उत्तर मध्य रेलवे ने तैयार किए 15000 से अधिक मास्क और 700 लीटर से अधिक सैनेटाइज़र
April 4, 2020 • Mr Arun Mishra

> कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में रेलकर्मियों द्वारा आरोग्यम सेतु ऐप का प्रयोग।

> उत्तर मध्य रेलवे स्काउट एवं गाइड कर रहे गरीब और जरूरतमंदों की सहायता।

प्रयागराज (मुख्य संवाददाता, उ म रे) देश की सबसे बड़ी परिवहन प्रणाली भारतीय रेल, कोविड-19 महामारी में योगदान करने के साथ हए संपूर्ण देश में आवश्यक वस्तुओं की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए माल गाड़ियों और पार्सल विशेष गाड़ियो के संचालन के लिए श्रृंखलाबद्ध रूप से सक्रिय प्रयास कर रही है। राष्ट्र के उत्तर से पूर्व, पश्चिम और दक्षि  को जोड़ने वाली महत्वपूर्ण जोनल रेलवे उत्तर मध्य रेलवे द्वारा इन वृहद् प्रयासों में उल्लेखनीय योगदान किया जा रहा है। शनिवार 04 अप्रैल को महाप्रबंधक उत्तर मध्य रेलवे एवं उत्तर रेलवे राजीव चौधरी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से इस महामारी के खिलाफ राष्ट्रीय लड़ाई में उठाए जा रहे महत्वपूर्ण कदमों की समीक्षा की।  महाप्रबंधक राजीव चौधरी ने रेल परिचालन में संरक्षा को अपना प्राइम फोकस बनाए रखने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि रेलवे के अच्छे कार्य को जारी रखने के लिए निर्बाद्ध रेल परिचालन अति महत्वपूर्ण है।  रेल मंत्रालय ने 04 अप्रैल को सूचित किया कि, आयुष मंत्रालय द्वारा बनाया गया आरोग्य सेतु ऐप कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में छात्रों, शिक्षकों, रेल कर्मियों एवं उनके परिवार के सद्स्यों में बहुत प्रभावी होगा। यह भी सूचित किया कि, आयुष मंत्रालय ने रेल कर्मियों एवं उनके परिवारों को ध्यान में रखते हुए उनमें रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए एक प्रोटोकॉल बनाया है। इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर/आईओएस से डाउलोड किया जा सकता है। दिनांक 3 अप्रैल, 2020 को मा प्रधानमंत्री द्वारा अपने संबोधन में किए गए आह्वान पर प्रकाश की शक्ति और हम सभी एक साथ लड़ रहे हैं की भावना का एहसास करने के लिए रेल कर्मचारी और उनके परिवार के सदस्य 5 अप्रैल (रविवार) को सांय 9 बजे 9 मिनट के लिए मोमबत्तियाँ य दीये य मोबाइल फ्लैश लाइटें जलाने को तैयार हैं। हालांकि, इसके लिए कोई भी अपने घरों के बाहर कॉलोनियों य सड़क य कहीं भी इकट्ठा नहीं हो।  उत्तर मध्य रेलवे सेंट जॉन एंबुलेंस ब्रिगेड के स्वयंसेवक भी कोविड-19 के विरुद्ध इस लड़ाई में अपना योगदान दे रहे हैं। ये स्वयंसेवक केंद्रीय चिकित्सालय, प्रयागराज की टीम को सहयोग करते हुए चिक्त्सालय आ रहे प्रत्येक व्यक्ति की प्रवेश द्वार पर थर्मल स्कैनिंग कर रहे हैं। उत्तर मध्य रेलवे के स्काउट एवं गाइड भी नि:स्वार्थ सेवा करते हुए कोविड -19 महामारी के विरुद्ध लड़ाई में अपना अमूल्य योगदान कर रहे हैं। स्काउट एवं गाइड विंग ने गरीब लोगों को आगरा में 50 परिवारों को राशन के पैकेट दिए और प्रयागराज में भोजन वितरित किया। गरीबों एवं असहाय लोगों की सहायता के अतिरिक्त ये स्वयंसेवक स्टेशनों पर ड्यूटीरत सुरक्षाकर्मियों को चाय और बिस्कुट प्रदान कर रहे उनका सहयोग कर रह हैं। रेलवे सुरक्षा बल, स्काउट एवं गाइड तथा कई लोगों के व्यक्तिगत सहयोग से उत्तर मध्य रेलवे ने अबतक विवरणानुसार असहाय लोगों को भोजन उपलब्ध कराया है। बीते 3 अप्रैल को 2334 मील सर्व किए गए। भारत सरकार के प्रमुख साइंटिफिक सलाहकार द्वारा जारी एडवाईज़री के अनुसार जो लोग किसी बिमारी या सांस की समस्या से पीड़ित नही हैं, वो घर से बाहर निकलते समय हैंडमेड रीयूज़ेबल फेसकवर का प्रयोग कर सकते हैं। उत्तर मध्य रेलवे द्वारा अपने सभी कर्मचारियों जो किसी भी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं, उनके उपयोग के लिए इनहाउस निर्मित मास्क और सैनेटाइज़र बनाने का कार्य किया जा रहा है। उत्तर मध्य रेलवे द्वारा प्रयागराज, झाँसी, आगरा की इकाइयों में 3 अप्रैल को 15004 मास्क इन हाउस बनाए गए जिससे अबतक कुल 51026 इनहाउस मास्क बनाए गए हैं। इन इकाइयों में 3 अप्रैल को 697 लीटर सेनिटाइज़र तैयार किया गया। अब तक कुल 4317 लीटर सेनिटाइज़र तैयार किया जा चुका है।