सोनौली-नौतनवां-गोरखपुर-देवरिया-बलिया मार्ग की उपयोगिता को देखते हुए 04 लेन चौड़ीकरण का कार्य मंज़ूर
January 14, 2020 • Mr Arun Mishra

लखनऊ (का ० उ ० सम्पादन)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में बीते सोमवार को यहां लोक भवन में सम्पन्न मंत्रिपरिषद की बैठक में  महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए जिनमें मंत्रिपरिषद ने जनपद गोरखपुर में सोनौली- नौतनवां- गोरखपुर-देवरिया -बलिया मार्ग (राज्य मार्ग सं0-1) के चैनेज - 98.975 से चैनेज-125.00 तक (गोरखपुर शहर से देवरिया बॉर्डर तक) (लम्बाई 26.025 कि0मी0) मार्ग के 04 लेन में चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य की व्यय–वित्त समिति द्वारा अनुमोदित की गई पुनरीक्षित लागत 25094.90 लाख रुपए+ जी0एस0टी0 (नियमानुसार देय) के व्यय सम्बन्धी प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान कर दी है। यह मार्ग महराजगंज के भारत-नेपाल सीमा पर स्थित सोनौली बॉर्डर से प्रारम्भ होकर जनपद गोरखपुर-देवरिया होते हुए बलिया में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-19 को जोड़ता है। इस मार्ग के कि0मी0 01 से 99 का भाग एन0एच0-29ई0 के रूप में परिवर्तित हो चुका है। नेपाल राष्ट्र के लिए प्रमुख प्रवेश द्वार सोनौली होने के कारण मार्ग का महत्व काफी बढ़ जाता है। इस प्रकार यह मार्ग सामरिक महत्व के साथ ही, पर्यटन की दृष्टि से भी बहुत लाभकारी एवं उपयोगी है। जनपद गोरखपुर में इस मार्ग के चैनेज 98.975 से चैनेज 125.00 (देवरिया बॉर्डर) तक का भाग पड़ता है, जिसकी कुल लम्बाई 26.025 कि0मी0 है। मार्ग के चैनेज 98.975 से 104.500 तक गोरखपुर शहरी क्षेत्र, नगर निगम सीमा के अन्तर्गत पड़ता है, जिसके सतह की वर्तमान चौड़ाई 15.00 मी0 है। चैनेज 104.500 से 125. 00 तक के भाग की लेपित चौड़ाई 7.00 मी0 है। इस मार्ग के कि0मी0 103 में मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी संस्थान एवं कि0मी0 120 में शहीद बिस्मिल स्मारक चौरी-चौरा स्थित है, जिसका विशेष महत्व है। इस मार्ग के कि0मी0 108 में एन0एच0-28 क्रॉस करती हैइस मार्ग पर लो0नि0वि0 की उपलब्ध स्थायी भूमि की चौड़ाई 150 फीट है। मार्ग पर वर्तमान यातायात घनत्व बढ़ने की प्रबल सम्भावना है। मार्ग की उपयोगिता को देखते हुए 04 लेन चौड़ीकरण का कार्य कराया जाना अत्यन्त आवश्यक है। इसके दृष्टिगत यह निर्णय लिया गया है।