मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चित्रकूटधाम मण्डल के विकास कार्यों की समीक्षा की
September 5, 2020 • Mr Arun Mishra

> मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर चित्रकूट धाम मण्डल के मण्डलायुक्त तथा जनपद बांदा, हमीरपुर, चित्रकूट ओर महोबा के जिलाधिकारियों से विकास योजनाओं की प्रगति की विस्तृत जानकारी प्राप्त की।

> मुख्यमंत्री ने मण्डल के सांसद तथा विधायकों से संवाद किया।

> जनप्रतिनिधियों द्वारा प्रस्तावित कार्यों को पूरा करते हुए इनकी निधियों का पूरा सदुपयोग किया जाए : मुख्यमंत्री

> मुख्यमंत्री ने महोबा व हमीरपुर में खनन फण्ड से प्राप्त राशि का अस्पताल बनाने में उपयोग किए जाने के निर्देश दिए।

> मुख्यमंत्री ने भूमि सम्बन्धी विवादों को निस्तारित करने के लिए अभियान संचालित करने के निर्देश दिए।

> मुख्यमंत्री ने बांध बनाकर केन-बेतवा नदियों में उपलब्ध जल का सिंचाई में उपयोग किए जाने के निर्देश दिए।

> मुख्यमंत्री ने जनपद हमीरपुर में एल-3 कोविड अस्पताल स्थापित किए जाने के निर्देश दिए।

 

चित्रकूट में पर्यटन के विकास के लिए कृत संकल्पित हैं मुख्यमंत्री जी

> मुख्यमंत्री ने चित्रकूट में परिक्रमा मार्ग को बेहतर तथा सुविधाजनक बनाए जाने के लिए कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए।

> मुख्यमंत्री ने पर्यटन गतिविधियों को बढ़ाने के लिए मंदाकिनी नदी पर आरती और रामघाट पर लेजर शो की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।

> चित्रकूट में 'मेरी छत मेरा पानी' अभियान संचालित है : जिलाधिकारी

 

मुख्यमंत्री जी के मंडलीय निर्देश :

> चित्रकूट धाम मण्डल में पाइप पेयजल योजनाओं को समयबद्ध ढंग से पूर्ण किए जाएं। 

> गरीब और जरूरतमंद लोगों का राशन कार्ड तत्काल बनाया जाए।

> कर व करेत्तर राजस्व प्राप्ति की साप्ताहिक व पाक्षिक समीक्षा की जाए।

> बुन्देलखण्ड क्षेत्र में पुराने तालाबों के जीर्णोद्धार की कार्ययोजना तैयार की जाए।

> बांदा में उच्चीकृत 300 शैय्यायुक्त मण्डलीय संयुक्त जिला चिकित्सालय बन रहा है। यह चिकित्सालय 04 माह में पूर्ण हो जाएगा : मण्डलायुक्त

> बुन्देलखण्ड पैकेज के अधीन कुलपहाड़ स्प्रिंक्लर परियोजना से 2,700 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी : मण्डलायुक्त

> प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत मण्डल के कुल लक्ष्य 16,095 आवासों में से अवशेष 676 आवासों को माह सितम्बर, 2020 के अंत तक पूर्ण कर लिया जाएगा : मण्डलायुक्त

> जल संग्रहण के लिए वॉटर स्टोरेज टैंक स्थापित किए जा रहे हैं : मण्डलायुक्त 

> मुख्यमंत्री ने अन्तर्राज्यीय सीमा पर प्रदेश में प्रवेश स्थल पर तोरण द्वार बनवाने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने राजापुर–लालापुर को सड़क से जोड़ने के निर्देश देते हुए कहा कि यह गोस्वामी तुलसीदास व महर्षि वाल्मीकि से जुड़ा स्थल है और पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण है।

 

जीरो बजट खेती को प्रोत्साहित किया जाए ... 

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इससे ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा मिलेगा साथ ही, किसानों की आय बढ़ेगी व कृषि कार्य की लागत में कमी आएगी।

मा मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ, 04 सितम्बर 2020 को लोक भवन, लखनऊ में चित्रकूट धाम मण्डल,बान्दा की प्रगति के संबंध में वीडियो कांफ्रेंसिंग करते हुए। (फोटो : सहायक निदेशक, सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने 4 सितम्बर 2020 को अपने सरकारी आवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चित्रकूटधाम मण्डल के विकास कार्यों की समीक्षा की। इस अवसर पर उन्होंने मण्डल के सांसद व विधायकों से संवाद भी किया। उन्होंने मण्डल के सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि जनप्रतिनिधियों द्वारा दिए गए प्रस्तावों पर समयबद्ध ढंग से कार्यवाही की जाए। जनप्रतिनिधियों द्वारा प्रस्तावित कार्यों को पूरा करते हुए इनकी निधियों का पूरा सदुपयोग किया जाए। उन्होंने वैश्विक महामारी कोविड-19 के सम्बन्ध में पूरी सतर्कता बरतते हुए विकास कार्यों को तेजी से संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि गांवों में पब्लिक एड्रेस सिस्टम की व्यवस्था की जाए। मुख्यमंत्री जी ने महोबा व हमीरपुर के जिला अस्पतालों को अपग्रेड किए जाने तथा खनन फण्ड से प्राप्त राशि का अस्पताल बनाने में उपयोग किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने ड्रिप इरिगेशन को बढ़ावा देने तथा बांध बनाकर केन-बेतवा नदियों में उपलब्ध जल का सिंचाई में उपयोग किए जाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने अन्ना प्रथा को समाप्त करने तथा गौवंश की नस्ल सुधार किए जाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि जीरो बजट खेती को प्रोत्साहित किया जाए। इससे ऑर्गेनिक खेती को बढ़ावा मिलेगा साथ ही, किसानों की आय बढ़ेगी व कृषि कार्य की लागत में कमी आएगी। उन्होंने भूमि सम्बन्धी विवादों को निस्तारित करने के लिए अभियान संचालित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए कि लम्बित प्रकरणों को प्राथमिकता पर निस्तारित किया जाए। किसी भी स्तर पर मामला लम्बित रहने से विकास प्रक्रिया प्रभावित होती है। बेहतर कार्य संस्कृति अपनाए जाने पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी पटल पर 03 दिन से अधिक पत्रावली लम्बित न रहे। विभागीय मुख्यालय सहित अधीनस्थ कार्यालयों में पत्रावली 07 दिन से अधिक लम्बित न रहे। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जनपद चित्रकूट में पर्यटन की व्यापक सम्भावनाएं हैं। इसके लिए पर्यटन विकास की व्यापक कार्ययोजना को आगे बढ़ाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि इससे स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि डिफेन्स कॉरिडोर परियोजना के माध्यम से भी स्थानीय युवाओं के लिए बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर सृजित होंगे। मुख्यमंत्री जी ने अधिकारियों को फील्ड विजिट कर विकास कार्यों की स्थिति को मौके पर परखने के निर्देश दिए। उन्होंने विकास कार्यों को समयबद्ध व गुणवत्तापूर्ण ढंग से पूर्ण किए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि योजनाओं को समय से पूरा करने से लागत कम आती है और इन योजनाओं का लाभ जनता को समय से प्राप्त होता है। उन्होंने सामुदायिक शौचालय व ग्राम पंचायत सचिवालय के निर्माण सम्बन्धी कार्यों को प्राथमिकता से पूर्ण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सामुदायिक शौचालय सार्वजनिक स्थानों पर बनाए जाएं। चित्रकूट धाम मण्डल में पाइप पेयजल योजनाओं को समयबद्ध ढंग से पूर्ण किए जाने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि शुद्ध पेयजल की आपूर्ति आवश्यक है। प्रधानमंत्री जी का कथन है कि इसके उपलब्ध होने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है और उपचार पर व्यय होने वाली धनराशि की बचत होती है। उन्होंने गांवों को स्वच्छ बनाने की दिशा में तेजी से कार्यवाही करने के निर्देश भी दिए। शासन की योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को मिले, इस पर बल देते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि सभी पात्र लोगों को आवास, बिजली, पेंशन आदि सुविधाएं उपलब्ध हों। गरीब और जरूरतमंद लोगों का राशन कार्ड तत्काल बनाया जाए। उन्होंने राजस्व संग्रह को बढ़ाए जाने तथा इसकी निरन्तर समीक्षा किए जाने के निर्देश देते हुए जीएसटी के लिए अधिक से अधिक पंजीकरण पर जोर दिया। उन्होंने कर व करेत्तर राजस्व प्राप्ति की साप्ताहिक व पाक्षिक समीक्षा किए जाने के निर्देश भी दिए। जल संरक्षण को बढ़ावा दिए जाने पर बल देते हुए उन्होंने बुन्देलखण्ड क्षेत्र में पुराने तालाबों के जीर्णोद्धार की कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर चित्रकूट धाम मण्डल के मण्डलायुक्त तथा जनपद बांदा, हमीरपुर, चित्रकूट ओर महोबा के जिलाधिकारियों से विकास योजनाओं की प्रगति की विस्तृत जानकारी प्राप्त की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। मण्डलायुक्त ने बताया कि चित्रकूट धाम मण्डल में 50 करोड़ रुपए से अधिक लागत के कुल 17 निर्माण कार्य हैं। जनपद बांदा में उच्चीकृत 300 शैय्यायुक्त मण्डलीय संयुक्त जिला चिकित्सालय बन रहा है। यह चिकित्सालय 04 माह में पूर्ण हो जाएगा। बुन्देलखण्ड पैकेज के अधीन कुलपहाड़ स्प्रिंक्लर परियोजना प्रगति पर है। इससे 2,700 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी और कृषक लाभान्वित होंगे। अर्जुन सहायक परियोजना शीघ्र ही पूर्ण हो जाएगी। इससे लोगों को सिंचाई व पेयजल प्राप्त होगा। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे परियोजना का निर्माण तेजी से किया जा रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत मण्डल के कुल लक्ष्य 16,095 आवासों में से अवशेष 676 आवासों को माह सितम्बर, 2020 के अंत तक पूर्ण कर लिया जाएगा। जल संग्रहण के लिए वॉटर स्टोरेज टैंक स्थापित किए जा रहे हैं। इससे पानी की समस्या को कम करने में मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए कि सड़क मार्ग पर झूलते तार न मिलें। उन्होंने अन्तर्राज्यीय सीमा पर प्रदेश में प्रवेश स्थल पर तोरण द्वार बनवाने के निर्देश दिए। उन्होंने राजापुर–लालापुर को सड़क से जोड़ने के निर्देश देते हुए कहा कि यह गोस्वामी तुलसीदास व महर्षि वाल्मीकि से जुड़ा स्थल है और पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि उच्चीकृत 300 शैय्यायुक्त मण्डलीय संयुक्त जिला चिकित्सालय, बांदा को पूरी गुणवत्ता के साथ निर्धारित समयावधि में पूरा किया जाए। उन्होंने बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे तथा अमृत योजना के अन्तर्गत चित्रकूट मण्डल में होने वाले कार्य को समयबद्ध ढंग से पूरा किए जाने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि चित्रकूट में परिक्रमा मार्ग को बेहतर तथा सुविधाजनक बनाए जाने के लिए कार्ययोजना तैयार की जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि मानिकपुर से कल्याणपुर होते हुए धारकुण्डी आश्रम तक के मार्ग के चौड़ीकरण व सुदृढ़ीकरण कार्य को शीघ्र पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन के अन्तर्गत सभी कार्य समय पर पूरे किए जाएं। हर घर नल योजना का लाभ देते हुए शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए सरकार कृत संकल्पित है। जिलाधिकारी चित्रकूट ने मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया कि मंदाकिनी नदी का पुनरोद्धार किया जा रहा है। इसमें मनरेगा के तहत प्रवासी श्रमिकों को बड़ी संख्या में रोजगार उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने बताया कि चित्रकूट में 'मेरी छत मेरा पानी' अभियान संचालित है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पर्यटन गतिविधियों को बढ़ाने के लिए मंदाकिनी नदी पर आरती और रामघाट पर लेजर शो की व्यवस्था की जाए। जिलाधिकारी बांदा ने बताया कि जनपद बांदा में 10 करोड़ से 50 करोड़ रुपए तक की लागत की 12 परियोजनाएं संचालित हैं। गुढाकलां पेयजल योजना की भौतिक प्रगति 99 प्रतिशत है। इससे सम्बन्धित समस्त कार्य माह सितम्बर, 2020 में पूरे हो जाएंगे। जनपद में स्वच्छ पेयजल आपूर्ति हेतु पाइप पेयजल योजनाओं के माध्यम से जलापूर्ति की जा रही है। हर घर नल योजना के तहत 5500 किमी पाइप लाइन बिछाने का कार्य प्रस्तावित है। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि गौ आश्रय स्थल बनाए जाएं। गौवंश के नस्ल सुधार और अन्ना प्रथा समाप्त किए जाने के लिए ठोस कार्ययोजना बनायी जाए। जिलाधिकारी हमीरपुर ने बताया कि राजकीय महाविद्यालय, सुमेरपुर का निर्माण तेजी से किया जा रहा है। हर घर नल योजना के तहत कार्य प्रगति पर है। बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे के लिए जमीन का अधिग्रहण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यमुना पुल से संगम होते हुए बेतवा पुल तक तटबंध का निर्माण कराए जाने का प्रस्ताव विचार के लिए प्रेषित किया गया है। इसके स्वीकृत हो जाने से बाढ़ की त्रासदी से बचाव के साथ-साथ जनपद हमीरपुर में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। मुख्यमंत्री जी ने कोविड-19 के दृष्टिगत जनपद हमीरपुर में एल-3 कोविड अस्पताल स्थापित किए जाने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी महोबा ने बताया कि जनपद महोबा में 10 से 50 करोड़ रुपए तक की कुल 07 परियोजनाएं संचालित हैं। बड़खेरा ग्राम समूह पेयजल योजना से 24 गांव लाभान्वित होंगे। राजकीय पॉलीटेक्निक कुलपहाड़ का 97 प्रतिशत कार्य पूर्ण हो गया है। बैठक के दौरान मुख्य सचिव आर के तिवारी, कृषि उत्पादन आयुक्त आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव वित्त संजीव मित्तल, अपर मुख्य सचिव ऊर्जा अरविन्द कुमार, अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज एवं ग्राम्य विकास मनोज कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस पी गोयल, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री  संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव वन सुधीर गर्ग, प्रमुख सचिव नगर विकास दीपक कुमार, सचिव भूतत्व एवं खनिकर्म रोशन जैकब, सूचना निदेशक शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।