प्रदेश में लगभग 190 और ट्रेन 2,24,000 से अधिक श्रमिकों को लेकर आएँगी : एसीएस गृह एवं सूचना
May 13, 2020 • Mr Arun Mishra

ये पहली बार हुआ कि कल एक्टिव मरीजों की संख्या 1735 से अधिक उपचारित मरीज की संख्या 1759 अधिक है : प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य 

> प्रदेश में अब तक 233 ट्रेन के माध्यम से लगभग 2,81,400 से अधिक प्रवासी कामगार एवं श्रमिक आये : एसीएस गृह एवं सूचना

> पहली बार प्रदेश के अन्दर झांसी बॉर्डर से 02 ट्रेन पूर्वी उत्तर प्रदेश के जनपद हेतु चलेंगी : एसीएस गृह एवं सूचना

> प्रदेश में लॉकडाउन अवधि में अब तक धारा 188 के तहत 43,028 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई : एसीएस गृह एवं सूचना

> श्रमिक भरण - पोषण योजना के तहत निर्माण कार्यों से जुड़े, नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र के लगभग 31.70 लाख श्रमिकों एवं निराश्रित व्यक्तियों को भी 1 - 1 हजार रुपए की धनराशि का भुगतान किया गया : एसीएस गृह एवं सूचना

> प्रदेश की 71,225 औद्योगिक इकाइयों से संपर्क से 67,427 इकाइयों द्वारा अपने कार्मिकों को रु 1563.09 करोड के वेतन का वितरण किया जा चुका है : एसीएस गृह एवं सूचना

> प्रदेश की आधे से अधिक चीनी मिलों में पेराई का कार्य पूरा कर लिया है : एसीएस गृह एवं सूचना 

> प्रदेश में चिकित्सा विभाग की 70,129 सर्विलांस टीमों के माध्यम से लगभग 2.90 करोड़ लोगों का सर्वे कर लक्षण के आधार पर सैम्पलिंग की गई : प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य 

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने मंगलवार 12 मई को यहां लोक भवन मीडिया सेल में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री जी ने 2016 से 35,818 ग्राम रोजगार सेवकों के लम्बित भुगतान हेतु 225.39 करोड़ रुपये का बटन दबाकर ऑनलाइन अन्तरण किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न जनपदों के ग्राम रोजगार सेवकों से संवाद कर उनकी कुशलक्षेम प्राप्त करने के साथ - साथ उनके कार्यक्षेत्र में संचालित मनरेगा कार्यों के सम्बन्ध में भी जानकारी ली। श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोविड - 19 पर प्रभावी नियंत्रण के लिए टेस्टिंग और ट्रेनिंग पर विशेष बल दिया जाए। ज्यादा से ज्यादा टेस्टिंग तथा मेडिकल टीम की बेहतर ट्रेनिंग से संक्रमण को रोकने में बहुत सहायता मिलती है।  चिकित्सालयों में पीपीई किट्स, एन 95 मास्क तथा सेनिटाइजर आदि की सुचारू उपलब्धता बनाई रखी जाए। सभी वेन्टीलेटर्स को क्रियाशील रखा जाए। नॉन कोविड अस्पतालों में मेडिकल संक्रमण से बचाव के सभी प्रबन्ध करते हुए इमरजेंसी सेवाओं को तत्काल बहाल किया जाए। श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने निर्देश दिए हैं कि क्वारंटीन सेण्टर व आश्रय स्थलों पर प्रवासी कामगारों एवं श्रमिकों के नाम, पता, टेलीफोन व दक्षता सम्बन्धी विवरण संकलित करते हुए स्किल मैपिंग का यह कार्य लगातार जारी रखा जाए। श्री अवस्थी ने बताया कि देश में सबसे अधिक प्रवासी कामगार उत्तर प्रदेश में आये हैं। प्रदेश में अब तक 233 ट्रेन के माध्यम से लगभग 2,81,400 से अधिक प्रवासी कामगार एवं श्रमिक आये हैं। प्रदेश में विगत दिनों में आये कामगार एवं श्रमिकों को मेडिकल स्क्रीनिंग के उपरान्त खाद्यान्न देकर होम क्वारंटाइन हेतु घर भेजा जा रहा है। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में मंगलवार 12 मई को 12 टेन आ चकी हैं। वर्तमान में प्रदेश के 44 रेलवे स्टेशन पर ट्रैन का आवागमन हो रहा है। उन्होंने बताया कि लगभग 190 और ट्रेन, गुजरात से 48, महाराष्ट्र से 71, कर्नाटक से 02, पंजाब से 54, केरल से 01, आन्ध्र प्रदेश से 01, राजस्थान से 04, उड़ीसा से 02 तथा गोवा से 01 ट्रेन की अनुमति दी गई है।  जिनके माध्यम से 2,24,000 से अधिक श्रमिक आ सकेंगे। उन्होंने बताया कि पहली बार प्रदेश के अन्दर झांसी बॉर्डर से 02 ट्रेन पूर्वी उत्तर प्रदेश के जनपद हेतु चलेंगी। उन्होंने बताया कि अब तक प्रदेश के विभिन्न जनपदों में गुजरात से 144, महाराष्ट्र से 31, पंजाब से 38, तेलंगाना से 04, केरल से 03, आन्ध्र प्रदेश से 02, मध्य प्रदेश से 01, कर्नाटक से 04 तथा राजस्थान से 01 ट्रेन के माध्यम से प्रवासी कामगार एवं श्रमिक को लाया गया है। श्री अवस्थी ने बताया कि कोरोना वायरस के दृष्टिगत प्रदेश में लॉकडाउन अवधि में पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में अब तक धारा 188 के तहत 43,028 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई। प्रदेश में अब तक 36,51,188 वाहनों की सघन चेकिंग में 38,950 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान लगभग 17.34 करोड़ रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। आवश्यक सेवाओं हेतु कुल 2,25,546 वाहनों के परमिट जारी किये गये हैं। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 778 लोगों के खिलाफ 610 एफआईआर दर्ज करते हुए 280 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। श्री अवस्थी ने बताया कि उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड की श्रमिक भरण - पोषण योजना के तहत निर्माण कार्यों से जुड़े, नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र के लगभग किया गया जिनमें से 31.70 लाख श्रमिकों एवं निराश्रित व्यक्तियों को भी एक-एक हजार रूपए की धनराशि का भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि प्रदेश की 71,225 औद्योगिक इकाइयों से संपर्क से 67,427 इकाइयों द्वारा अपने कार्मिकों को रु 1563.09 करोड के वेतन का वितरण किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि 45,563 ग्राम पंचायतों में लगभग 23.46 लाख अकुशल श्रमिकों के साथ कार्य कराये जा रहे हैं। इसके साथ ही ईंट - भट्ठों का कार्य भी यथावत चल रहा है। प्रदेश की आधे से अधिक चीनी मिलों में पेराई का कार्य पूरा कर लिया है। प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 66 जनपदों में 1774 मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 1759 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। अब तक प्रदेश के 74 जिलों से 3614 कोरोना पॉजिटिव के मामले सामने आए हैं। उन्होंने बताया कि कल 289 पूल टेस्टिंग में 1445 सैम्पल टेस्ट किये गये, जिसमें 32 पूल पॉजीटिव पाये गये। प्रदेश में चिकित्सा विभाग की 70,129 सर्विलांस टीमों के माध्यम से लगभग 58.53 लाख घरों के सर्वेक्षण में 2.90 करोड़ लोगों का सर्वे कर लक्षण के आधार पर सैम्पलिंग की गई है। उन्होंने बताया कि आरोग्य सेतु अलर्ट जनरेट होने पर 2722 लोगों को कन्ट्रोल रूम से कॉल किया गया और पॉजीटिव पाये गये 10 लोगों का उपचार किया जा रहा।