राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर क्राउड मैनेजमेंट के लिए केस स्टडी बनकर उभरा है प्रयागराज कुम्भ: योगी आदित्यनाथ
January 26, 2020 • Mr Arun Mishra

> मुख्यमंत्री ने कुम्भ के सफल आयोजन पर मेडल अलंकरण एवं पुस्तक विमोचन समारोह को सम्बोधित किया।

> राज्य सरकार द्वारा कुम्भ में अवस्थापना सुविधाओं के विकास के सम्बन्ध में काफी काम किया गया: मुख्यमंत्री

> प्रयागराज कुम्भ के सफल आयोजन के दृष्टिगत पुलिस कर्मचारियों के उत्साहवर्धन हेतु 01 महीने का अतिरिक्त वेतन देने की व्यवस्था की गई: मुख्यमंत्री

> 4 पुस्तकों का विमोचन।

लखनऊ (का ० उ ० सम्पादन)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रयागराज कुम्भ-2019 के सफल आयोजन के लिए सभी पुलिसकर्मियों ने अपने-अपने दायित्वों का भलीभांति निर्वाहन किया। यह आयोजन राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर क्राउड मैनेजमेंट के लिए केस स्टडी बनकर उभरा है। प्रयागराज कुम्भ वित्तीय अनुशासन के साथ-साथ व्यवस्था का सर्वोत्तम उदाहरण है। प्रदेश पुलिस ने कुम्भ के आयोजन के उपरान्त लोक सभा सामान्य निर्वाचन-2019 को भी सफलतापूर्वक सम्पन्न करवाने में अपनी महती भूमिका निभायी। इससे पूर्व, वाराणसी में आयोजित 15वां प्रवासी भारतीय दिवस, जिसमें बड़ी संख्या में प्रवासी भारतीयों ने शिरकत की, भी सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ। इन सभी आयोजनों की सफलता से उत्तर प्रदेश की छवि राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर निखरी। मुख्यमंत्री योगी ने यह विचार बीते शनिवार को यहां पुलिस मुख्यालय में आयोजित 'कुम्भ के सफल आयोजन पर मेडल अलंकरण एवं पुस्तक विमोचन समारोह को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। प्रयागराज कुम्भ-2019 में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं और पर्यटकों का आगमन हुआ। लगभग डेढ़ माह चले कुम्भ के दौरान 24 करोड़ 56 लाख श्रद्धालु कुम्भ स्नान के लिए आए। कुम्भ की सफलता के लिए राज्य सरकार द्वारा पहले से तैयारियां की गई थीं। पुलिसकर्मियों ने कुम्भ के सुरक्षित और सफल आयोजन के लिए बनायी गयी सभी योजनाओं को प्रभावी ढंग से क्रियान्वित किया, जिसके चलते यह एक सुरक्षित, सुव्यवस्थित, स्वच्छ कुम्भ साबित हुआ। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कुम्भ की सफलता में पुलिसकर्मियों की लगन और उनके उत्साह का बहुत बड़ा योगदान है। राज्य पुलिस के उच्चाधिकारियों द्वारा कुम्भ की सफलता के लिए अच्छा होमवर्क किया गया था और तकनीक का प्रभावी इस्तेमाल भी सुनिश्चित किया गया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा कुम्भ में अवस्थापना सुविधाओं के विकास के सम्बन्ध में काफी काम किया गया। राज्य सरकार द्वारा प्रयागराज कुम्भ की सफलता के लिए 10 फ्लाईओवर का निर्माण कराया गया। इसके अलावा, 264 से अधिक सड़कों, दर्जनों चौराहों का सौन्दर्गीकरण, 06 अण्डरपासों का निर्माण, मेला स्थल का दोगुना विस्तार, 22 से अधिक पाण्टून ब्रिजों की स्थापना, टेण्ट सिटी की स्थापना सहित प्रत्येक आश्रम में रैन बसेरों की व्यवस्था सुनिश्चित की गई। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि प्रयागराज कुम्भ को सफल बनाने के लिए पहली बार कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर की स्थापना की गई। यह प्रयोग अत्यन्त सफल साबित हुआ और इस प्रकार के आयोजनों के लिए यह एक उदाहरण बन गया है। कुम्भ के दौरान पुलिस के उच्चाधिकारियों और पुलिसकर्मियों ने पूरी सजगता के साथ लगातार काम किया, जिससे यह आयोजन सुरक्षित और सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ। प्रयागराज कुम्भ के सफल आयोजन के दृष्टिगत पुलिस अधिकारियों / कर्मचारियों के उत्साहवर्धन हेतु इन्हें मेडल तथा 01 महीने का अतिरिक्त वेतन देने की व्यवस्था राज्य सरकार द्वारा की गई है। इसके अलावा, राज्य सरकार द्वारा ड्यूटी के दौरान शहीद होने वाले जवानों के परिवार को दी जाने वाली धनराशि में कई गुना वृद्धि की गई है और ड्यूटी के दौरान गम्भीर रूप से घायल या कोमा में जाने वाले जवानों को वेतन के बराबर पेंशन धनराशि आजीवन दिए जाने की व्यवस्था की गई है।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि राज्य में प्रभावी पुलिसिंग के लिए पुलिस कमिश्नरी सिस्टम लागू किया जा रहा है। यह प्रणाली एक स्वस्थ परम्परा की शुरुआत है। कमिश्नर प्रणाली को बेहतरीन पुलिसिंग का मॉडल बनाकर आगे बढ़ने से उत्तर प्रदेश पुलिस को दुनिया के सबसे अच्छे पुलिस बल के रूप में स्थापित किया जा सकता है। अभी इसे पुलिस जनपद लखनऊ (नगर) तथा गौतमबुद्धनगर में लागू किया गया है, पुलिस को और प्रभावी बनाना होगा। स्मार्ट पुलिसिंग समाज के लिए बहुत आवश्यक है। यह उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए एक चुनौती भी है। लोक सभा सामान्य निर्वाचन-2019 के निर्बाध और सफल आयोजन में पुलिस की भूमिका के महत्व को केन्द्रीय चुनाव आयोग ने भी पहचाना है और इसकी प्रशंसा की है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि जनता में पुलिस की छवि को ठीक करना एक चुनौती थी, परन्तु सबके प्रयासों से अब इसमें लगातार सुधार हो रहा है। पुलिसिंग में आने वाली चुनौतियों का समयबद्धता के साथ समाधान निकालना होगा। अपराध पर प्रभावी नियंत्रण करना होगा और अपराधियों के साथ सख्ती दिखानी होगी। इसके अलावा, महिला सुरक्षा तथा वृद्धजनों की सुरक्षा पर भी विशेष ध्यान देना होगा। उन्होंने कामकाज के सिलसिले में देर से घर लौटने वाली महिलाओं की सुरक्षित घर वापसी पर भी पुलिस द्वारा ध्यान देने की आवश्यकता पर बल दिया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्मार्ट पुलिसिंग कॉफी टेबल बुक, कुम्भ मेले से सम्बन्धित कॉफी टेबल बुक, कुम्भ मेले में सोशल मीडिया के प्रयोग से सम्बन्धित हैण्ड बुक 'कुम्भ मेला सोशल मीडिया हैण्ड बुक' तथा कुम्भ रिसर्च स्टडी बुक का विमोचन किया। उन्होंने उत्तर प्रदेश पुलिस के गीत की सीडी का लोकार्पण तथा संगम डिजिटल खोया-पाया केन्द्र शॉर्ट फिल्म का अवलोकन किया। प्रयागराज कुम्भ-2019 के सफल आयोजन में उत्कृष्ट भूमिका निभाने के लिए पुलिस महानिदेशक सहित वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों एवं पुलिसकर्मियों को मेडल से अलंकृत भी किया। इस मौके पर योगी जी को एक प्रतीक चिन्ह भी भेंट किया गया। कार्यक्रम को पुलिस महानिदेशक ओ पी सिंह ने भी सम्बोधित किया। समारोह में मुख्य सचिव आर के तिवारी, अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी सहित पुलिस प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी तथा पुलिसकर्मी मौजूद थे।

मा मुख्यमंत्री उ प्र द्वारा आईजी कानपुर रेंज, श्री मोहित अग्रवाल को कुम्भ सेवा पदक व प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया, यह पदक कुम्भ 2019 के सफल आयोजन में सराहनीय योगदान हेतु प्रदान किया गया। कुम्भ2019 के समय मोहित अग्रवाल आईजी रेंज प्रयागराज के पद पर तैनात थे।