सभी रेलकर्मी सामाजिक दूरी और अन्य दिशा-निर्देशों का सख्ती से करें पालन: महाप्रबंधन, उ म रे
March 25, 2020 • Mr Arun Mishra

> रेलवे बोर्ड ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने के लिए जोनल रेलवे को अधिकृत किया।

 

> अपने मेडिकेयर और अन्य संवेदनशील कर्मचारियों के लिए जोनल रेलवे मास्क,  हैंड सैनिटाइजर, आवश्यक पीपीई बनाना शुरू कर दे: महाप्रबंधन, उ म रे

 

 

प्रयागराज (सीपीआरओ, एनसीआर)। देश की सबसे बड़ी परिवहन सेवा प्रदायक भारतीय रेल द्वारा देश में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए कई प्रयास किए जा रहे हैं, इनमें दिनांक 31.03.20 तक यात्री परिवहन को  पूर्णत:  रोकना भी एक अभूतपूर्व कदम है। ज्ञात हो कि, यह भारतीय रेल के पास विपरीत परिस्थितियो में अपना परिचालन बनाए रखने की क्षमता है पर यह इसके 167 वर्षों के इतिहास में सबसे दुर्लभ अवसरों में से एक है जब सभी यात्री सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है। घनी आबादी वाले क्षेत्र को सेवित कर रही भारतीय रेल की महत्वपूर्ण घटक में से एक उत्तर मध्य रेलवे ने भी कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए अपने क्षेत्र पर कई कदम उठाए हैं। इन सभी गतिविधियों के कार्यान्वयन की निगरानी शीर्ष स्तर पर की जा रही है और दिनांक 17.03.2020, 21.03.2020 एवं 23.03.2020 को मा रेल मंत्री और अध्यक्ष रेलवे बोर्ड ने इसके लिए वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सभी ज़ोनों और मंडलों से संवाद किया था। इसी क्रम में महाप्रबंधक उत्तर मध्य रेलवे राजीव चौधरी ने दिनांक 17.03.2020, 20.03.2020 एवं 23.03.2020 को क्रमश: तीन वीडियो कॉन्फ्रेंस आयोजित की और इस हेतु किए जा रहे प्रयासों की समीक्षा की। उत्तर मध्य रेलवे सभी यात्री सेवाओं को निलंबित करने के साथ ही कई राज्यों में लॉकडाउन के बावजूद संपूर्ण राष्ट्र में माल सेवाओं द्वारा को निर्बाध आवश्यक आपूर्ति उपलब्धता सुनिश्चित कर रही है। रेल प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस के सामुदायिक प्रसार को रोकने के लिए कई कदम उठाए गए हैं जिनमें  काउंटर टिकट रिफंड नियमों में 21 मार्च से 21 जून के बीच यात्रा के लिए छूट दी गई है, ताकि यात्री को टिकट रद्द करने और रिफंड के लिए तुरंत स्टेशनों पर न आना पड़े, यह अब 90 दिनों तक किया जा सकता है। यात्री गाड़ियों का परिचालन बंद होने से स्टाफ की आवश्यकता में कमी आई है।  अत: रेल प्रशासन द्वारा उपलब्ध कर्मचारियों एवं सुपरवाइज़रों के पूल का प्रयोग करते हुए संवेदनशील क्षेत्रों में काम कर रहे रेल कर्मियों की आईसोलेशन अवधि को बढ़ाने के लिए उपयोग किया जा रहा है। आवश्यक सेवाओं को बनाए रखने के लिए के लिए वांछित रेल कार्यस्थलों में सामाजिक दूरी प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जा रहा है। रेलवे बोर्ड ने रेक के लोडिंग और अनलोडिंग के लिए अनुमत समय को दोगुना कर दिया है, ताकि इन गतिविधिओं में सामाजिक दूरी बनाए रखते हुए कम स्टाफ के साथ लोडिंग / अनलोडिंग स्टाफ की जा सके, साथ ही देरी के लिए जुर्माने की दर मौजूदा दर से 50% तक कम कर दी गई है। आवश्यक वस्तुओं की पीसमील लोडिंग के लिए आवश्यकता के आधार पर अनुमति दी जाएगी और रेलवे बोर्ड द्वारा इस संबंध में किसी भी नीति में बदलाव भी किया जा सकता है। रेलवे बोर्ड ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने के लिए जोनल रेलवे को अधिकृत किया है। इससे संबंधित मुद्दों में त्वरित निर्णय के लिए महाप्रबंधक श्री चौधरी ने सभी मंडल रेल प्रबंधकों को इमपावर किया है। यात्री सेवाओं के फिर से शुरू होने तक बड़ी संख्या में खाली कोचिंग रेक और लोकोमोटिव को स्टेबल कर रखा जाना है पर इनकी पर्याप्त सुरक्षा के लिए इन्हे लॉक स्थिति में रखने के लिए आवश्यक व्यवस्था की जा रही है। रेलवे बोर्ड ने अनुबंधित / अस्थायी कर्मचारियों को आवश्यक वेतन भुगतान करने के लिए जोनल रेलवे को अधिकृत किया है, भले ही इस अवधि के उनकी सेवाओं को कम कर दिया गया हो। महाप्रबंधक राजीव चौधरी ने निर्देश दिए कि ये निर्देश उत्तर मध्य रेलवे में पूर्णत: लागू किए जाएं। किसी भी अप्रत्याशित स्थिति को पूरा करने के लिए रेलवे बोर्ड ने उत्पादन इकाइयों से कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आवश्यक वस्तुओं के विनिर्माण की संभावना का पता लगाने के लिए कहा है जैसे कि हैंड सैनिटाइज़र, फेस मास्क, फुल बॉडी एप्रन, बेड, व्हीलचेयर आदि। महाप्रबंधक श्री चौधरी ने निर्देशित किया अपने मेडिकेयर और अन्य संवेदनशील कर्मचारियों के लिए हम मास्क,  हैंड सैनिटाइजर, आवश्यक पीपीई बनाना शुरू कर दें। ताकि भविष्य की किसी भी अप्रत्याशित आवश्यकता को पूरा किया जा सके। रेलवे को संरक्षा से संबंधित अनिवार्य निरीक्षण और परिसंपत्तियों का रखरखाव करना है। स्थिति की समीक्षा करते समय महाप्रबंधक ने कहा कि ट्रेन संचालन में संरक्षा बनाए रखी जानी चाहिए, लेकिन अधिक कर्मचारियों की आवश्यकता वाले कार्यों को स्थगित कर दिया जाए। उत्तर मध्य रेलवे ने इस राष्ट्र सेवा कार्य के लिए पूर्णत: प्रतिबद्ध है इसी क्रम में  महाप्रबंधक राजीव चौधरी ने सभी अधिकारियों से कहा कि सभी रेलकर्मी सामाजिक दूरी और अन्य दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन करते हुए अपने कर्मचारियों को स्वस्थ और मजबूत बनाए रखें ताकि हम अपने महान राष्ट्र की इस कठिन समय में सेवा कर सकें।