उ प्र राज्य में उपखनिज लदे वाहनों पर परिवहन प्रपत्र हेतु अनुमन्य मात्रा का किया गया निर्धारण
February 28, 2020 • Mr Arun Mishra
卐 निदेशक, भूतत्व एवं खनिकर्म उ प्र ने म प्र से आने वाले ओवर लोडिंग वाहनों से प्रदेश की सड़कों को क्षतिग्रस्त होने के बारे में अवगत कराया गया।
卐 खनिजों के बाजार मूल्यों में असमानता से खनन व्यवसायियों में असन्तोष - डाॅ रोशन जैकब
लखनऊ, 27 फरवरी, 2020। निदेशक भूतत्व एवं खनिकर्म डाॅ रोशन जैकब ने निदेशक संचालनालय भौमिकी तथा खनिकर्म मध्य प्रदेश से अपेक्षा की है कि वह सड़क परिवहन मंत्रालय, भारत सरकार की अधिसूचना के अनुसार वाहनों हेतु अनुमन्य मात्रा के अनुरूप ही खनिजों का परिवहन किए जाने के सम्बन्ध में सभी सम्बन्धित को अपने स्तर से निर्देशित करें, जिससे प्रदेश के खनन व्यवसायियों को सीमावर्ती प्रदेशों की तुलना में लेवल प्लेयिंग फील्ड प्राप्त हो सके और राज्य सरकार की परिसम्पत्तियों को सुरक्षित रखा जा सके। इसके अलावा सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय भारत सरकार द्वारा जारी अधिसूचना की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए अवगत कराया है कि वाहनो के टायरों के आकार, प्रकृति और संख्या को ध्यान में रखते हुए परिवहन यानों की भार वाहन क्षमता निर्धारित की गयी है, जिसके क्रम में उ प्र राज्य में उपखनिज लदे वाहनों पर वाहनों के प्रकार के अनुसार परिवहन प्रपत्र हेतु अनुमन्य मात्रा का निर्धारण किया गया है। उन्होंने यह भी अवगत कराया है कि उत्तर प्रदेश में मध्य प्रदश राज्य से काफी संख्या में खनिज लदे वाहन आते है और क्षेत्रीय अधिकारियों द्वारा जांच के उपरान्त पाया गया है कि मध्य प्रदेश राज्य के खनिज वाहनों द्वारा सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय भारत सरकार द्वारा अनुमन्य मात्रा से अधिक मात्रा में खनिजों का परिवहन किया जा रहा है। मध्य प्रदेश के जनपदों भिण्ड, दतिया, ग्वालियर के पट्टा धारकों व पट्टा क्षेत्रों का हवाला देते निदेशक, संचालनालय भौमिकी एवं खनिकर्म मध्य प्रदेश को पत्र लिखते हुए उल्लेख किया है कि अनुमन्य मात्रा से काफी अधिक मात्रा में खनिज की ओवर लोडिंग किए जाने से उ प्र राज्य की सड़के एवं अन्य मार्ग अपनी निर्धारित अवधि के पूर्व ही क्षतिग्रस्त हो रहे हैं, तथा सीमावर्ती राज्य से आपूर्तित उपखनिजों के बाजार मूल्यों में असमानता के दृष्टिगत उ प्र के खनन व्यवसायियों में असन्तोष व्याप्त है।