उत्तर प्रदेश में विगत वर्ष 56 लाख पर्यटक आए: मंत्री, संस्कृति, पर्यटन एवं धर्मार्थ कार्य
February 29, 2020 • Mr Arun Mishra
卐 प्रदेश में *क्रांति पथ* बनाने में बिठूर सम्मिलित होगा: डाॅ नीलकंठ तिवारी 
卐 बिठूर महोत्सव को राष्ट्रीय महोत्सव का दर्जा दिया जाए: विधायक, बिठूर 
卐 बिठूर उत्सव 2020 के प्रथम दिन संस्कृति मंत्री की अध्यक्षता में पत्थर घाट से गंगा पूजन व आरती संपन्न।
कानपुर नगर (सूचना विभाग)। बिठूर गंगा उत्सव के अवसर पर दीप प्रज्ज्वलन के पश्चात मुख्य अतिथि मंत्री  संस्कृति, पर्यटन, धर्माथ कार्य डॉ नीलकंठ तिवारी ने कहा कि राम राज्य को खोजने विदेशी लोग उत्तर प्रदेश आते हैं। कृष्ण ललित कला के पर्याय हैं। स्वतन्त्रता 1857 की चिंगारी मेरठ से उठी, बिठूर से होते हुए बलिया पहुँची। प्रदेश में *क्रांति पथ* बनाने में बिठूर सम्मिलित होगा। उन्होंने कहा कि 2019 में उत्तर प्रदेश में 56 लाख पर्यटक आए, जसमे 08 लाख विदेशी पर्यटक हैं। 2014 में मोदी जी की सरकार बनने के पश्चात पर्यटन को स्थापित उद्योग का दर्जा दिया गया है। उच्च शिक्षा राज्य मंत्री श्रीमती नीलिमा कटियार ने अपने उद्बोधन में कहा कि "कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी" क्योंकि हम अपनी ऐतिहासिक,पौराणिक एवं धार्मिक विरासत को संरक्षित रखते हुए आने वाली पीढ़ी को बताना चाहते हैं। बिठूर की धरती माँ सीता का त्याग एवं लक्ष्मीबाई की शौर्य स्थली है। विधायक बिठूर  अभिजीत सिंह सांगा ने बिठूर की जनता का हार्दिक अभिनंदन करते हुए कहा कि 1992 में पहली बार बिठूर महोत्सव का आयोजन हुआ। सृष्ठि रचना के ब्रम्हा जी का स्थल, ध्रुव की तपोभूमि व लव-कुश की जन्म स्थली है। उन्होंने कहा कि बिठूर महोत्सव को राष्ट्रीय महोत्सव का दर्जा दिया जाए ताकि नियमित बजट की व्यवस्था हो सके। इस अवसर पर महापौर कानपुर श्रीमती प्रमिला पांडेय, नगर पंचायत बिठूर श्रीमती निर्मला सिंह, विधायक महेश त्रिवेदी, विधायक सुरेंद्र मैथानी मंडलायुक्त सुधीर एम बोबडे सहित गणमान्य लोग उपस्थित रहे।