परिषदीय विद्यालयों में यथासमय नए छात्रों का दाखिला कराने के साथ-साथ उनके लिए भौतिक अवस्थापना सुविधाओं की भी व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए: मुख्य सचिव 
May 9, 2020 • Mr Arun Mishra

> प्रदेश के समस्त बेसिक शिक्षा विद्यालयों के अध्यापकों एवं छात्र-छात्राओं के आधार नामांकन की प्रक्रिया को शत-प्रतिशत सुनिश्चित कराया जाए: मुख्य सचिव, उ प्र शासन

> प्रदेश में जर्जर विद्यालयों के भवनों के स्थान पर पुर्ननिर्माण कराया जाए : मुख्य सचिव, उ प्र शासन

> ऑपरेशन कायाकल्प के अन्तर्गत प्रत्येक विद्यालय में छात्र-छात्राओं हेतु शौचालयों का निर्माण अवश्य कराया जाए : मुख्य सचिव, उ प्र शासन

> फिट इण्डिया योजना के अन्तर्गत प्रत्येक माध्यमिक विद्यालय में एक ओपेन जिम की भी व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए : राजेन्द्र कुमार तिवारी

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने निर्देश दिए कि प्रदेश के समस्त बेसिक शिक्षा विद्यालयों के अध्यापकों एवं छात्र-छात्राओं के आधार नामांकन की प्रक्रिया को शत - प्रतिशत कराया जाना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि यथासमय प्रदेश के परिषदीय विद्यालयों में नए छात्रों का दाखिला कराने के साथ - साथ उनके लिए भौतिक अवस्थापना सुविधाओं की भी व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि प्रदेश में जर्जर विद्यालयों के भवनों के स्थान पर पुर्ननिर्माण कराया जाए। मुख्य सचिव शुक्रवार 8 मई को लोक भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में मध्यान्ह भोजन प्राधिकरण प्रबन्धकारिणी समिति की 25 वीं एवं सभी के लिए शिक्षा परियोजना की कार्यकारिणी समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने निर्देश दिए कि परिषदीय विद्यालयों में अतिरिक्त कक्षों का निर्माण कराते हुए सुनिश्चित कराया जाए कि विद्यार्थियों के लिए कक्षों की कमी न होने पाए। उन्होंने यह भी कहा कि जिन विद्यालयों में कक्षों की संख्या 02 हो, ऐसे विद्यालयों को कक्षों की संख्या को बढ़ाते हुए कम से कम 03 अवश्य रखा जाना चाहिए। उन्होंने विद्यालयों में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखे जाने के निर्देश दिए देते हुए कहा कि ऑपरेशन कायाकल्प के अन्तर्गत प्रत्येक विद्यालय में छात्र-छात्राओं हेतु शौचालयों का निर्माण अवश्य कराया जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि छात्राओं हेतु समस्त विद्यालयों में शत-प्रतिशत शौचालयों का निर्माण कराते हुए उनके स्वच्छ पेयजल एवं मल्टीपल हैण्ड वाशिंग की भी उचित व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। श्री तिवारी ने निर्देश दिए कि मध्यान्ह भोजन योजनान्तर्गत छात्र-छात्राओं को ताजे एवं पौष्टिक सब्जियों का भोजन उपलब्ध कराये जाने हेतु विद्यालयों में किचन गार्डेन की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि परिषदीय विद्यालयों में छात्र-छात्राओं को स्मार्ट क्लासेज के माध्यम से भी शिक्षा प्रदान करने हेतु कार्यवाही की जाए। मुख्य सचिव ने समग्र शिक्षा परियोजना कार्यकारिणी समिति की बैठक में निर्देश दिए कि कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों के अन्तर्गत अध्ययनरत छात्राओं हेतु विभिन्न अवस्थापना सुविधाओं की व्यवस्था कराते हुए उनके भोजन, हाॅस्टल एवं एकेडमिक भवनों का निर्माण कार्य भी सुनिश्चित कराया जाए। उन्होंने विद्यालयों में अध्ययनरत बालिकाओं हेतु शिक्षा के साथ-साथ आत्म रक्षा एवं स्वच्छता पर भी विशेष जोर दिया। उन्होंने कहा कि माध्यमिक विद्यालयों में स्मार्ट क्लासेज के माध्यम से भी छात्र-छात्राओं को शिक्षा प्रदान की जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि प्रत्येक माध्यमिक विद्यालय में कम्प्यूटर लैब, लैंग्वेज लैब का निर्माण कराते हुए इंग्लिश स्पीकिंग स्कील के विकास हेतु आवश्यक व्यवस्थाएं भी सुनिश्चित कराई जाएं। उन्होंने कहा कि लैंग्वेज लैब के निर्माण से माध्यमिक विद्यालयों के छात्रों में आत्म विश्वास विकसित होने के साथ-साथ वह भविष्य में विभिन्न स्तरों पर होने वाली प्रतियोगिताओं एवं प्रतिस्पर्धा में भी इसका उपयोग कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि फिट इण्डिया योजना के अन्तर्गत प्रत्येक माध्यमिक विद्यालय में एक ओपेन जिम की भी व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। श्री तिवारी ने निर्देश दिए कि नीति आयोग द्वारा चिन्हित महत्वाकांक्षी जनपदों के अन्तर्गत आने वाले 08 जनपदों के प्रत्येक नवीन राजकीय हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट विद्यालयों हेतु सोलर पैनल एवं आवश्यक फर्नीचर की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। उन्होंने कहा कि समस्त राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में अध्ययनरत् छात्राओं हेतु सैनेट्री नैपकिन डिसपेन्सर तथा इनसीनिरेटर की भी व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। बैठक में अपर मुख्य सचिव, बेसिक शिक्षा श्रीमती रेणुका कुमार, प्रमुख सचिव, माध्यमिक शिक्षा श्रीमती अराधना शुक्ला, राज्य परियोजना निदेशक, सर्व शिक्षा अभियान विजय किरन आनन्द सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।