प्रदेश में अब पूल टेस्ट में 05 सैम्पल से बढ़ाते हुए 10 सैम्पल का टेस्ट किया जायेगा : अमित मोहन प्रसाद
May 16, 2020 • Mr Arun Mishra

> प्रदेश में अब तक कुल 13.50 लाख लोग आ चुके हैं : एसीएस, गृह एवं सूचना 

> प्रदेश में अब तक 380 ट्रेन के माध्यम से लगभग 4.69 लाख प्रवासी कामगार एवं श्रमिक आये : एसीएस, गृह एवं सूचना 

> प्रदेश के गोरखपुर में 57 ट्रेन से सबसे अधिक 62,680 श्रमिक आए : एसीएस, गृह एवं सूचना

> वर्तमान में प्रदेश के 48 रेलवे स्टेशन पर ट्रेन का आवागमन हो रहा है : एसीएस, गृह एवं सूचना

> प्रवासी कामगारों एवं श्रमिकों को उनके गृह जनपद भेजे जाने के लिए यूपीएसआरटीसी की कुल 11,964 बसें लगाई गई : एसीएस, गृह एवं सूचना

> जन सुनवाई पोर्टल पर प्रदेश में वापसी हेतु आये हुए अनुरोध के डाटा को सम्बंधित राज्य के सम्बंधित जिलाधिकारी को भेजा जा रहा है : एसीएस, गृह एवं सूचना

> प्रदेश के 75 जिलों से 3945 कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने आए: प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने शुक्रवार 15 मई को लोक भवन मीडिया सेल में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री जी ने सभी जिलाधिकारियों तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों, पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित किया है कि वे यह सुनिश्चित करें कि कोई भी प्रवासी कामगार, श्रमिक पैदल अथवा बाइक से यात्रा न करने पाए। इसके लिए प्रत्येक जनपद के हर थाना क्षेत्र में एक टीम गठित करते हुए पैदल अथवा बाइक से यात्रा करने वाले प्रवासी कामगार, श्रमिकों को रोका जाए। श्री अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में अब तक कुल 13.50 लाख लोग आ चुके हैं। प्रदेश में 01 मार्च से 30 अप्रैल तक 6.50 लाख लोग प्रदेश में आये हैं। प्रदेश में अब तक 380 ट्रेन के माध्यम से लगभग 4.69 लाख प्रवासी कामगार एवं श्रमिक आये हैं। बसों के माध्यम से विभिन्न प्रदेशों से लगभग 70 हजार लोग आए हैं। जबकि लगभग 1.50 लाख लोग निजी वाहनों से प्रदेश में आये हैं। प्रदेश में आ रहे कामगार एवं श्रमिकों को मेडिकल स्क्रीनिंग के उपरान्त खाद्यान्न देकर होम क्वारंटाइन हेतु घर भेजा जा रहा है। उन्होंने बताया कि गोरखपुर में 57 ट्रेन से 62,680, लखनऊ में 34 ट्रेन से 39,905, प्रयागराज में 25 ट्रेन से 31,431, जौनपुर में 25 ट्रेन से 32,419, बलिया में 14 ट्रेन से 17,568, वाराणसी में 18 ट्रेन से 22,357, आगरा में 05 ट्रेन से 6,433, कानपुर में 08 ट्रेन से 10,133 प्रवासी कामगार एवं श्रमिक आये हैं। वर्तमान में प्रदेश के 48 रेलवे स्टेशन पर ट्रेन का आवागमन हो रहा है। उन्होंने बताया कि लगभग 250 और ट्रेन की अनुमति दी गई है। उन्होंने बताया कि अब तक प्रदेश के विभिन्न जनपदों में गुजरात से रिकार्ड 201 ट्रेन आ चुकी हैं जबकि महाराष्ट्र से 72, कर्नाटक से 13, पंजाब से 67, केरल से 05, तेलंगाना से 05, आन्ध्र प्रदेश से 02, राजस्थान से 07 तमिलनाडु से 03, मध्य प्रदेश से 02 तथा गोवा से 01 ट्रेन के माध्यम से प्रवासी कामगार एवं श्रमिक को लाया गया है। श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार विभिन्न राज्यों से आ रहे प्रवासी कामगारों, श्रमिकों एवं अन्य लोगों को बसों द्वारा उनके गृह जनपद भेजते हुए चिकित्सकीय जांच के उपरान्त स्वस्थ पाये जाने पर उन्हें होम क्वारेंटाइन कराया जा रहा है। प्रवासी कामगारों एवं श्रमिकों को उनके गृह जनपद भेजे जाने के लिए यूपीएसआरटीसी की 9,267 बसें तथा यूपीएसआरटीसी अनुबंधित 2,697 बसें इस प्रकार कुल 11,964 बसें लगाई गई हैं। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति पैदल या साइकिल से यात्रा न करे। जन सुनवाई पोर्टल पर प्रदेश में वापसी हेतु आये हुए अनुरोध के डाटा को सम्बंधित राज्य के सम्बंधित जिलाधिकारी को भेजा जा रहा है। प्रदेश में वापस आने के इच्छुक लोग अपने अनुरोध के क्रम में वहां के स्थानीय प्रशासन से सम्पर्क कर उत्तर प्रदेश में वापस आ सकते हैं। उन्होंने बताया कि दक्षिण के राज्यों से भी उत्तर प्रदेश के लिए ट्रेनों का संचालन शुरू कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि विभिन्न प्रदेशों से लगभग 90 से 01 लाख लोगों को प्रदेश में प्रतिदिन लाया जा रहा है। प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 72 जनपदों में 1773 मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 2080 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। अब तक प्रदेश के 75 जिलों से 3945 कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कुल 1871 लोगों को आइसोलेशन वार्ड में तथा 9911 लोग फैसलिटी क्वारेंटाइन में रखे गये हैं। उन्होंने बताया कि कल 426 पूल टेस्टिंग में 2082 सैम्पल टेस्ट किये गये, जिसमें 35 पूल पॉजीटिव पाये गये। प्रदेश में अब पूल टेस्ट में 05 सैम्पल से बढ़ाते हुए 10 सैम्पल का टेस्ट किया जायेगा, जिसे आगे और भी बढ़ाया जायेगा। आईसीएमआर द्वारा 25 सैम्पल प्रति पूल टेस्ट करने की अनुमति प्रदान कर दी गई है। प्रदेश में चिकित्सा विभाग की 75,006 सर्विलांस टीमों के माध्यम से सर्वेक्षण में 3.07 करोड़ लोगों का सर्वे कर लक्षण के आधार पर सैम्पलिंग की गई है। उन्होंने बताया कि आरोग्य सेतु अलर्ट जनरेट होने पर 6500 से अधिक लोगों को कन्ट्रोल रूम से कॉल किया है। उन्होंने बताया कि नर्सिंग होम एवं निजी चिकित्सालय का पंजीकरण 31 दिसम्बर, 2020 तक बढ़ा दिया गया है।