नक़ल विहीन संपन्न हों बोर्ड परीक्षा: जिलाधिकारी
February 12, 2020 • Mr Arun Mishra

> समस्त सेक्टर मजिस्ट्रेट परिक्षा प्रारम्भ होने से पूर्व ही परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश।

फर्रुखाबाद (का ० उ ० सम्पादन)। बोर्ड परीक्षा वर्ष 2020 सफल रूप से संपन्न कराने हेतु जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में समीक्षा बैठक आहूत की गई। जिलाधिकारी ने बैठक में निर्देशित करते हुए कहा कि वर्तमान सरकार चाहती है कि यूपी बोर्ड के बच्चे चपरासी य सिपाई न बने बल्कि यूपी बोर्ड के बच्चे परिक्षा पास कर आईएएस / आईपीएस बने। मा मुख्यमंत्री की मंशा के अनुसार जनपद में नक़ल विहीन परीक्षा कराना सुनिश्चित किया जाए। केन्द्र व्यवस्थापक एवं प्रधानचार्य को निर्देशित करते हुए कहा कि बोर्ड परीक्षा नक़ल विहीन परीक्षा हो इसका ध्यान रखा जाए। यदि नक़ल कराने के लिए परीक्षा केंद्रों में किसी प्रकार का दबाव बनाया जाए तो तत्काल गोपनीय रूप से सुचना उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाए। यदि परीक्षा केंद्रों से नक़ल कराने की सुचना मिली तो गम्भीत कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। परीक्षा केंद्रों पर पारदर्शिता पूर्ण, नक़ल विहीन परीक्षा कराए जाने एवं वेब कास्टिंग द्वारा मॉनिटरिंग किए जाने के उद्देश्य से वॉइस रिकॉर्डर युक्त सीसीटीवी कैमरा, डीवीआर के साथ राऊटर डिवाइस एवं हाई स्पीड ब्रॉडबैंड कनेक्शन लगे होने की अनिवार्यता के दृष्टिगत क्रियाशील रखना केन्द्र व्यवस्थापकों की ज़िम्मेदारी होगी। जिलाधिकारी ने समस्त सेक्टर मजिस्ट्रेट को परिक्षा प्रारम्भ होने से पूर्व ही समस्त परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण कर सीसीटीवी फुटेज की गुणवत्ता चेक कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। जनपद में बोर्ड परिक्षा की कुशल मॉनिटरिंग हेतु 11 सेक्टर मजिस्ट्रेट एवं 6 जोनल मजिस्ट्रेट तैनात किये गए हैं। परिक्षा कक्षों में मोबाइल फ़ोन उपयोग वर्जित होगा। परीक्षा के दौरान सचल दाल सक्रीय रहे यह सुनिश्चित किया जाए। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में कण्ट्रोल रूम स्थापित करने के निर्देश दिए। सभी परिक्षा केंद्रों पर 100 मीटर दायरे के अंतर्गत शासनादेश के नियमानुसार धारा 144 लागू रहेगी। बैठक में पुलिस अधीक्षक, अपर जिलाधिकारी, समस्त उप जिलाधिकारी, सेक्टर / जोनल मजिस्ट्रेट, स्थैतिक मजिस्ट्रेट, केन्द्र व्यवस्थापक एवं प्रधानाचार्य उपस्थित रहे।