 2020 • Mr Arun Mishra

> मुख्यमंत्री ने मण्डलायुक्तों के साथ स्मार्ट सिटी मिशन तथा अमृत मिशन के कार्यों की समीक्षा की।

> वित्तीय वर्ष 2019-20 में प्रदेश के चयनित 05 शहर देश के टॉप टेन स्मार्ट सिटी में अपना स्थान बनाएं: सीएम

> मण्डलायुक्त ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए मुख्य विकास अधिकारी तथा जिला पंचायतराज अधिकारी के साथ ठोस कार्ययोजना बनाएं: सीएम

> परम्परागत रिक्शे के स्थान पर ई-रिक्शा उपलब्ध कराए जाएं: सीएम

> नगरों में ट्रैफिक व्यवस्था को ठीक करने के लिए इंटीग्रेटेड कमाण्ड सेण्टर बनाएं: सीएम

लखनऊ (का ० उ ० सम्पादन)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वर्तमान सरकार आमजन को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए कृतसंकल्पित है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुये कहा कि प्रत्येक कार्य की कार्ययोजना बनाकर उसे मूर्तरूप दें। उन्होंने कहा कि मण्डलायुक्त मण्डल के अन्दर एक प्रमुख प्रशासनिक पद है। इसे अपने कार्यों के माध्यम से यादगार बनाने का काम करें। मण्डलायुक्त त्वरित निर्णय लेकर मण्डल की तस्वीर को बदल सकता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बीते शनिवार को अपने सरकारी आवास पर प्रदेश के सभी मण्डलायुक्तों के साथ स्मार्ट सिटी मिशन तथा अमृत मिशन के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने सहारनपुर, मुरादाबाद, झांसी, बरेली, लखनऊ, प्रयागराज तथा अलीगढ़ की स्मार्ट सिटी परियोजना के संदर्भ में सम्बन्धित मण्डलायुक्तों को निर्देशित किया कि इन महानगरों में योजना सम्बन्धी कार्यों को गति दें। उन्होंने समस्त मण्डलायुक्तों को निर्देशित किया कि वे जनपद के प्रत्येक विभाग की मासिक समीक्षा करें और इसकी सूचना मुख्यमंत्री कार्यालय को भी दें। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि सभी कार्य गुणवत्तापरक ढंग से समय पर सम्पादित हो। उन्होंने कहा कि वित्तीय वर्ष 2019-20 में स्मार्ट सिटी मिशन में प्रदेश के चयनित 05 शहर देश के टॉप टेन स्मार्ट सिटी में अपना स्थान बनाये।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि मण्डलायुक्त व शासन के अधिकारी आपस में बेहतर संवाद रखें। जिससे किसी प्रकार की अनिश्चितता की स्थिति न रहे। उन्होंने मण्डलायुक्तों को निर्देशित किया कि वे ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए सम्बन्धित जनपदों के मुख्य विकास अधिकारी तथा जिला पंचायतराज अधिकारी के साथ ठोस कार्ययोजना बनाकर कार्य करें। इसके लिए समाज के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों से विचार-विमर्श कर उनसे प्राप्त सुझावों का परीक्षण करते हुए इन्हें अपनी कार्ययोजना में शामिल करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि यह सुनिश्चित किया जाए कि सर्दी के इस मौसम में कोई भी व्यक्ति सड़क पर न सोये। ऐसे लोगों के लिए रैनबसेरों में व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा सभी मण्डलों में परम्परागत रिक्शे के स्थान पर ई-रिक्शा उपलब्ध कराए जाएं तथा इनके संचालन के लिए रूट भी निर्धारित किए जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मण्डलायुक्त यह भी सुनिश्चित करें कि ग्राम पंचायतों की धनराशि का उपयोग ग्रामों की बेहतरी में हो। बेसिक स्कूलों में सभी बुनियादी आवश्यकताएं पूर्ण की जायें। प्रत्येक ग्राम पंचायत में खेल का मैदान उपलब्ध कराया जाए, जिससे स्वस्थ भारत का सपना साकार हो सकें। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोगों को बेहतर पेयजल, ड्रेनेज सिस्टम, इंटरलॉकिंग तथा पार्क आदि की व्यवस्था उपलब्ध करायी जाये। मण्डलायुक्त पूरे मण्डल के नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र में स्वच्छता की स्थिति देखकर जवाबदेही तय करें। सभी नियुक्त सफाईकर्मियों द्वारा सफाई कार्य किया जा रहा है अथवा नहीं, इसकी जांच अवश्य करायें। स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि नगरों में ट्रैफिक व्यवस्था को ठीक करने के लिए इंटीग्रेटेड कमाण्ड सेण्टर बनायें। उन्होंने कहा कि लोग मल्टीप्लेक्स पार्किंग वाहन रखें, इसके लिए वहां शॉपिंग, रेस्टोरेन्ट जैसी व्यावसायिक गतिविधियों का संचालन किया जाए। बस स्टैण्ड को पीपीपी मोड पर विकसित करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि निर्भया फण्ड का उपयोग सीसीटीवी आदि लगाने में करें इससे अपराध को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि सड़क के अतिक्रमण को हटाया जाये तथा वेण्डर जोन की स्थापना की जाये। योगी जी ने कहा कि सॉलिड वेस्ट को वेल्थ में बदलना आज की आवश्यकता है। इसके दृष्टिगत नगर निकाय अपनी आय बढ़ाने के लिए कार्ययोजना तैयार करें। मुख्यमंत्री ने अमृत मिशन के तहत किये गये कार्यों पर संतोष व्यक्त किया है। उन्होंने जनपद झांसी में पेयजल पुर्नगठन योजना के अन्तर्गत सिंचाई विभाग को माताटीला डैम की क्षमता बढ़ाये जाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि किसानों को ड्रिप इरीगेशन के लाभों की जानकारी दें। उन्होंने कहा कि नहरों तथा तालाबों की डीसिल्टिंग की जाय, जिससे लोगों को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध हो सके। इस अवसर पर नगर विकास मंत्री आशुतोष टण्डन, नगर विकास राज्यमंत्री महेश गुप्ता, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एस पी गोयल, प्रमुख सचिव नगर विकास मनोज कुमार सिंह तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।