शक्तिशाली चक्रवात अम्फान ने पश्चिम बंगाल में कम से कम 88 लोगों की ले ली जान
May 22, 2020 • Mr Arun Mishra

> अम्फान का प्रभाव कोरोनो वायरस से भी बदतर है : ममता बनर्जी

बाढ़ के पानी से भरा नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा । फोटो : एएफपी

भारत (अल जज़ीरा नेटवर्क) अधिकारियों ने बताया कि 20 साल में पूर्वी भारत पर हमला करने वाले सबसे शक्तिशाली चक्रवात अम्फान ने कम से कम 88 लोगों की जान ले ली है। अधिकारियों ने कहा कि बचाव दल ने तटीय गांवों में बचाव और पुनर्वास कार्य प्रारम्भ कर दिए हैं। तूफ़ान ने बिजली की लाइनों को तोड़ दिया और बड़े पैमाने पर भूमि में बाढ़ आई। भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल में, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को कहा कि कम से कम 72 लोग मारे गए हैं - उनमें से ज्यादातर या तो बिजली की लाइनों से विद्युतीकृत हुए या पेड़ों के उखड़ने से मर गए, जो 185 किमी प्रति घंटे (115 मीटर / घंटा) तक की गति से आये तूफ़ान से उजड़े थे। पड़ोसी देश बांग्लादेश में, आधिकारिक डेथ टोल 16 बताया जा रहा है। अधिकारियों ने कहा कि चक्रवात अम्फान के आने से पहले अधिकारियों द्वारा किए गए बड़े पैमाने पर निकासी ने निस्संदेह कई लोगों की जान बचाई, लेकिन हताहतों की संख्या और संपत्ति को हुए नुकसान की पूरी जानकारी केवल एक बार होगी जब संचार बहाल हो जाएगा। भारत और बांग्लादेश में लाखों लोग बिना बिजली के रह गए हैं। पश्चिम बंगाल राज्य की राजधानी कोलकाता में भी काफी नुक्सान हुआ है। कुछ कारों की खिड़की तक पानी भरे हुए पानी से सड़कों पर बाढ़ के दृश्य दिखे। टेलीविजन फुटेज में हवाईअड्डे को जलमग्न दिखाया गया। ममता बनर्जी ने स्थानीय मीडिया को बताया, अम्फान का प्रभाव कोरोनो वायरस से भी बदतर है। भारत ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा राज्यों में 6,50,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित निकाला है।