साइबर सिक्योरिटी पर एक अभूतपूर्व सफलता रही आईआईटी कानपुर सी3आई हैकथॉन 
August 16, 2020 • Mr Arun Mishra

> प्रतियोगिता की विजेता बनी आईआईटी दिल्ली से टीम बाइट

> सी3आई हैकथॉन  ने 2100 से अधिक कॉलेजों और 12 देशों के 12,500 पंजीकरण के साथ छात्रों, पेशेवरों और स्टार्टअप को आकर्षित किया।

> आईआईटी कानपुर उप निदेशक प्रो एस गणेश ने एचसीएल हैक आईआईटीके 2020 की अभूतपूर्व सफलता के लिए आयोजन समिति को बधाई दी।

> इस हैकथॉन से साइबर हमलों के खिलाफ योद्धा पैदा करने में मदद मिलेगी : प्रो एस गणेश

कानपुर (का उ सम्पादन)। एचसीएल हैक आईआईटीके 2020 का वर्चुअल अवार्ड सेरेमनी, साइबर सिक्योरिटी हैकथॉन 15 अगस्त 2020 को शाम 4:00 बजे आयोजित किया गया था। जिसमें आईआईटी कानपुर के उप निदेशक प्रो गणेश समारोह के मुख्य अतिथि थे, और उद्यमी, एंजेल इन्वेस्टर, ज्यूरी के वीसी और जूरी के चेयरमैन डॉ सौरभ श्रीवास्तव ने समारोह की अध्यक्षता की। सी3आई हब आईआईटी कानपुर के संयुक्त समन्वयक प्रो संदीप शुक्ला ने कहा कि इस हैकथॉन के साथ हमने आत्मनिर्भर भारत बनाने का एक आह्वान भी किया है, जहां संभावित रूप से न केवल फिनटेक स्टार्ट-अप से आगे बढ़ने का अवसर है, बल्कि भारत में साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्र, जो कि अभी व्यापक दृष्टि से उभरता हुआ क्षेत्र है जिसमें हमारे पहले कुछ स्टार्टअप ने अच्छा प्रदर्शन किया है, लेकिन अभी बहुत कुछ करना बाकी है। इस हैकथॉन को आईआईटी कानपुर सी3आई हब में प्रोफेसरों द्वारा डिजाइन किया गया था। भाग लेने वाली टीमों के पास किसी दिए गए व्यावहारिक समस्या के लिए मजबूत साइबर सिक्योरिटी समाधानों की पहचान, निर्माण और परीक्षण करने का अवसर था। इस प्रक्रिया में प्रतिभाग करने वाली टीमों को आईआईटी कानपुर सी3आई हब के प्रख्यात संकायों द्वारा सलाह प्राप्त करने का अवसर मिला। साइबर सिक्योरिटी पर आईआईटी कानपुर सी3आई हैकथॉन एक अभूतपूर्व सफलता रही है। 45 दिनों तक चलने वाले इस इवेंट की वेबसाइट पर 50,000 से अधिक आगंतुक थे और हैकथॉन के दौरान आयोजित की किए गए 5 वेबिनार और कार्यशालाओं में 500 से अधिक की औसत उपस्थिति थी। इस कार्यक्रम ने 2100 से अधिक कॉलेजों और 12 देशों के 12,500 पंजीकरण के साथ छात्रों, पेशेवरों और स्टार्टअप को आकर्षित किया। यह हैकाथॉन इस मायने में अनूठा था कि इसने प्रतिभागियों को साइबर अटैक्स के खिलाफ समाधान बनाने के लिए कहा गया। प्रतियोगिता बहुत ही जटिल थी जिसमें टूल्स बनाने के लिए टीमों ने वास्तव में कड़ी मेहनत की। प्रो संदीप शुक्ला द्वारा टीमों को प्रदान की गयी सलाह बहुत ही उत्कृष्ट थी जिसे बहुत सराहा गया, प्रतियोगिता केअलावा यह हैकाथॉन इस क्षेत्र में इच्छुक प्रतिभागियों के लिए सीखने का एक शानदार अनुभव था। आईआईटी कानपुर उप निदेशक प्रो एस गणेश ने एचसीएल हैक आईआईटीके 2020 की अभूतपूर्व सफलता के लिए आयोजन समिति को बधाई दी, जो उद्योग प्रायोजकों, संरक्षकों, नॉलेज पार्टनर्स, ज्यूरी सदस्यों और प्रतिभागियों की सक्रिय भागीदारी के बिना संभव नहीं थी। उन्होंने कहा कि इस हैकथॉन से साइबर हमलों के खिलाफ योद्धा पैदा करने में मदद मिलेगी। सी3आई के निदेशक प्रो मनिंद्र अग्रवाल ने बताया कि सी3आई केंद्र अब सी3आई हब बन गया है, जो साइबर सुरक्षा और साइबर भौतिक प्रणाली की साइबर सुरक्षा पर दुनिया के अग्रणी अनुसंधान केंद्रों में से एक है। उन्होंने कहा कि सी3आई का उद्देश्य अनुसंधान, शिक्षा, प्रशिक्षण करना और महत्वपूर्ण बुनियादी ढाँचे की सुरक्षा के लिए तकनीकी सुरक्षित गार्ड बनाने के लिए स्टार्टअप शुरू करना है। जूरी के चेयरमैन डॉ सौरभ श्रीवास्तव ने कहा कि मैं न केवल विजेताओं बल्कि आप सभी को बधाई देना चाहता हूं जिन्होंने प्रतिस्पर्धा की। ऐसी प्रतियोगिता में विजेता चुनना हमेशा मुश्किल होता है और उन लोगों से अलग नहीं होना चाहिए जो कम भाग्यशाली हैं। मैं आप सभी से निवेदन करता हूं कि आप अपनी विशेषज्ञता बढ़ाते रहें और भारत को विश्व मानचित्र पर एक ऐसे देश के रूप में रखें, जिसे साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में अग्रणी गिना जाए। प्रतियोगिता के विजेताओं के परिणामों को अंतिम रूप देने के लिए दो दिनों तक प्रख्यात जूरी के पैनल ने मूल्यांकन किया और परिणाम घोषित किया : जिसमें, प्रथम पुरस्कार आईआईटी दिल्ली से टीम बाइट, दूसरा पुरस्कार ढाका विश्वविद्यालय से टीम डीयू अपोफिस, तीसरा पुरस्कार आईआईटी दिल्ली से टीम सारानी, और मोस्ट प्रॉमिसिंग स्टार्टअप के विजेता मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से लैंडस्केप्स रहे। अंत में, आईआईटी कानपुर एलुमनाई एसोसिएशन दिल्ली चैप्टर के अध्यक्ष सुनील सिंघल ने सभी गणमान्य व्यक्तियों को उनके योगदान और अमूल्य समय के लिए धन्यवाद दिया।