सीसामऊ नाले से आज एक बूंद भी प्रदूषित जल गंगा जी में न गिरना, नमामि गंगे परियोजना का परिणाम है: योगी आदित्यनाथ
March 15, 2020 • Mr Arun Mishra

> मुख्यमंत्री ने जनपद वाराणसी में "मिशन विकास काशी-प्रयागराज, नया भारत, नया उत्तर प्रदेश कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।

> मुख्यमंत्री ने श्री काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के निर्माण कार्यों का स्थलीय निरीक्षण किया।

> मुख्यमंत्री ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय के आइसोलेशन वॉर्ड का निरीक्षण किया।

> प्रयागराज कुम्भ में श्रद्धालुओं का आगमन हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करता है: मुख्यमंत्री

> 67 पुरातन मंदिर जो दब गए थे, उनका पुनरुद्धार हो रहा है: मुख्यमंत्री

लखनऊ (का० उ० सम्पादन)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को जनपद वाराणसी में 'मिशन विकास काशी - प्रयागराज, नया भारत, नया उत्तर प्रदेश के शुभारम्भ कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि काशी अध्यात्मिक व सांस्कृतिक राजधानी है। सम्पूर्ण भारत काशी की प्राचीनता, आध्यात्मिकता, धरोहरों पर गौरवान्वित महसूस करता है। काशी की पुरातन परम्पराओं के साथ काशी आधुनिकता की दौड़ में भी देश-दुनिया में स्थान बनाए हुए है, जिसका काशीवासी निरन्तर हिस्सा बने हुए हैं। काशी पुरातन काया बनाए रखते हुए नये कलेवर में आगे बढ़ रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि संसद में काशी का प्रतिनिधित्व देश के लोकप्रिय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा किया जा रहा है। प्रधानमंत्री जी अपने सम्बोधन में 'मेरी काशी' का उल्लेख करते हैं। यह काशी के प्रति उनके भावनात्मक लगाव को दर्शाता है। प्रधानमंत्री जी के मुख से शब्द 'मेरी काशी', काशी के प्रति उनके लगाव भाव सहित बहुत कुछ कह देता है। काशी की पुरातन परम्परा बनाए रखते हुए नवीन प्रक्रिया के तहत साधन व सुविधाओं का समावेश करने का कार्य हुआ है। काशी को सड़कों से जोड़ने, धर्मस्थल एवं गंगा जी के घाटों के पुनरुद्धार, शिक्षा व स्वास्थ्य के हब के रूप में विकसित करने, ऊपर झूलते बिजली के तारों को अण्डरग्राउण्ड करने, दीवारों पर वॉल पेन्टिंग व वाटर वे तथा एयर-वे से कनेक्टिविटी बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है। प्रधानमंत्री जी ने दुनिया के राष्ट्राध्यक्षों को भी काशी से जोड़ने का काम किया है। प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में काशी के विकास एवं विश्व में काशी की बढ़ती लोकप्रियता को काशीवासियों ने भी अनुभव किया है। इससे हम सभी को गौरव की अनुभूति होती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में हर क्षेत्र में रिकॉर्ड कार्य हुए हैं। बुनियादी विकास तथा उत्तर प्रदेश की पहचान वाले कार्यक्रमों को तेजी से आगे बढ़ाया गया है। अयोध्या, काशी, मथुरा की सनातन परम्पराओं, धरोहरों को नई पहचान के साथ आगे बढ़ाया जा रहा है। काशी में देव दीपावली, शिवरात्रि, अयोध्या में रामनवमी, दीपोत्सव, मथुरा के बरसाना में रंगोत्सव, जन्माष्टमी के उत्सवों को सरकार ने लोकप्रियता से जोड़ते हुए इन प्राचीन विरासतों को आगे बढ़ाने का कार्य किया गया है। इससे पर्यटन की सम्भावनाएं विकसित हुई हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि गत 3 वर्षों में हुए कार्यों से आज देश में आने वाले पर्यटकों में सबसे बड़ी संख्या प्रदेश में आने वाले पर्यटकों की है। प्रयागराज ने आयोजनों के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। प्रयागराज कुम्भ दुनिया का यूनीक इवेण्ट बन गया। प्रयागराज कुम्भ सुव्यवस्था, सुरक्षा व स्वच्छता का मानक बना। कुम्भ में बेहतर व्यवस्था देख अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की डेढ़ दर्जन संस्थाएं इस पर शोध कर रही है कि इतने बड़े आयोजन को किस प्रकार अच्छे तरीके से सम्पन्न किया गया। प्रयागराज कुम्भ में 25 करोड़ श्रद्धालुओं का आगमन हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करता है। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि आस्था की प्रतीक माँ गंगा के प्रति प्रधानमंत्री जी के शब्द कि 'माँ गंगा' ने बुलाया है', गंगा जी की निर्मलता के प्रति उनके भाव को दर्शाता है। पहले गंगा जी में स्नान करना व आचमन करना मुश्किल था। लेकिन केन्द्र व राज्य सरकार के प्रयासों से गंगा जी की निर्मलता के दृष्टिगत मॉरीशस के प्रधानमंत्री जी ने गंगा जी में स्नान व आचमन किया। कानपुर के सीसामऊ नाले से आज एक बूंद भी प्रदूषित जल गंगा जी में नहीं जा रहा है। यह प्रधानमंत्री जी की 'नमामि गंगे' परियोजना का परिणाम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अब किसानों को फसल नुकसान होने पर तत्काल क्षतिपूर्ति होती है। अतिवृष्टि, ओलावृष्टि से गत दिवसों में फसलों को हुए नुकसान की प्रतिपूर्ति प्रभावित किसानों के खातों में 2 दिन में भेजने की व्यवस्था की गई है। वर्तमान सरकार के 03 वर्ष के कार्यकाल में प्रदेश में 30 लाख परिवारों को आवास दिए गए, जबकि वर्ष 2017 से पूर्व के 03 वर्ष में मात्र 10 हजार आवास बने थे। इसी प्रकार वर्ष 2017 से पहले 03 वर्ष में 33 लाख शौचालय बने थे। इसके विपरीत वर्ष 2017 के बाद 03 वर्ष में 02 करोड़ 61 लाख शौचालय बने हैं। वर्तमान सरकार के गत 03 वर्ष में रिकॉर्ड विकास कार्य हुए हैं। यह परिवर्तन दिख रहा है। योगी जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार द्वारा देश में 11 करोड़ शौचालय, 03 करोड़ परिवारों को आवास, 08 करोड़ परिवारों को रसोई गैस कनेक्शन, 04 करोड़ घरों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन, 50 करोड़ लोगों को आयुष्मान भारत के तहत 05 लाख रुपए तक की चिकित्सा सुविधा से आच्छादित किया जा चुका है। सभी योजनाओं का लाभ बिना जाति, मत, मजहब के भेदभाव व बिना किसी सिफारिश के, केवल जरूरतमन्द, असहाय, गरीब पात्रों को उपलब्ध कराया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन्फ्रास्ट्रक्चर विकास के बड़े कार्य हो रहे हैं। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, गंगा एक्सप्रेस-वे, बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे परियोजनाओं पर कार्य हो रहा है। इससे कनेक्टिविटी बढ़ेगी और रोजगार सृजित होंगे। आने वाले समय में उत्तर प्रदेश देश की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होगी। वर्ष 2014-15 में उत्तर प्रदेश में प्रति व्यक्ति सालाना आय 42 हजार रुपए थी, जो आज 70 हजार रुपए प्रति व्यक्ति हो गई है। वर्ष 2024 तक देश की 05 ट्रिलियन डॉलर अर्थव्यवस्था में योगदान के लिए हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि काशी में पहला इनलैंड वॉटर-वे बना, मल्टी मॉडल टर्मिनल बना पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे इस वर्ष के अन्त तक चालू करने तथा बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे बनाने के लिए युद्ध स्तर पर कार्य चल रहा है। उत्तर प्रदेश में बेहतर एयर कनेक्टिविटी की गई हैपहले 02 शहर हवाई मार्ग से जुड़े थे। आज 08 एयरपोर्ट कार्यरत हैं तथा 11 पर काम चल रहा है। जेवर में नोएडा अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट बनेगा। दुनिया की सबसे बड़ी 100 परियोजनाओं में एक जेवर एयरपोर्ट परियोजना है। 04 शहरों में मेट्रो चल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में वर्ष 1947 से 2017 तक 18 प्राइवेट यूनिवर्सिटी थी। वर्तमान सरकार के 03 वर्ष में 28 निजी यूनिवर्सिटी को एक साथ अनुमति दी गई। 08 नई राजकीय यूनिवर्सिटी बनेंगी, जिनके बजट का प्रावधान कर दिया गया है। कृषि क्षेत्र में किसानों की आय दोगुनी करने पर कार्य हो रहा है। किसानों को नई तकनीक से जोड़ा गया है। कृषि, सिंचाई, फसल बीमा सम्बन्धी योजनाएं लागू हैं। बेसिक शिक्षा में 1.80 करोड़ छात्र-छात्राओं को निःशुल्क पुस्तकें, यूनिफार्म, स्वेटर, जूते-मोजे दिए जा रहे हैं। नकलविहीन परीक्षा की व्यवस्था की गई है। युवाओं को रोजगार से जोड़ा जा रहा है। युवाओं के लिए पढ़ाई के दौरान ही अप्रेन्टिस के तौर पर कम्पनियों में व्यवहारिक ज्ञान के साथ 2500 रुपए मासिक स्टाइपेण्ड की भी व्यवस्था की गई है। प्रत्येक जनपद में युवा हब बनेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि काशी नई ऊंचाइयां छू रहा है। काशी विश्वनाथ धाम का आध्यात्मिक व सांस्कृतिक स्वरुप जनमानस के आस्था भाव के साथ देखने को मिल रहा है। प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में काशी विश्वनाथ धाम के किए गए कार्य गौरव की बात हैं। 67 पुरातन मंदिर जो दब गए थे, उनका पुनरुद्धार हो रहा है। अभी हाल में काशी भ्रमण पर आए श्रीलंका के प्रधानमंत्री द्वारा यहां की प्रशंसा में किए गए ट्वीट काशी की नई पहचान बन रहे हैं। इससे पूर्व, मुख्यमंत्री श्री काशी विश्वनाथ मन्दिर में विधिवत दर्शन-पूजन किया। इसके पश्चात् उन्होंने श्री काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के निर्माण कार्यों का स्थलीय निरीक्षण कर मौके पर मौजूद अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए। पं दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय के आइसोलेशन वॉर्ड का निरीक्षण करने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के 75 जनपदों में कोरोना फ्लू के उपचार के लिए आइसोलेशन वॉर्ड तैयार किए गए हैं। 24 प्राइवेट और सरकारी मेडिकल कॉलेजों में भी आइसोलेशन वॉर्ड तैयार किए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार पूरी तरह सतर्क है और हर परिस्थिति का सामना करने के लिए तैयार भी है। उन्होंने लोगों से अपील की कि कोरोना फ्लू के नाम पर अफवाह न फैलायी जाए सतर्कता और सावधानी आवश्यक है। लोगों को भीड़भाड़ वाले स्थानों पर जाने से बचना चाहिए। इस अवसर पर जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी एवं अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

गोरक्षपीठाधीश्वर महंत योगी आदित्यनाथ ने श्री काशी विश्वनाथ मन्दिर में विधिवत दर्शन-पूजन किया।