प्राप्त दिशा-निर्देशों के अनुरूप जागरुकता अभियान को और तेज किया जायेगा
October 5, 2020 • Mr Arun Mishra

उत्तर मध्य रेलवे कोविड -19 महामारी से सभी मोर्चों पर कर रहा संघर्ष

प्रयागराज में रेलवे के 100 बेड लेवल-2 हास्पिटल में अब तक 435 कोविड पॉजिटिव मरीज भर्ती हुए।

झाँसी में रेलवे के लेवल-2 कोविड केयर सेंटर में अब तक 464 कोविड पॉजिटिव मरीज भर्ती हुए।

> यात्रियों को जागरुक करने हेतु रेलवे व्यवस्था -

> स्टेशनों और ट्रेनों में जागरुकता पोस्टरों का प्रदर्शन 

> स्टेशनों पर पब्लिक एनाउंसमेंट सिस्टम के माध्यम से जागरुकता संदेशों और जिंगल्स का प्रसारण

> स्टेशनों पर एलईडी स्क्रीन और ट्रेनों में एलईडी डिस्प्ले पर जागरुकता वीडियो सामग्री का प्रदर्शन

> इलेक्ट्रॉनिक स्लिप (ईआरएस), वेबसाइट और आईआरसीटीसी ऐप पर जागरुकता संदेशों के अतिरिक्त जागरुक करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्मों और बल्क एसएमएस का भी व्यापक प्रयोग किया जा रहा है।

प्रयागराज (मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी, उ म रे)। अर्थव्यवस्था के अनलाक होने और आगामी त्यौहारी सीज़न के बीच कोविड-19 के बचाव के लिए; उत्तर मध्य रेलवे ने अक्टूबर और नवंबर 2020 के दौरान गहन जागरुकता अभियान शुरू किया है। कोविड-19 के अनुसार उचित व्यवहार के अनुपालन के साथ सूचना और प्रसारण मंत्रालय के परामर्श से रेल मंत्रालय ने त्योहारी सीजन के दौरान रेलयात्रियों, रेल उपयोगकर्त्ताओं, कर्मचारियों और आमजनता के लिए एक बहुप्रचारित, मानक और सरल जागरुकता अभियान चलाने का  निर्णय लिया है। इसके अंतर्गत स्टेशनों और ट्रेनों में जागरुकता पोस्टरों का प्रदर्शन,  स्टेशनों पर पब्लिक एनाउंसमेंट सिस्टम के माध्यम से जागरुकता संदेशों और जिंगल्स का प्रसारण, स्टेशनों पर एलईडी स्क्रीन और ट्रेनों में एलईडी डिस्प्ले पर जागरुकता वीडियो सामग्री का प्रदर्शन; इलेक्ट्रॉनिक स्लिप (ईआरएस), वेबसाइट और आईआरसीटीसी ऐप पर जागरुकता संदेशों के अतिरिक्त यात्रियों, रेलवे कर्मचारियों आदि को जागरुक करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्मों और बल्क एसएमएस का भी व्यापक प्रयोग किया जा रहा है। उत्तर मध्य रेलवे पर पीए सिस्टम से युक्त 261 महत्वपूर्ण स्टेशनों पर कोविड -19 संबंधित जागरुकता संदेशों का नियमित रूप से एनाउंसमेंट किया जा रहा है; एलईडी डिस्प्ले सुविधा से युक्त प्रमुख स्टेशन पर कोविड -19 से बचाव संबंधित वीडियो क्लिप चलाये जा रहे हैं; उत्तर मध्य रेलवे के सभी स्टेशनों और प्राथमिक ट्रेनों में जागरुकता पोस्टर लगाये गये हैं; जागरुकता फैलाने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का प्रयोग करने के साथ साथ यात्रियों को सिस्टम जनरेटेड जागरुकता संदेश भी भेजे जा रहे हैं। मौजूदा प्रयासों के अलावा रेल मंत्रालय और सूचना और प्रसारण मंत्रालय से प्राप्त दिशा-निर्देशों के अनुरूप सम्बंधित जागरुकता सामग्रियों का उपयोग इस जागरुकता अभियान को और तेज करने के लिए किया जायेगा। सघन जागरुकता अभियान के अलावा कोविड -19 संबंधित अन्य व्यवस्थाएं जैसे कि प्रमुख स्टेशनों पर स्वचालित थर्मल स्कैनर, सभी स्टेशनों और कार्यस्थलों पर हैण्ड हेल्ड स्कैनर, स्टेशनों, कार्यस्थलों, कार्यालयों आदि पर सोशल डिस्टैंसिंग की व्यवस्था, आरोग्य सेतु ऐप के उपयोग को बढ़ावा देना, हाथों के सैनिटाइजेशन की व्यवस्था, सामान के सैनिटाइजेशन और रैपिंग की व्यवस्था, मास्क, सैनिटाइजर इत्यादि के लिए कियोस्क, कोविड -19 सुरक्षा किट बिक्री केंद्र, संपर्क रहित टिकट जाँच व्यवस्था, आदि का प्रयोग रेलयात्रियों और रेलवे कर्मचारियों को कोरोना वायरस से बचाव के लिए किया जा रहा है। दिनांक 04.10.2020 तक स्वच्छता और सूचना, शिक्षा और संचार (आई ई सी) के कुल 638 औपचारिक और अनौपचारिक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए गए हैं, जिनके माध्यम से उत्तर मध्य रेलवे के चिकित्सकों और अन्य फ्रंट-लाइन कर्मचारियों को नोवल कोरोना वायरस से सम्बंधित अपेक्षित जानकारी उपलब्ध करायी जा रही है। रेलवे कर्मचारियों, उनके परिवार के सदस्यों और रेलवे चिकित्सा सेवाओं के अन्य लाभार्थियों की स्क्रीनिंग तेज कर दी गई है; और दिनांक 04.10.2020 तक बुखार और कोविड - 19  जैसे लक्षण वाले की जांच के लिए चलाए जा रहे 05 अलग-अलग क्लीनिकों में 15400 से अधिक व्यक्तियों की जाँच की जा चुकी है। उत्तर मध्य रेलवे में कोविड -19 के अस्पताल में देखभाल सुविधाओं को लगातार उन्नत किया जा रहा है। झांसी रेलवे अस्पताल के 100 बेड वाले लेवल-2 कोविड केयर सेंटर में अब तक 464 कोविड पॉजिटिव मरीज भर्ती हुए हैं, जिनमें से 338 को डिस्चार्ज किया गया, 77 को अन्य अस्पतालों में रेफर किया गया और 49 का अभी इलाज चल रहा है। इसी प्रकार केंद्रीय अस्पताल, प्रयागराज में 100 बेड लेवल -2 हास्पिटल में अब तक 435 कोविड पॉजिटिव मरीज भर्ती हुए हैं, जिनमें से 370 को डिस्चार्ज किया गया, 40  को अन्य अस्पतालों में रेफर किया गया और 25 का अभी इलाज चल रहा है। कोविड परीक्षण को भी तेज कर दिया गया है, दिनांक 4 अक्टूबर 2020 तक रेलवे अस्पताल झांसी में 1868 और केंद्रीय अस्पताल प्रयागराज में 2372 लोगों का परीक्षण किया गया है।