राज्य सरकार की ओर से एयरपोर्ट सम्बन्धी विकास कार्यों के लिए पूरा सहयोग दिया जाएगा : मुख्यमंत्री
September 11, 2020 • Mr Arun Mishra

> मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अयोध्या, चित्रकूट तथा सोनभद्र (म्योरपुर) एयरपोर्ट के लिए विकास कार्यों एवं अवस्थापना सुविधाओं के सम्बन्ध में बैठक की।

> प्रधानमंत्री जी की मंशा के अनुरूप 'उड़ान' योजना और एयरपोर्ट्स निर्माण कार्य में केन्द्र सरकार का पूरा सहयोग मिल रहा है : मुख्यमंत्री

> अयोध्या, चित्रकूट तथा सोनभद्र (म्योरपुर) एयरपोर्ट की स्थापना के लिए राज्य सरकार केन्द्र सरकार की अपेक्षाओं के अनुरूप तेजी से कार्य कर रही है : हरदीप सिंह पुरी 

> मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री से बरेली, हिण्डन, सहारनपुर, मेरठ, लखनऊ तथा वाराणसी में एयरपोर्ट सम्बन्धी विकास कार्यों को किये जाने का अनुरोध किया।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी गुरुवार 10 सितम्बर 2020 को लोक भवन में नागर विमानन मंत्री भारत सरकार श्री हरदीप सिंह पुरी के साथ अयोध्या, चित्रकूट व सोनभद्र एयरपोर्ट के विकास कार्यों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के माध्यम से समीक्षा करते हुए। (फोटो : मुख्यमंत्री सूचना परिसर)

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने गुरुवार 10 सितम्बर को लोक भवन में केन्द्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अयोध्या, चित्रकूट तथा सोनभद्र (म्योरपुर) एयरपोर्ट के लिए विकास कार्यों एवं अवस्थापना सुविधाओं के सम्बन्ध में बैठक की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने उत्तर प्रदेश के विकास के लिए प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी जी एवं केन्द्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि पिछले साढ़े तीन वर्षों में उत्तर प्रदेश में 17 एयरपोर्ट्स के लिए विकास कार्य हो रहे हैं। पहले यहां पर मात्र 02 एयरपोर्ट्स कार्यशील थे, किन्तु वर्तमान में 07 एयरपोर्ट्स कार्य कर रहे हैं। प्रधानमंत्री जी की मंशा के अनुरूप 'उड़ान' योजना और एयरपोर्ट्स निर्माण कार्य में केन्द्र सरकार का पूरा सहयोग मिल रहा है। सभी 17 एयरपोर्ट्स कार्यशील हो जाने पर नागरिक उड्डयन की सुविधा बढ़ेगी। बेहतर हवाई कनेक्टिविटी से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, व्यापक स्तर पर रोजगार के अवसर सृजित होंगे तथा प्रदेश का तेजी से विकास होगा। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से एयरपोर्ट सम्बन्धी विकास कार्यों के लिए पूरा सहयोग दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अयोध्या, चित्रकूट तथा सोनभद्र (म्योरपुर) एयरपोर्ट की स्थापना के लिए राज्य सरकार केन्द्र सरकार की अपेक्षाओं के अनुरूप तेजी से कार्य कर रही है। इनके सम्बन्ध में कोई भी मुद्दा लम्बित नहीं रहेगा। तीनों जनपद के जिला प्रशासन द्वारा अपेक्षित कार्यवाही की जा रही है, जिससे हवाई अड्डों की स्थापना जल्द से जल्द हो सके और एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इण्डिया द्वारा चयनित एयर रूट पर हवाई सेवाओं का संचालन कराया जा सके। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय मंत्री से बरेली, हिण्डन, सहारनपुर, मेरठ, लखनऊ तथा वाराणसी में एयरपोर्ट सम्बन्धी विकास कार्यों को किये जाने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि बरेली, हिण्डन, सहारनपुर व मेरठ से भी उड़ान की सुविधा मिलने पर कनेक्टिविटी बढ़ेगी और इन क्षेत्रों के नागरिकों को लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि कुशीनगर अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट का शेष कार्य समयबद्ध ढंग से आगे बढ़ेगा। केन्द्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) ने मुख्यमंत्री जी के प्रति आभार व धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि राज्य सरकार द्वारा एयरपोर्ट्स के विकास कार्यों में पूरा सहयोग दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अयोध्या व चित्रकूट धार्मिक, आध्यात्मिक व पर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण जनपद हैं। इसी प्रकार, सोनभद्र जनपद में भी पर्यटन की अनेक सम्भावनाएं हैं। इन तीनों ही जनपदों में एयरपोर्ट की स्थापना में राज्य सरकार का पूरा सहयोग मिल रहा है। अयोध्या एयरपोर्ट चरणबद्ध ढंग से विकसित किया जाएगा। केन्द्र व राज्य सरकार अयोध्या, चित्रकूट तथा सोनभद्र (म्योरपुर) एयरपोर्ट के लिए अवस्थापना सुविधाएं विकसित करने के लिए निरन्तर कार्य कर रही है। जिला प्रशासन का भी सहयोग मिल रहा है। निर्धारित लक्ष्य के अनुसार कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के विकास के लिए नगर विमानन तथा आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालयों द्वारा पूरा सहयोग किया जाएगा। सभी 17 एयरपोर्ट्स कार्यशील होंगे, जिससे हवाई कनेक्टिविटी और नागरिक सुविधा बढ़ेगी तथा उत्तर प्रदेश विकास के रास्ते पर तेजी से आगे बढ़ेगा। नागर विमानन मंत्रालय, भारत सरकार के अधिकारियों ने बताया कि बरेली, सहारनपुर में हवाई उड़ान के सम्बन्ध में कार्यवाही की जा रही है। मेरठ तथा हिण्डन से उड़ान के सम्बन्ध में स्वीकृति मिलने के बाद कार्यवाही की जाएगी। इसी प्रकार, लखनऊ तथा वाराणसी एयरपोर्ट के विकास कार्य निर्धारित प्रक्रिया के तहत किये जाएंगे। इस अवसर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अयोध्या, चित्रकूट तथा सोनभद्र के जिलाधिकारियों से संवाद किया गया। उन्होंने बताया कि एयरपोर्ट की स्थापना और विकास कार्यों के सम्बन्ध में कोई समस्या नहीं है। सभी कार्य अपेक्षित लक्ष्य के अनुसार पूरे किये जाएंगे। इस मौके पर नागरिक उड्डयन मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता 'नंदी', अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव नागरिक उड्डयन एस पी गोयल, अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार, अपर मुख्य सचिव लोक निर्माण  नितिन रमेश गोकर्ण, प्रमुख सचिव नगर विकास दीपक कुमार, प्रमुख सचिव वन सुधीर गर्ग, निदेशक सूचना शिशिर तथा चेयरमैन एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इण्डिया सहित नागर विमानन मंत्रालय के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।