वायु प्रदूषण के शमन के लिए सरकार द्वारा उठाये गए प्रभावी कदम: बाबुल सुप्रियो
November 23, 2019 • Mr Arun Mishra

नई दिल्ली (का ० उ ० सम्पादन) सरकार देश में वायु प्रदूषण के शमन के लिए सभी प्रयास कर रही है। केंद्र सरकार ने देश में वायु प्रदूषण की रोकथाम, नियंत्रण और उन्मूलन के लिए कई नियामक उपाय किए हैं।

वायु गुणवत्ता में सुधार के लिए कार्य योजना :

 1- केंद्र सरकार ने देश भर में वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए एक दीर्घकालिक, समयबद्ध, राष्ट्रीय स्तर की रणनीति के रूप में केंद्रीय क्षेत्र “प्रदूषण पर नियंत्रण” योजना के तहत राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम (एनसीएपी) शुरू किया है। । यह पीएम10 और पीएम2.5 कंसंट्रेशन को 20% से घटाकर 30% करने का लक्ष्य रखेगा। 2017 को आधार वर्ष के रूप में रखते हुए, वायु गुणवत्ता का कंसंट्रेशन की तुलना वर्ष 2024 में 5 वर्षों के बाद की जाएगी। 102 गैर-प्राप्ति वाले शहरों में ज्यादातर इंडो-गंगा के मैदानों की पहचान 2011 से 2015 की अवधि के लिए परिवेशी वायु गुणवत्ता डेटा और डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट 2014 / 2018 के आधार पर की गई है। जमीन पर कार्यान्वयन के लिए सभी 102 गैर-प्राप्ति शहरों के लिए शहर विशिष्ट एक्शन प्लान को मंजूरी दी गई है।

 2- केंद्र सरकार ने 2018 में दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में वायु प्रदूषण की रोकथाम, नियंत्रण और शमन के लिए पहचाने जाने वाले कार्यों के लिए समयसीमा की पहचान और कार्यान्वयन एजेंसियों को एक व्यापक कार्य योजना (कम्प्रेहैन्सिव एक्शन प्लान) अधिसूचित की है।

3- दिल्ली और एनसीआर में वायु प्रदूषण की रोकथाम, नियंत्रण और उन्मूलन के लिए 12 जनवरी, 2017 को ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (जीआरएपी) अधिसूचित किया गया था। यह चार एक्यूआई श्रेणियों की प्रतिक्रिया के लिए वर्गीकृत उपायों और कार्यान्वयन एजेंसियों की पहचान करता है, अर्थात्, मॉडरेट टू पुअर, वेरी पुअर, सीवियर और सीवियर + या इमरजेंसी।

(b) सामान्य जनसंख्या के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए कई कदम उठाए गए हैं -

  1- SAMEER ऐप लॉन्च किया गया है, जिसमें वायु प्रदूषित गतिविधियों के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के प्रावधान के साथ-साथ वायु गुणवत्ता की जानकारी जनता के लिए उपलब्ध है।

 2-वायु गुणवत्ता सूचना संग्रह और प्रसार केंद्रीकृत स्थान से किया जाता है। यह सभी हितधारकों को वास्तविक समय की वायु गुणवत्ता स्थिति प्रदान करता है।

3- एक समर्पित मीडिया कॉर्नर, ट्विटर और फेसबुक अकाउंट वायु गुणवत्ता संबंधी जानकारी तक पहुंच के लिए और सामान्य आबादी द्वारा शिकायत दर्ज करने के लिए एक मंच प्रदान करने के लिए बनाए गए हैं।

4- दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता में सुधार के प्रयासों को मजबूत करने के लिए सीपीसीबी वेबसाइट के माध्यम से जनता से अभिनव विचारों / सुझावों / प्रस्तावों की क्राउड सोर्सिंग की जाती है।

5- पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय पर्यावरण शिक्षा, जागरूकता और प्रशिक्षण योजना को समाज के सभी वर्गों के बीच पर्यावरण जागरूकता को बढ़ावा देने और पर्यावरण संरक्षण के लिए लोगों की भागीदारी को बढ़ावा देने के उद्देश्य से लागू कर रहा है। मंत्रालय के राष्ट्रीय हरित वाहिनी (NGC) कार्यक्रम के तहत, लगभग एक लाख स्कूलों को इको-क्लब के रूप में चिन्हित किया गया है, जिसमें लगभग तीस लाख छात्र विभिन्न पर्यावरण संरक्षण और संरक्षण गतिविधियों में सक्रिय रूप से भाग ले रहे हैं, जिनमें वायु प्रदूषण से संबंधित मुद्दे भी शामिल हैं।

6- मंत्रालय पर्यावरण संरक्षण के लिए नागरिकों के बीच लोगों की भागीदारी और जागरूकता निर्माण को बढ़ावा दे रहा है जो साइकिल चलाने, पानी और बिजली की बचत, वृक्षों को उगाने, वाहनों के उचित रखरखाव, लेन अनुशासन का पालन करने और कार पूलिंग द्वारा सड़कों पर भीड़ को कम करने आदि पर ध्यान केंद्रित कर रहा है।

7- दिल्ली और प्रमुख एनसीआर शहरों में वायु प्रदूषण गतिविधियों पर क्षेत्र की प्रतिक्रिया के लिए, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की 46 टीमों को 7 अक्टूबर, 2019 से तैनात किया गया है।

8- 2016 से दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में वायु प्रदूषण के उन्मूलन और नियंत्रण के लिए सरकार द्वारा की गई पहल के अच्छे परिणाम आए हैं। निरंतर परिवेशी वायु गुणवत्ता निगरानी स्टेशनों के आंकड़ों के अनुसार, 2018 में 152 और 2016 में 106 की तुलना में, 2018 में 'गुड', 'संतोषजनक' और 'मॉडरेट' दिनों की संख्या उत्तरोत्तर बढ़कर 159 हो गई है। 2017 में 213 की तुलना में 'पुअर', 'वेरी पुअर' और 'गंभीर' दिनों की संख्या घटकर 206 रह गई है। दिल्ली में, 2018 में पीएम 2.5 के स्तर में कमी 2017 में 7.3% और 2016 में 14.8% से अधिक है। दिल्ली में, 2018 में PM10 के स्तर में कमी आई जोकि 2017 में 8.6% और 2016 की तुलना में 16.5% कम है।

2016 के बाद से 2019 में दिल्ली की वायु गुणवत्ता में (जनवरी 2019 से - 18 नवंबर, 2019) तक समग्र रूप से सुधार हुआ है। 2018 में 158 से तुलना में गुड एयर क्वालिटी एंड मॉडरेट एयर क्वालिटी के दिनों की संख्या बढ़कर 2019 में 175 हो गई है। पुअर एयर क्वालिटी के दिनों की संख्या 2018 में 164 की तुलना में घटकर 147 रह गयी है।

*पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने शुक्रवार को लोक सभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में यह जानकारी दी।*