उ प्र के सात लाख श्रमिकों को स्वरोज़गार के क़ाबिल बनाएगा कौशल विकास विभाग
June 8, 2020 • Mr Arun Mishra

> केंद्रीय कौशल विकास मंत्री ने वेबिनार में प्रमुख उद्योगपतियों व कारोबारियों से सरकार के साथ सहयोग करने का किया आह्वाहन।

> पीएचडी चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के यूपी चैप्टर द्वारा आयोजित वेबिनार में शामिल हुए दिग्गज उद्योगपति व कारोबारी। 

> केन्द्र की नल से जल योजना के कारण पूरे देश में प्लंबर मकैनिक जैसी विधाओं के लिए स्वरोजगार के व्यापक अवसर उपलब्ध होंगे : कपिल देव अग्रवाल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में वापस आए 7 लाख प्रवासी श्रमिकों का डेटा स्किल मैपिंग के बाद प्रदेश सरकार के कौशल विकास विभाग के पास पहुँच चुका है। वर्तमान परिस्थितियों में नौकरियों के अवसरों में अभूतपूर्व कमी आयी है। इस चुनौती से निपटने के लिए प्रदेश सरकार ने प्रवासी मज़दूरों को कौशल विकास प्रशिक्षण के माध्यम से स्वरोजगार के लिए प्रेरित करने की योजना बनायी है। पीएचडी चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के यूपी चैप्टर द्वारा आयोजित एक वेबिनार में केंद्र सरकार के कैबिनेट मंत्री महेंद्र नाथ पाण्डेय व उत्तर प्रदेश सरकार के कौशल विकास राज्य मंत्री कपिल देव अग्रवाल ने यह जानकारी दी। केंद्रीय कौशल विकास मंत्री महेंद्रनाथ पांडे ने वेबिनार में मौजूद प्रमुख उद्योगपतियों व कारोबारियों से सरकार के साथ सहयोग करने व तालमेल बढ़ाने का आह्वाहन किया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार बड़े पैमाने पर प्रवासी श्रमिकों की स्किल मैपिंग कर रही है। कोरोना से निपटने के लिए योगी सरकार के कठिन परिश्रम व कारगर उपायों को पाकिस्तान जैसे देश के प्रमुख अख़बार डॉन ने भी सराहा है। उन्होंने कहा जो भी क्षेत्र अर्थव्यवस्था को सुधारने में अपना योगदान दे सकते हैं मोदी सरकार उनकी कठिनाइयों को दूर करने और उनके सहयोग को तत्पर हैं। उत्तर प्रदेश के कौशल विकास राज्य मंत्री कपिल देव अग्रवाल ने बताया कि जिस भी स्किल के माध्यम से गांवों में स्वरोजगार को बढ़ावा दिया जा सकता है हम उन्हें चिन्हित कर रहे हैं। केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना नल से जल के कारण पूरे देश में प्लंबर मकैनिक जैसी विधाओं के लिए स्वरोजगार के व्यापक अवसर उपलब्ध होंगे। हम श्रमिकों को प्लंबर मकैनिक व दर्ज़ी जैसी विधाओं का प्रशिक्षण देंगे और सरकार की योजनाओं के माध्यम से ऋण दिलाकर उन श्रमिकों समेत पटरी दुकानदार, ठेले रेहड़ी खोमचे वालों के लिए भी स्वरोजगार के अवसर पैदा करेंगे। पीएचडी चैम्बर के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट व पैरामाउंट केबल समूह के चेयरमैन संजय अग्रवाल ने कहा कि मोदी योगी सरकार की नीयत नेक है। लेकिन नीतियों के क्रियान्वयन में तेज़ी लाए जाने की आवश्यकता है। यूपी चैप्टर चेयरमैन मनोज गौड़ ने कहा कन्स्ट्रक्शन क्षेत्र को सहारा दे कर सरकार बड़े पैमाने पर रोज़गार के अवसर पैदा कर सकती है। पीएचडी चैम्बर यूपी चैप्टर के को चेयरमैन मनीष खेमका ने कहा कि प्रवासी श्रमिकों की स्किल मैपिंग के बाद यदि उद्यमियों व कारोबारियों से तालमेल बढ़ाकर नौकरियों के अवसरों को नहीं तलाशा गया तो प्रदेश सरकार का परिश्रम व्यर्थ हो जाएगा। इसके लिए एक प्रभावी तंत्र की आवश्यकता है जिसके माध्यम से स्किल मैपिंग के साथ ही रीयल टाइम के आधार पर मैच मेकिंग की प्रक्रिया को भी अंजाम दिया जा सके। इंटरनेट पर आयोजित इस वेबिनार में जापान, थाईलैंड व यूनाइटेड किंगडम के प्रवासी भारतीयों समेत भारत के अनेक उद्यमी शामिल हुए। जिनमें डीसीएम श्रीराम इंडस्ट्रीज़ के चेयरमैन आलोक श्रीराम, रैडिको खेतान लिमिटेड के चेयरमैन ललित खेतान, उत्तर प्रदेश कौशल विकास विभाग के प्रबंध निदेशक कुणाल सिल्कू, अनुना एजुकेशन के अमित इक़बाल श्रीवास्तव, जेपीएस फ़ाउंडेशन के बी सिंह व पीएचडी चैम्बर के गौरव प्रकाश, सौरभ सान्याल, रंजीत मेहता, विशाल जिंदल, विवेक सहगल व अतुल श्रीवास्तव आदि प्रमुख हैं।