सीआरआर में कमी के परिणाम स्वरूप 1,37,000 करोड़ की तरलता बढ़ी
May 13, 2020 • Mr Arun Mishra

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा किए गए उपाय के अनुसार कैश रिजर्व अनुपात (सीआरआर) में कमी के परिणाम स्वरूप 1,37,000 करोड़ की तरलता बढ़ी हैनिवेश ग्रेड कॉरपोरेट बॉन्ड, कमर्शियल पेपर और नॉन - कनवर्टिबल डिबेंचर में नई तैनाती के लिए 1,00,050 करोड़ रुपये के टार्गेटेड लॉन्ग टर्म रेपो ऑपरेशंस (टीएलटीआरओ) अलग किए गए। इन्वेस्टमेंट ग्रेड बांड, कमर्शियल पेपर और नॉन - कनवर्टिबल डिबेंचर नॉन बैंकिंग फाइनेंसियल कंपनी और माइक्रो फाइनेंस इंस्टीटूशन्स में निवेश करने के लिए 50,000 करोड़ रुपये का टार्गेटेड लॉन्ग टर्म रेपो ऑपरेशंस शामिल है। सीमांत स्थायी सुविधा (मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी) के तहत रातोंरात उधार लेने के लिए बैंकों की सीमा में वृद्धि, बैंकिंग प्रणाली को कम मार्जिनल स्टैंडिंग फैसिलिटी दर पर अतिरिक्त 1,37,000 करोड़ रुपये की तरलता का लाभ उठाने की अनुमति देता है।