शनिवार को रिकार्ड 1.50 लाख लोग प्रदेश में आये : एसीएस होम
May 18, 2020 • Mr Arun Mishra

पूर्वोत्तर राज्यों एवं उड़ीसा से शीघ्र ही ट्रेन चलाये जाने की व्यवस्था की जा रही है : एसीएस होम

अभी तक 3,72,000 से अधिक होम क्वारंटाइन में रह रहे लोगों के बारे में आशा वर्कर्स द्वारा जानकारी ली गई जिनमें 414 में कोरोना के लक्षण मिले : प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य

> हरियाणा और राजस्थान से प्रतिदिन 150 से 200 बसें चलाई जा रही हैं : एसीएस होम 

> प्रदेश में गुजरात से 250 ट्रेन से 3,35,000 लोग आए : एसीएस होम 

> पंजाब से 91 ट्रेन से 01 लाख से अधिक लोग आए : एसीएस होम

> छत्तीसगढ़ राज्य से पहली ट्रेन प्रदेश में आई : एसीएस होम

> गोरखपुर में अब तक 79 ट्रेन से 92,298 कामगार एवं श्रमिक आये : एसीएस होम

> दिल्ली से 11 ट्रेन प्रतिदिन प्रदेश के विभिन्न भागों में आएँगी : एसीएस होम 

> आरोग्य सेतु ऐप का निरन्तर उपयोग करते हुए अलर्ट जनरेट होने पर 11 हजार से अधिक लोगों से फोन कॉल कर सम्पर्क किया गया : प्रमुख सचिव, स्वास्थ्य 

लखनऊ (सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग)। प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह एवं सूचना अवनीश कुमार अवस्थी ने रविवार 17 मई को लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि प्रदेश सरकार प्रवासी श्रमिकों व कामगारों की सकुशल व सुरक्षित वापसी के लिए प्रतिबद्ध है। फील्ड में तैनात अफसर अन्य राज्यों से संवाद बनाकर उत्तर प्रदेश लौट रहे कामगारों को श्रमिक एक्सप्रेस अथवा सुरक्षित वाहनों से ही भेजने की व्यवस्था करें। प्रदेश आने वाले प्रत्येक कामगार को भोजन उपलब्ध कराया जाए। जगह-जगह पेयजल की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जाएइन्हें क्वारंटीन सेन्टर ले जाकर इनकी मेडिकल स्क्रीनिंग सुनिश्चित की जाए। प्रवासी कामगारों, श्रमिकों को क्वारंटीन सेन्टर में रखने के दौरान ही उनकी स्किलिंग की जाए, ताकि होम क्वारंटीन पूरी होने के बाद प्रदेश में ही इन्हें रोजगार दिलाने के प्रयास अभी से प्रारम्भ किए जा सकें। कृषि विभाग के अधिकारी प्रदेश के विभिन्न जनपदों में स्थापित गेहूं क्रय केन्द्रों पर जाकर निरीक्षण करते हुए किसानों की उपज की खरीद में सहयोग करें। उन्होंने कहा कि खाद्य एवं रसद विभाग के अधिकारी पीडीएस से जुड़ी सभी कोटे की दुकानों का निरीक्षण करें और नागरिकों को राशन उपलब्ध करवाने में सहयोग करें। श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि राज्य सरकार ने प्रदेश के बॉर्डर पर पहुंचने वाले प्रवासी श्रमिकों के लिए खाने - पीने की व्यवस्था सुनिश्चित की है। उन्हें सुरक्षित घर पहुंचाने की भी व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने निर्देश दिए हैं कि अवैध वाहनों जैसे ट्रक, डाला, बाइक, साइकिल इत्यादि का उपयोग कर प्रवासी श्रमिक यात्रा कदापि न करें। उन्होंने कहा है कि पुलिस इसे रोके और प्रवासी श्रमिकों को इस सम्बन्ध में जागरूक भी करे, क्योंकि ऐसे साधनों से चलने पर दुर्घटना की सम्भावना रहती है। इसलिए सभी प्रवासी श्रमिक सुरक्षित साधनों जैसे बस अथवा ट्रेन से ही यात्रा करें। श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि प्रदेश आने वाले प्रवासी श्रमिकों/कामगारों की स्क्रीनिंग की जाए और उन्हें क्वारंटीन किया जाए। उन्होंने प्रवासी श्रमिकों/कामगारों की टेस्टिंग को पूल टेस्टिंग के माध्यम से अविलम्ब प्रारम्भ करने तथा इस क्षमता को आगामी दो-तीन दिन में 10 हजार प्रतिदिन तक ले जाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि लॉकडाउन सख्ती से लागू किया जाए। उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज के अनुसार कार्ययोजना बनाई जाए। प्रदेश में नया निवेश आकर्षित करने के लिए नियमों का सरलीकरण किया जाए। इसके अलावा प्रवासी श्रमिकों को वृहद स्तर पर रोजगार देने के लिए कार्य योजना बनाई जाए। उन्होंने बताया कि पटरी दुकानदारों को अगले 03 दिनों में आर्थिक पैकेज का लाभ दिया जाये। उन्होंने बताया कि एमएसएमई को 2002 करोड़ रूपए दिया गया है। श्री अवस्थी ने बताया कि देश में सबसे अधिक प्रवासी कामगार उत्तर प्रदेश में आये हैं। प्रदेश में अब तक 522 ट्रेन के माध्यम से लगभग 6,65,369 प्रवासी कामगार एवं श्रमिक आये हैं। प्रदेश में आज अन्य प्रदेशों से कामगारों को लेकर 87 ट्रेन और आ रही हैं। लगभग 250 और ट्रेन की सहमति दे दी गई है। उन्होंने बताया कि कल रिकार्ड 1.50 लाख लोग प्रदेश में आये हैं इस प्रकार अब तक प्रदेश में 16.50 लाख से अधिक कामगार प्रदेश में आये हैं। गोरखपुर में अब तक 79 ट्रेन से 92,298 कामगार एवं श्रमिक आये हैं। उन्होंने बताया कि हरियाणा और राजस्थान से प्रतिदिन 150 से 200 बसें चलाई जा रही हैं। लखनऊ में 45 ट्रेन के माध्यम से 55 हजार लोग आए हैं। वाराणसी में 27 ट्रेन आ चुकी हैं। गोण्डा में 37 ट्रेन, उन्नाव और बस्ती में 20 - 20 ट्रेन जबकि अयोध्या में 16 व आजमगढ़ में 15 ट्रेन आ चुकी हैं। उन्होंने बताया कि प्रवासी श्रमिकों को लाये जाने हेतु उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही ट्रेन में श्रमिकों का किराये का खर्च प्रदेश सरकार द्वारा वहन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि रेलवे विभाग को कल तक 06 करोड़ रुपए का भुगतान कर दिया गया है तथा 20 करोड़ रुपए और भुगतान शीघ्र कर दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में गुजरात से 250 ट्रेन से 3,35,000 लोग, महाराष्ट्र से 121 ट्रेन से 1,50,000 लोग, पंजाब से 91 ट्रेन से 01 लाख से अधिक लोग आ चुके हैं। तेलंगाना से 07, केरल से 06, तमिलनाडु से 05, आन्ध्र प्रदेश से 02, मध्य प्रदेश से 02, राजस्थान से 15, गोवा से 02 ट्रेन प्रवासी कामगारों को लेकर प्रदेश में आ चुकी हैं। उन्होंने बताया कि दिल्ली से 11 ट्रेन प्रतिदिन प्रदेश के विभिन्न भागों में आएँगी। यूपीएसआरटीसी की 10 हजार बसों के माध्यम से प्रवासी कामगारों को उनके गृह जनपद में भेजने की व्यवस्था की गई है। छत्तीसगढ़ राज्य से पहली ट्रेन प्रदेश में आई है। उन्होंने बताया कि पूर्वोत्तर राज्यों एवं उड़ीसा से शीघ्र ही ट्रेन चलाये जाने की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन को प्राइवेट वाहनों को अधिकृत करने के निर्देश दिए गये हैं। सभी जिलाधिकारियों को 200 से अधिक ऐसे वाहनों को अधिकृत करने के निर्देश दे दिए गये हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कहीं भी, किसी भी जनपद में कोई पैदल यात्रा न करेप्रवासी कामगार स्वयं तथा अपने परिवार को जोखिम में डालकर पैदल अथवा अवैध व असुरक्षित वाहन से घर के लिए यात्रा न करें। सरकार समस्त प्रवासी श्रमिकों के लिए सुरक्षित यात्रा हेतु पर्याप्त बस एवं ट्रेन की व्यवस्था कर रही है। प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 72 जनपदों में 1805 मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 2444 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। आरोग्य सेतु ऐप का निरन्तर उपयोग करते हुए अलर्ट जनरेट होने पर सम्बंधित को कन्ट्रोल रूम से फोन किया जा रहा है। इस प्रकार अब तक 11 हजार से अधिक लोगों से फोन कॉल कर सम्पर्क किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि 78,576 सर्विलांस टीमों के माध्यम से 64,36,236 घरों में रह रहे 3,19,38,412 लोगों का सर्विलांस किया गया है। उन्होंने बताया कि होम क्वारेंटाइन किये गये प्रवासी मजदूरों एवं कामगारों के घर जाकर उनके स्वास्थ्य के बारे में आशा वर्कर्स जानकारी ले रही हैं। अभी तक 3,72,000 से अधिक लोगों के बारे में आशा वर्कर्स द्वारा जानकारी ली गई है, इनमें 414 ऐसे लोग पाये गये हैं जिनमें सांस लेने में समस्या, इन्फ्लुएन्जा आदि जैसे लक्षण मिले हैं जिन्हें उपचार के लिए हॉस्पिटल भेजा जा रहा है।