मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस के प्रसार की रोकथाम के लिए जनता से सोशल डिस्टेन्सिंग को अपनाने की अपील की
March 20, 2020 • Mr Arun Mishra

> मुख्यमंत्री ने मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों को धर्म गुरुओं से संवाद स्थापित कर धार्मिक स्थलों पर भीड़ एकत्रित न होने के निर्देश दिये।

> प्रत्येक नगर निगम में नियमित रूप से फॉगिंग करायी जाए।

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना वायरस (कोविड–19) के प्रसार की रोकथाम के लिए जनता से सोशल डिस्टेन्सिंग को अपनाने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि लोग भीड़भाड़ के स्थानों पर जाने से परहेज करें। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कोरोना फ्लू को नियंत्रित करने के लिए राज्य सरकार ने लगभग डेढ़ माह पहले ही उपाय शुरू कर दिये थे। इसका परिणाम है कि प्रदेश में स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। इस बीमारी से निपटने के लिए केन्द्र सरकार व राज्य सरकार ने सभी जरूरी कदम उठाये हैं। जनता के सहयोग से इस पर काबू पाया जा सकता है। इसलिए आवश्यक है कि कहीं भी भीड़ न इकट्ठी हो। धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं की भीड़ न इकट्ठी हो, इसके दृष्टिगत योगी जी ने धर्म गुरुओं से आगे आकर कोरोना वायरस के नियंत्रण के लिए समाज में जागरूकता का प्रसार करने की अपील की है। इस दिशा में विभिन्न धर्म गुरुओं द्वारा किये जा रहे प्रयासों का उन्होंने स्वागत किया है। योगी जी ने कहा कि चैत्र नवरात्रि सन्निकट है। नवरात्रि के प्रथम व दूसरे दिन तथा अष्टमी एवं नवमी पर लोग विशेष रूप से मन्दिरों में दर्शन-पूजन हेतु जाते हैं। इस दौरान अनेक स्थानों पर मेले आदि भी आयोजित किये जाते हैं, जिनमें जनता की भारी भागीदारी होती है। विशेष परिस्थितियों को देखते हुए उन्होंने आमजन से अनुरोध किया है कि कोरोना वायरस की रोकथाम हेतु लोग अपने घर में ही रहकर धार्मिक अनुष्ठान सम्पन्न करें। इससे इस संक्रामक बीमारी के प्रसार को रोकने में मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री योगी ने समस्त मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों एवं पुलिस अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे अपने-अपने जनपद में धर्म गुरुओं से सम्पर्क व संवाद स्थापित कर उनके माध्यम से धार्मिक स्थलों पर एकत्रित न होने के लिए आमजन को जागरूक कराएं। मुख्यमंत्री ने एसडीआरएफ बल को निर्देशित किया है कि वे शहरों में इस बीमारी की रोकथाम में जनता को सहयोग प्रदान करें। प्रत्येक नगर निगम में नियमित रूप से फॉगिंग करायी जाए। घनी आबादी वाले क्षेत्रों में वाहनों में माइक लगाकर कोरोना वायरस से बचाव का व्यापक प्रचार–प्रसार करते हुए लोगों को जागरूक किया जाए।